(Download) संघ लोक सेवा आयोग सिविल सेवा - मुख्य परीक्षा समाजशास्त्र Paper-1 - 2020

UPSC CIVIL SEVA AYOG
संघ लोक सेवा आयोग सिविल सेवा - मुख्य परीक्षा (Download) UPSC IAS Mains Exam 2020 समाजशास्त्र (Paper-1)

खण्ड ‘A’

Q1. निम्नलिखित में से प्रत्येक प्रश्न का उत्तर लगभग 150 शब्दों में दीजिए: 10x5=50 

(a) समाजशास्त्र के उद्गम में बौद्धिक शक्तियों ने किस तरह योगदान दिया ? विवेचना कीजिए । 

(b) क्या समाजशास्त्र एक मूल्य-निरपेक्ष विज्ञान है ? विवेचना कीजिए । 

(c) प्रणाली विज्ञान नियमों, सिद्धान्तों एवं प्रक्रियाओं की एक ऐसी व्यवस्था है, जो वैज्ञानिक शोध को रूप देती है । टिप्पणी कीजिए । 

(d) मैक्स वेबर के ‘आदर्श प्ररूप' मानसिक संरचनाएँ हैं, जो वास्तविकता के अनुरूप नहीं हैं । अपने विचार दीजिए। 

(e) सामाजिक परिवर्तन के अध्ययन में 'प्रतिमान परिवर्तियों की प्रासंगिकता का विश्लेषण कीजिए। 

Q2. (a) सामाजिक मानवशास्त्रियों के प्रकार्यवाद के बारे में आर.के. मर्टन की प्रतिक्रियाएँ क्या हैं ? निहित प्रकार्यों की सीमाओं के बारे में टिप्पणी कीजिए। 

(b) समाज के रूपान्तरण (ट्रांसफोर्मेशन) में पदानुक्रम एवं बहिष्करण किस तरह प्रमुख बाधक हैं ? विवेचना कीजिए। 

(c) प्रजातन्त्र को समाज की एक व्यवस्था के रूप में स्पष्ट कीजिए । राजनीति में लोगों की भागीदारी को रोकने वाले कारक क्या हैं ? 20 

Q3. (a) पूँजीवाद ने समाज में काम की अनौपचारिकता को बढ़ावा दिया है । अपने उत्तर द्वारा प्रमाणित कीजिए।

(b) दुर्शीम के अनुसार धार्मिक जीवन के प्रारम्भिक रूपों (एलिमैन्ट्री फॉर्स ऑफ रिलिजियस लाइफ़) और धर्म की भूमिका का आलोचनात्मक विश्लेषण कीजिए । समकालीन समाज में धार्मिक पुनर्जागरणवाद के परिणामों की भी चर्चा कीजिए । 

(c) आधुनिक भारतीय समाज में नातेदारी प्रणाली पर क्षेत्रीय विवाह के परिणामों की चर्चा कीजिए। 

Q4. (a) क्या मानवता प्रकृति, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी की दयालुता पर निर्भर है ? महामारी के सन्दर्भ में टिप्पणी कीजिए। 

(b) दुर्थीम के अनुसार “शिक्षा का महत्त्वपूर्ण कार्य समाज के मानकों एवं मूल्यों का प्रसार करना है ।” विवेचना कीजिए। 

(c) सामाजिक गतिशीलता का बन्द एवं खुली व्यवस्थाओं के सन्दर्भ में आलोचनात्मक मूल्यांकन कीजिए। 

UPSC सामान्य अध्ययन सिविल सेवा मुख्य परीक्षा अध्ययन सामग्री

UPSC GS PRE Cum MAINS (HINDI Combo) Study Kit

खण्ड 'B' 

Q5. निम्नलिखित में से प्रत्येक प्रश्न का उत्तर लगभग 150 शब्दों में दीजिए: 10x5350 

(a) क्या भारत में समाजशास्त्र के कार्यक्षेत्र में भूमण्डलीकरण के सन्दर्भ में बदलाव आ रहा है ? टिप्पणी कीजिए। 

(b) सामाजिक शोध में परिकल्पना के महत्त्व एवं स्रोतों की चर्चा कीजिए । 10 

(c) दुर्शीम के विचारों के अनुसार सामाजिक तथ्यों के अवलोकन में आने वाली समस्याएँ क्या है 10 

(d) पूर्व-आधुनिक समाजों में विभिन्न धार्मिक आस्थाओं एवं व्यवहारों के कारणों का उल्लेख कीजिए। 

(e) क्या भारतीय समाज में विवाह की संस्था अभी भी पवित्र मानी जाती है ? टिप्पणी कीजिए। 10 

Q6. (a) नई श्रम संहिताओं की विवेचना कीजिए और इनके भारत में औपचारिक एवं अनौपचारिक  श्रमिकों पर पड़ने वाले प्रभावों का वर्णन कीजिए । 20 

(b) मिल्स के अनुसार, “विशिष्ट वर्ग संस्थागत दृष्टि से शासन करता है न कि मनोवैज्ञानिक दृष्टि से ।” टिप्पणी कीजिए। 20 

(c) सामाजिक शोध में सामाजिक सर्वेक्षण पद्धति की योग्यताओं एवं कमजोरियों का विश्लेषण कीजिए। 

Q7. (a) प्रौद्योगिकी ने प्रगति एवं निर्भरता की प्रक्रिया को बढ़ावा दिया है । विवेचना कीजिए । 

 (b) समाजशास्त्र में घटनात्मक दृष्टिकोण, प्रत्यक्षवाद की बहुत सी पूर्वधारणाओं को अस्वीकार करते हैं । टिप्पणी कीजिए। 

(c) मार्क्स के 'अलगाववाद' के सिद्धान्त का आलोचनात्मक मूल्यांकन कीजिए । 

Q8. (a) सामाजिक परिवर्तन में मार्क्स सामाजिक संघर्ष को कैसे एक मौलिक तत्त्व के रूप में मानता 20 

(b)  समाज के विकास पर श्रम के लिंग-विभाजन के पड़ने वाले प्रभाव कौन-से हैं ? 

(c) परीक्षण कीजिए कि सामाजिक आन्दोलनों का अन्त कैसे होता है । उदाहरणों सहित स्पष्ट कीजिए। 20 

Click Here to Download PDF

UPSC Mains Sociology (Optional) Study Materials

DOWNLOAD UPSC मुख्य परीक्षा Main Exam GS सामान्य अध्ययन प्रश्न-पत्र PDF

DOWNLOAD UPSC MAINS GS 10 Year PAPERS PDF

DOWNLOAD UPSC MAINS GS SOLVED PAPERS PDF

UPSC Mains Sociology (Optional) Study Materials

UPSC सामान्य अध्ययन सिविल सेवा मुख्य परीक्षा अध्ययन सामग्री

UPSC GS PRE Cum MAINS (HINDI Combo) Study Kit