(Download) संघ लोक सेवा आयोग सिविल सेवा - मुख्य परीक्षा विधि Paper-2- 2017

UPSC CIVIL SEVA AYOG


संघ लोक सेवा आयोग सिविल सेवा - मुख्य परीक्षा

(Download) UPSC IAS Mains Exam 2017

(Law) विधि(Paper-2)


Exam Name: UPSC IAS Mains LAW ( विधि ) (Paper-2)

Marks: 250

Time Allowed: 3 Hours

खण्ड A

प्रश्न 1. निम्नलिखित प्रत्येक का उत्तर लगभग 150 शब्दों में दीजिये | विविध प्रावधानों व न्यायिक निर्णयों की सहायता से अपने उत्तर का समर्थन कीजिये :

(a) ''विधि इस बात को मान्यता प्रदान करती है कि 'भूल' का सद्भभावकपूर्णक होना आवश्यक है '' इस पृष्टभूमि में दंड संहिता के सामान्य अपवादों के अधीन 'भूल ' प्रतिरक्षा को समझाइये |
(b) सभी लूटों में या तो चोरी होती है या उद्यापन | व्याख्या कीजिए |
(c) '' सिविल अधिकार सरंक्षण अधिनियम, 1955 का उदेशय अस्पृश्यता का अंत करना है | '' विवेचना कीजिये |
(d) '' कहा जाता है कि अपकृत्य की विधि का विकास ' जहां अधिकार है , वहां उपचार भी है ' के सूत्र से हुआ है | '' इस कथन पर चर्चा कीजिए |
(e) अपकृत्य के दाइत्व के बचाव के लिए ' आवश्यकता ' को स्पस्ट कीजिए और इसके साथ आवश्यकता के वर्गों का भी उल्लेख कीजिए |

प्रश्न 2.

(a) '' भारतीय दंड सहिंता में धरा 34 उन मामलो को सिमटने की लिए की गई है जिनमे आपराधिक कार्य में प्रत्येक व्यक्ति के द्वारा लिए गए भाग का परिशुद्धतापूर्वक प्रभेद करना अत्यंत कठिन होता है | ''
इस धारा के तर्काधार का परीक्षण करते हुए विनिर्णीत वादों की सहायता से उत्तर का समर्थन कीजिए |
(b) दण्ड विधि (संशोधन) अधिनियम, 2013 के माध्यम से किसी स्त्री की लज्जा-भंग करने के उन विभिन्न प्रकारो पर चर्चा कीजिए, जिनको भारतीय दण्ड सहिंता में दण्डनीय बनाया गया है |
(c) कम अपकृत्य की विधि के अधीन युक्तियुक्त सावधानी बरतने पर भी कोई व्यक्ति उपेक्षा के अपकृतय के लिए जिम्मेदार होता है ? चर्चा कीजिए |

प्रश्न 3.

(a) '' आपराधिक मानव- वध और हत्या के बिच अत्यंत सूक्षम किन्तु बारीक़ और दुर्बोध विभेद है | यह अंतर अनुवति मृत्यु की संभाविता की केवल विभिन्न कोटियों में निहित है | '' इस कथन पर चर्चा कीजिए और निर्णीत मामलो का उल्लेख कीजिए |
(b) कब मालिक अपने सेवक के द्वारा किये गए अपकृत्यों के लिए उत्तरदायी नहीं होता है ? व्याख्या कीजिए |
(c) मानहानि के अपकृत्य की प्रतिरक्षाओं का उल्लेख कीजिए तथा इस पर भी चर्चा कीजिए की क्या भारतीय दण्ड सहिंता, 1860 के अधीन मानहानि के अपराध के अपवादों को प्रतिवादी के द्वारा अतिरिक्त अधरों के रूप में माँगा जा सकता है |

प्रश्न 4.

(a) '' उपभोक्ता सरंक्षण परिषदें भी उपभोक्ताओ के सरंक्षण में अत्यंत महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही है | '' इस कथन का परीक्षण कीजिए तथा केंद्रीय, राजकीय व् जिला उपभोक्ता सरंक्षण परिषदों के उद्देश्य, गठन तथा प्रकार्यो को विस्तारपूर्वक स्पस्ट कीजिए |
(b) '' आपराधिक प्रयत्न गठित करने के लिए करीत कार्यो का आशयित परिणामो के सत्रिकट होना आवश्यक होता है | '' निर्णीत वाद-विधि की सहायता से सम्प्रेक्षण को समझाइए |
(c) ' दायित्व नहि' की संकल्पना को समझाते हुए उन भारतीय अधिनियम का उल्लेख कीजिए, जिनमे इस संकल्पना को समाहित किया गया है |

Click Here to Download PDF

UPSC सामान्य अध्ययन सिविल सेवा मुख्य परीक्षा अध्ययन सामग्री

UPSC GS PRE Cum MAINS (HINDI Combo) Study Kit

खण्ड B

प्रश्न 5. निम्नलिखित प्रत्येक का उत्तर लगभग 150 शब्दों में दीजिए | उपयुक्त विधिक उपबंधों और न्यायिक निर्णयों की सहायता से अपने उत्तर का समर्थन कीजिए :

(a) '' आवश्यकता को केवल ढाल के रूप में ही प्रयोग किया जा सकता है, तलवार के रूप में नहीं | '' इस कथन की व्याख्या कीजिए तथा उन परिस्तिथियों का उल्लेख कीजिए, जिनमे अवयस्क सविंदा की विधि के अधीन दायी होता है |
(b) '' लोक निति एक 'बेलगाम घोड़े ' की तरह होती है, जिसे सुगमता से नियंत्रित नहीं किया जा सकता है '' इस कथन की व्याख्या कीजिए तथा उन करारों का उल्लेख कीजिए जो लोक निति के विरुद्ध होते है |
(c) '' मार्गस्थ मॉल के रोके का अधिकार तब आरम्भ होता है जब धारणाधिकार समाप्त हो जाता है | '' चर्चा कीजिए |
(d) कॉपीराइट अधिनियम, 1957 के अधीन कॉपीराइट अतिलंघन के लिए कार्यवाई प्रतिवादी द्वारा अभिवचन किए जा सकने वाले विभिन्न प्रतिवदो पर चर्चा कीजिए |
(e) ट्रेडमार्क का अतिलंघन कब होता है ? ट्रेडमार्क के अतिलंघन की परमावश्यक बातों पर चर्चा कीजिए | रजिस्टर्ड ट्रेडमार्क का अतिलंघन न बनने वाले कार्यो को लिखिए |

प्रश्न 6.

(a) राष्ट्रीय हरित अधिकरण के गठन, क्षेत्राधिकार, शक्तियों व प्राधिकार की चर्चा कीजिए | यह अपने उद्देश्यों को प्राप्त करने में कितना सफल हुआ है | हाल के निर्णयों की सहायता से समझाइए |
(b) '' प्रस्ताव का प्रतिसंहरण प्रस्ताव की मृत्यु होता है | इस कथन की व्याख्या कीजिए और प्रतिहांसरण के तरीको का उल्लेख कीजिए |
(c) ' धारक ' और 'सम्यक- अनुक्रम-धारक' की व्याख्या कीजिए तथा दोनों के बिच विभेद कीजिए | उनके अधिकारों पर भी चर्चा कीजिए |

प्रश्न 7.

(a) '' भारतीय संविदा अधिनियम, 1872 की धरा 74 ने कॉमन लॉ के नुकसानी के अधिनिर्णय के सिद्धांत की सर्वधिक दु: खदायी गांठ को काट दिया है | '' इस कथन की व्याख्या कीजिए |
(b) '' भारत में पर्यावरण के सरंक्षण में लोकहित मुकदमेबाजी ने अत्यंत निर्णायक भूमिका अदा की है | '' निर्णीत वादों की सहायता से उदहारण देते हुए सविस्तार समझाइए |
(c) '' शासन की पारदर्शिता के होते हुए भी सुचना का अधिकार अधिनियम, 2005 के अंतर्गत कुछ विशेष सूचनाओं को प्रकटन से छूट दे दी गयी है | '' सुचना के प्रकटन पर तत्सम्बन्धी प्रावधानों और परिसीमाओं की चर्चा कीजिए |

प्रश्न 8.

(a) भारतीय संविदा अधिनियम 1872 के अधीन पक्षकारो के द्वारा कब समझा जाता हे कि संविदा किया जा चूका हैं? चर्चा कीजिये।
(b) '' पेटेन्ट प्राप्त करने के लिए अन्वेषण को कुछ विशेष शर्ते पूरी करनी पड़ती है | '' इस कथन का समालोचनापूर्वक परीक्षण कीजिए |
(c) 'अधिष्ठायी स्तिथि के दुरूपयोग ' के सन्दर्भ में प्रतिस्पर्धा अधिनियम,2002, एकाधिकार तथा अवरोधक व्यापारिक व्यव्हार अधिनियम , 1969 ( एम् आर टी पि एक्ट, 1969 ) पर कितना सुधारात्मक है ? चर्चा कीजिए तथा तत्सम्बन्धी क़ानूनी प्रावधनों को समझाइए |

Click Here to Download PDF

UPSC सामान्य अध्ययन सिविल सेवा मुख्य परीक्षा अध्ययन सामग्री

UPSC GS PRE Cum MAINS (HINDI Combo) Study Kit

<< Go Back to Main Page