(Download) यूपीएससी आईएएस प्रारंभिक परीक्षा 2017 - CSAT (पेपर-2)

IAS EXAM


(Download) यूपीएससी आईएएस प्रारंभिक परीक्षा 2017 - CSAT (पेपर - 2)


  • परीक्षा का नाम: UPSC PRE 2017 आईएएस (प्री)
  • विषय(Subject) : सामान्य अध्ययन (पेपर -2) CSAT
  • साल (Year): 2017

निम्नलिखित 7 सात प्रश्नांशों के लिए निर्देशः निम्नलिखित सात परिच्छेदों को पढ़िए और उनके नीचे आने वाले प्रश्नांशों के उत्तर दीजिए। इन प्रश्नांशों के लिए आपके उत्तर केवल इन परिच्छेदों पर ही आधारित होने चाहिए।

परिच्छेद - 1

वायु गुणता सूचकांक एयर काॅलिटी इंडेक्स (AQI), बहुत से वायु प्रदूषकों की मापों को एकल संख्या अथवा अनुमतांक (रेटिंग) में जोड़कर दिखाने का एक तरीका है। आदर्श रूप में, इस सूचकांक को सतत रूप से अद्यतन (अपडेट) बनाए रखा जाता है और यह विभिन्न स्थानों पर उपलब्ध रहता है। । AQI सर्वाधिक उपयोगी तब होता है जब बहुत सारे प्रदूषण-आँकड़े एकत्रित किए जा रहे हों, और जब प्रदूषण के स्तर, हमेशा तो नहीं, लेकिन आमतौर पर निम्न रहते हों। इन दशाओं में, यदि प्रदूषण-स्तर कुछ दिनों के लिए अचानक बढ़ जाए, तो जनता वायु गुणता चेतावनी की प्रतिक्रिया में शीघ्रता से निरोधक कार्रवाई (जैसे कि घर के भीतर रहना) कर सकती है। दुर्भाग्य से, शहरी भारत की हालत ऐसी नहीं है। कई बड़े भारतीय शहरों में प्रदूषण-स्तर इतने अधिक होते हैं कि वे वर्ष के ज्यादातर दिनों में स्वास्थ्य के मानकों अथवा नियामक मानकों से ऊपर बने रहते हैं। यदि हमारा सूचकांक दिन पर दिन 'लाल/खतरनाक' दायरे में बना रहता है, तो किसी के लिए भी ज्यादा कुछ करने लायक नहीं रहता सिवाए इसके कि इनकी उपेक्षा करने की आदत बना ले।

1. उपर्युक्त परिच्छेद से, निम्नलिखित में से कौन-सा सर्वाधिक तार्किक और तर्कसंगत निष्कर्ष (इन्फरेंस) निकाला जा सकता है ?

  1. हमारे शहरों को प्रदूषण-मुक्त रखने के लिए हमारी सरकारें पर्याप्त रूप से जिम्मेवार नहीं हैं।
  2. हमारे देश में वायु गुणता सूचकांको की बिल्कुल ही आवश्यकता नहीं है।
  3. हमारे बड़े शहरों के बहुत-से निवासियों के लिए वायु गुणता सूचकांक सहायक नहीं है।
  4. प्रत्येक शहर में, प्रदूषण-सम्बन्धी समस्याओं के बारे में जन-जागरूकता बढ़नी चाहिए।

परिच्छेद - 2

उत्पादक नौकरियाँ जॉब विकास के लिए महत्वपूर्ण हैं और अच्छी नौकरी सर्वोत्तम प्रकार का समावेशन है। हमारी आधी से अधिक जनसंख्या कृषि पर निर्भर है, परन्तु अन्य देशों के अनुभव से पता चलता है कि यदि कृषि में प्रति व्यक्ति आय पर्याप्त रूप में बढ़ानी है, तो कृषि पर निर्भर व्यक्तियों की संख्या में कमी लानी चाहिएं। जँहा एक ओर उद्योग में नौकरियाँ सृजित की जा रही हैं, वहीं असंगठित क्षेत्र में ऐसी बहुत सारी नौकरियाँ निम्न उत्पादकता वाली गैर-संविदागत नौकरियाँ होती हैं, जिनमें कम आय और न के बराबर सुरक्षा दी जाती है तथा कोई हितलाभ नहीं दिए जाते। इनकी तुलना में सेवा-क्षेत्र की नौकरिया उच्च उत्पादकता वाली होती हैं, परन्तु सेवाओं में रोजगार-वृध्दि हाल के वर्षो में धीमी रही है।

2. उपर्युक्त परिच्छेद से, निम्नलिखित में से कौन-सा सर्वाधिक तार्किक और तर्कसंगत निष्कर्ष (इन्फरेंस) निकाला जा सकता है?

  1. रोजगार-वृध्दि और समावेशन को सुनिश्चित करने के लिए हमें अत्यधिक उत्पादक सेवा-क्षेत्र की नौकरियों के तीव्रतर विकास की परिस्थितियों को उत्पन्न करना आवश्यक है।
  2. आर्थिक वृध्दि और समावेशन को सुनिश्चित करने के लिए हमें खेतिहर कामगारों को अत्यधिक उत्पादक विनिर्माण और सेवा-क्षेत्रों में स्थानांतरित करना आवश्यक है।
  3. हमें कृषि की उत्पादकता बढ़ाने के साथ-साथ कृषि-क्षेत्र से बाहर उत्पादक नौकरियों के तीव्रतर विकास की परिस्थितियों को उत्पन्न करना आवश्यक है।
  4. कृषि में प्रति व्यक्ति आय में वृध्दि लाने के लिए हमें उच्च उपज वाली संकर किस्मों और आनुवंशिकतः रूपांतरित (जेनेटिकली मॉडिफाइड) फसलों की खेती पर बल देना आवश्यक है।

परिच्छेद - 3

भूमि उपयोग में दृश्यभूमि पैमाने के उपागम (अप्रोच) से, संरक्षित क्षेत्रों के बाहर और अधिक जैव विविधता को प्रोत्साहन मिल सकता है। वर्ष 1998 में प्रभंजन (हरिकन) ’मिच’ के दौरान, पर्यावरणीय कृषि पध्दतियों के उपयोग करने वाले फार्मो का, पारम्परिक तकनीकों के उपयोग करने वाले फार्मो की तुलना में, क्रमशः होंडुरास, निकारागुआ और ग्वाटेमाला में 58 प्रतिशत, 70 प्रतिशत और 99 प्रतिशत, कम नुकसान हुआ। कोस्टारिका में, वानस्पतिक वात-रोधों (विंडब्रेक्स) और बाड़ कतारों के उपयोग से, पक्षी-विविधता में वृध्दि के साथ-साथ, किसानों की चरागाह और कॉफी से होने वाली आय में अत्यधिक बढ़ोतरी हुई। प्राकृतिक अथवा अर्ध-प्राकृतिक आवास के निकटतर कृषि-भूमि होने पर मधुमक्खियों से होने वाला परागण अधिक प्रभावकारी होता है, यह निष्कर्ष महत्वपूर्ण है, क्योंकि विश्व की 107 अग्रणी फसलों का 87 प्रतिशत परागण करने वाले जंतुओं पर निर्भर है। कोस्टारिका, निकारागुआ और कोलम्बिया में, वन-पशुचारी (सिल्वोपास्टरल) प्रणालियाँ, जिनमें पेड़ चरागाह-भूमियों के साथ एकीकृत हैं, पशु-उत्पादन की धारणीयता में सुधार ला रही हैं और किसानों की आय में विविधता और वृध्दि ला रही हैं।

3. उपर्युक्त परिच्छेद से, निम्नलिखित में से कौन-सा सर्वाधिक तार्किक और तर्कसंगत निष्कर्ष (इन्फरेंस) निकाला जा सकता है?

  1. जैव विविधता को बढ़ाने वाली कृषि पद्धतियाँ प्रायः फार्म उत्पादन में वृध्दि और आपदाओं के प्रति असुरक्षितता को कम करती हैं।
  2. विश्व के सभी देषों को पर्यावरणीय कृषि के स्थान पर पारम्परिक कृषि करने के लिए प्रोत्साहित किया जाना चाहिए।
  3. संरक्षित क्षेत्रों में, वहाँ की जैव विविधता को नष्ट किए बिना, पर्यावरणीय कृषि की अनुमति दी जानी चाहिए।
  4. खाद्य फसलों की उपज तब अत्यधिक होगी, जब उनकी खेती में पर्यावरणीय कृषि पद्धतियाँ अपनायी जाए।

परिच्छेद - 4

भारतीय विनिर्माण के लिए मध्यावधि चुनौती, निम्नतर से उच्चतर प्रौद्योगिक क्षेत्रों, निम्नतर से उच्चतर मूल्यर्धित क्षेत्रों और निम्नतर से उच्चतर उत्पादकता क्षेत्रों की ओर बढ़ने की है। मध्यम प्रौद्योगिक उद्योगों में मुख्य रूप से अत्यधिक पूँजी लगी होती है और उनमें संसाधनों का प्रक्रमण होता है; और उच्च प्रौद्योगिक उद्योगों में मुख्य रूप से अत्यधिक पूँजी और प्रौद्योगिकी लगी होती है। सम्पूर्ण GDP में विनिर्माण के हिस्से को प्रकल्पित 25 प्रतिशत तक बढ़ाने के लिए भारतीय विनिर्माण क्षेत्र को, विश्व-बाजार के उन क्षेत्रों पर कब्जा करने की आवश्यकता है, जिनमें बढ़ती हुई माँग की प्रवृत्ति हैं। इन क्षेत्रों में अधिकांश रूप से उच्च प्रौद्योगिकी और पूँजी लगी होती है।

4. उपर्युक्त परिच्छेद से, निम्नलिखित में से कौन-सा सर्वाधिक तार्किक और तर्कसंगत निष्कर्ष (इन्फरेंस) निकाला जा सकता है?

  1. मध्यम प्रौद्योगिक और संसाधनों का प्रक्रमण करने वाले उद्योगों में, भारत की GDP, उच्च मूल्य-वर्धित तथा उच्च उत्पादकता स्तरों को दर्शाती है।
  2. भारत में अत्यधिक पूँजी और प्रौद्योगिकी वाले विनिर्माण का संवर्धन करना सम्भव नहीं है।
  3. भारत को, अनुसंधान एवं विकास, प्रौद्योगिकी उन्नयन और कौशल विकास में सरकारी निवेश बढ़ाना चाहिए और गैर-सरकारी निवेशों को प्रोत्साहित करना चाहिए।
  4. भारत ने पहले से ही विश्व बाजार के उन क्षेत्रों में बड़ हिस्सा प्राप्त कर लिया है, जिनमें बढ़ती हुई माँग की प्रवृत्ति है।

परिच्छेद - 5

पिछले दशक के दौरान भारतीय कृषि, खाद्यान्न व तिलहन का रिकॉर्ड उत्पादन करने के साथ, और अधिक सुदृढ़ हुई है। इसके परिणामस्वरूप बढी हुई खरीद से भंडारगृहों में खाद्यान्न के स्टॉक मे भारी बढोतरी हुई हैं। भारत चावल, गेहूँ , दूध, फलों व सब्जियों के विश्व के शीर्ष उत्पादकों में से एक है। फिर भी विश्वभर के न्यूनपोषित लोगों का एक-चौथाई भाग भारत में है। औसत रूप से, देश के कुल परिवारों के लगभग आधे परिवारों में कुल व्यय का लगभग आधा व्यय भोजन पर होता है।

5. निम्नलिखित में से कौन-सा उपर्युक्त परिच्छेद का सर्वाधिक तार्किक उपनिगमन (कोरोलरी) है?

  1. गरीबी और कुपोषण को कम करने के लिए खेत-से-थाली (फार्म-टु-फार्क) तक की मूल्य श्रृंखला की दक्षता में बढ़ोतरी करना जरूरी है।
  2. कृषि उत्पादकता में बढ़ोतरी करने से भारत में स्वतः ही गरीबी और कुपोषण दूर हो जाएगा।
  3. भारत की कृषि उत्पादकता पहले से ही बहुत अधिक है और इसे और अधिक बढ़ाया जाना आवश्यक नहीं है।
  4. सामाजिक कल्याण और गरीबी उन्मूलन कार्यक्रमों के लिए अधिक निधि का आबंटन करने से भारत से गरीबी और कुपोषण का अन्ततः उन्मूलन हो जाएगा।

परिच्छेद - 6

राज्य मोतियों के समान हैं तथा केन्द्र वह धागा है जो उन्हें हार में पिरोता है; यदि धागा टूट जाए, तो मोती बिखर जाते हैं।

6. निम्नलिखित विचारों में से कौन-सा एक उपर्युक्त कथन की संपुष्टि करता है?

  1. शक्तिशाली केन्द्र और शक्तिशाली राज्य, एक मजबूत संघ (फेडरेशन) बनाते हैं।
  2. शक्तिशाली केन्द्र, राष्ट्रीय अखण्डता हेतु एक बंधनकारी शक्ति है।
  3. शक्तिशाली केन्द्र, राज्य स्वायत्तता में बाधा है।
  4. राज्य की स्वायत्तता, संघ (फेडरेशन) के लिए पूर्वापेक्षा है।

परिच्छेद - 7

वास्तव में, मेरा मानना है कि इंग्लैंड में निर्धनतम व्यक्ति को भी एक वैसा ही जीवन जीना है जैसा कि महानतम व्यक्ति को, और इसलिए सच में, मैं मानता हूं कि यह स्पष्ट है कि हर उस व्यक्ति का, जिसे सरकार के अधीन रहना है, सबसे पहले अपनी सहमति से स्वयं को सरकार के अधीन कर देना चाहिए, और मेरा यह अवश्य मानना है कि इंग्लैंड का निर्धनतम व्यक्ति, सही अर्थ में ऐसी सरकार से कतई बंधा हुआ नहीं है जिसके अधीन स्वयं को करने में उसकी कोई राय नहीं रही हो।

7. उपर्युक्त कथन किसके समर्थन में तर्क प्रस्तुत करता है?

  1. सम्पत्ति का सबको समान वितरण
  2. शासितों की सहमति के अनुसार शासन
  3. निर्धनों के हाथ में शासन
  4. धनिकों का स्वत्वहरण (एक्सप्रोप्रिएशन)

8. किसी शहर में पहले चार दिन औसत वर्षा 0.40 इंच दर्ज की गई। आखिरी दो दिन 4:3 के अनुपात में वर्षा हुई। छः दिनों की औसत वर्षा 0.50 इंच थी। पाँचवें दिन कितनी वर्षा हुई?

  1. 0.60 इंच
  2. 0.70 इंच
  3. 0.80 इंच
  4. 0.90 इंच

निम्नलिखित 3 (तीन) प्रश्नांशों के लिए निर्देशः

दी गयी सूचना पर विचार कीजिए और उनके नीचे आने वाले तीन प्रश्नांशों के उत्तर दीजिए।

व्याख्याता A, B, C, D, E, F और G विभिन्न शहर-हैदराबाद, दिल्ली, शिलॉग्ड़, कानपुर, चेन्नई, मुंबई और श्रीनगर (आवश्यक नहीं कि इसी क्रम में हों) के हैं जो एक सम्मेलन में शामिल हुए। इनमें से प्रत्येक व्याख्याता अलग-अलग विषय-अर्थशास्त्र, वाणिज्य इतिहास, समाजशास्त्र, भूगोल, गणित और सांख्यिकी (आवश्यक नहीं कि इसी क्रम में हों) का विशेषज्ञ है। इसके साथ ही

  1. कानपुर का व्याख्याता भूगोल में विशेषज्ञ है
  2. व्याख्याता D, शिलॉंग का है
  3. व्याख्याता C, जो दिल्ली का है, समाजशास्त्र में विशेषज्ञ है
  4. व्याख्याता B, न तो इतिहास में न ही गणित में, विशेषज्ञ है
  5. व्याख्याता A, जो अर्थशासस्त्र में विशेषज्ञ है, हैदराबाद का नहीं है
  6. व्याख्याता F, जो वाणिज्य में विशेषज्ञ है, श्रीनगर का है
  7. व्याख्याता G, जो सांख्यिकी में विशेषज्ञ है, चेन्नई का है

9. भूगोल में विशेषज्ञ कौन है?

  1. B
  2. D
  3. E
  4. निर्धारित नहीं किया जा सकता क्योंकि आँकड़े अपर्याप्त हैं

10. अर्थशास्त्र में विशेषज्ञ व्याख्याता किस शहर का है?

  1. हैदराबाद
  2. मुंबई
  3. न तो हैदराबाद, न ही मुंबई
  4. निर्धारित नहीं किया जा सकता क्योंकि आँकड़े अपर्याप्त हैं

11. निम्नलिखित में से कौन हैदराबाद का है?

  1. B
  2. E
  3. न तो B, न ही E
  4. निर्धारित नहीं किया जा सकता क्योंकि आँकड़े अपर्याप्त हैं

12. किसी पाठशाला में पाँच शिक्षक A, B, C, D और E हैं। A और B हिन्दी तथा अंग्रेजी पढ़ाते हैं। C और B अंग्रेजी और भूगोल पढ़ाते हैं। D और A गणित और हिन्दी पढ़ाते हैं। E और B इतिहास और फ्रेंच पढ़ाते हैं। सबसे अधिक विषय कौन पढ़ाता है?

  1. A
  2. B
  3. D
  4. E

13. एक 2-अंकीय संख्या को उत्क्रमित किया गया। उन दो संख्याओं में से बड़ी संख्या को छोटी संख्या से विभाजित किया गया। वृहत्तम संभव शेषफल क्या है?

  1. 9
  2. 27
  3. 36
  4. 45

 

14. X और Y की मासिक आय 4:3 के अनुपात में हैं और उनके मासिक व्यय 3:2 के अनुपात में है। फिर भी, उनमें से प्रत्येक प्रतिमाह रूपये 6,000 की बचत करता है। उनकी कुल मासिक आय क्या है?

  1. रूपये 28,000
  2. रूपये 42,000
  3. रूपये 56,000
  4. रूपये 84,000

15. किसी कमरे की दो दीवारें और एक छत बिन्दु P पर समकोण बनाते हुए मिलती हैं। एक मक्खी हवा में है जो पहली दीवार से 1 m, दूसरी दीवार से 8 m तथा बिन्दु P से 9 m दूर है। वह मक्खी छत से कितने मीटर दूर है?

  1. 4
  2. 6
  3. 12
  4. 15

निम्नलिखित 3 (तीन) प्रश्नांशों के लिए निर्देशः

निम्नलिखित सूचना पर विचार कीजिए और उनके नीचे आने वाले तीन प्रश्नांशों के उत्तर दीजिए।

आठ रेलवे स्टेशन A, B, C, D, E, F, G और H या तो दो-तरफा मार्गों या एक-तरफा मार्गों से जुड़े हैं। एक-तरफा मार्ग C से A तक, E से G तक, B से F तक, D से H तक, G से C तक E से C तक H से G तक हैं। दो-तरफा मार्ग A और E के बीच, G और B के बीच, F और D के बीच, तथा E और D के बीच हैं।

16. C से H तक यात्रा करते हुए निम्नलिखित स्टेशनों में से किस एक से गुजरना ही होगा?

  1. G
  2. E
  3. B
  4. F

17. कोई रेलगाड़ी F से A तक किसी स्टेशन को बिना एक बार से अधिक पार किए कितने विभिन्न प्रकार से जा सकती है?

  1. 1
  2. 2
  3. 3
  4. 4

18. यदि G और C के बीच का मार्ग बंद कर दिया जाता है, तो H से C तक यात्रा करते समय निम्नलिखित स्टेशनों में से किस एक से गुजरने की आवश्यकता नहीं होगी?

  1. E
  2. D
  3. A
  4. B

19. कुछ 2-अंकीय संख्याएं हैं। इन संख्याओं और इनके अंकों को उलट देने पर बनने वाली संख्याओं का अंतर सदैव 27 रहता है। ऐसी अधिकतम कितनी 2-अंकीय संख्याएं हैं?

  1. 3
  2. 4
  3. 5
  4. उपर्युक्त में से कोई नहीं

20. यदि 150 पृष्ठों की एक पुस्तक में 1 से 150 तक संख्याएं अंकित करनी हैं, तो पुस्तक में मुद्रित अंको की कुल संख्या क्या है?

  1. 262
  2. 342
  3. 360
  4. 450

निम्नलिखित 8 (आठ) प्रश्नांशों के लिए निर्देशः

निम्नलिखित सात परिच्छेदों को पढ़िए और उनके नीचे आने वाले प्रश्नांशों के उत्तर दीजिए। इन प्रश्नांशो के लिए आपके उत्तर केवल इन परिच्छेदों पर ही आधारित होने चाहिए।

परिच्छेद - 1

परम्परागत संस्थाओं, पहचानों और निष्ठाओं के विघटन से दो-तरफा (ऐम्बिवैलेंट) स्थ्तियाँ उत्पन्न होने की सम्भावना होती है। यह सम्भव है कि कुछ लोग परम्परागत समूहों के साथ फिर से अपनी नई पहचान बनाएँ, जबकि अन्य लोग राजनीतिक विकास की प्रक्रियाओं से उत्पन्न होने वाले नए समूहों और प्रतीकों के साथ खुद को जोड़ लें। इसके अतिरिक्त, राजनीतिक विकास की यह प्रवृत्ति होती है कि वह विविध वर्गों, जनजातियों, क्षेत्रों कुलों, भाषाओं, धर्मों, व्यवसायों एवं अन्य समुहों की समूह-चेतना का पोषण करती है।

21. निम्नलिखित में स कौन-सी एक उपयुक्त परिच्छेद की सर्वश्रेष्ठ व्याख्या है?

  1. राजनीतिक विकास एक दिशा में चलने वाली प्रक्रिया नहीं हैं, क्योंकि इसमें संवृध्दि और हृस दोनों शामिल होते है।
  2. परम्परागत समाज राजनीतिक विकास के सकारात्मक पक्षों का प्रतिरोध करने में सफल होते हैं।
  3. परम्परागत समाजों के लिए, लम्बे समय से बनी हुई निष्ठाओं से मुक्त हो पाना असम्भव है।
  4. परम्परागत निष्ठाओं को बनाए रखना राजनीतिक विकास में सहायक होता है।

परिच्छेद - 2

पूरे विश्व में सरकार में प्रादेशिकता की एक महत्वपूर्ण प्रवृत्ति रही है, जिसके परिणामस्वरूप 1990 के दशक से क्षेत्रों और समुदायों की ओर सत्ता का व्यापक अधोगामी हस्तांरण होता रहा है। इस प्रक्रिया को, जिसकें अन्तर्गत अवराष्ट्रीय (सब-नैशनल) स्तर पर नई राजनीतिक सत्ताएँ और निकाय बनते हैं तथा उनकी क्षमता और शक्ति में वृध्दि होती है, प्रति-विकास (डीवोल्यूशन) कहते हैं। प्रति-विकास की विशेषता है कि यह तीन घटकों से मिलकर बनता है, वे घटक है-राजनीतिक वैधता,सत्ता का विकेन्दीकरण और संसाधनों का विकेन्द्रीकरण। यहाँ राजनीतिक वैधता से आशय है निचले जनसमुदाय से विकेन्द्रीकरण की प्रक्रिया के लिए उठने वाली माँग, जिसमें विकेन्द्रीकरण के लिए एक राजलीतिक बल निर्मित करने की क्षमता होती है। कई मामलों में, आधरिक स्तर पर इसके लिए पर्याप्त राजनीतिक संघटन हुए बिना ही सरकार के ऊपरी स्तर से विकेन्द्रीकरण की प्रक्रिया प्रारम्भ कर दी जाती है, और ऐसे मामलों में विकेन्द्रीकरण की प्रक्रिया प्रायः अपने उद्देश्य पूरे नहीं कर पाती।

22. उपर्युक्त परिच्छेद से, निम्नलिखित में से कौन-सा सर्वाधिक तार्किक और तर्कसंगत निष्कर्ष (इन्फरेंस) निकाला जा सकता है ?

  1. अवराष्ट्रीय राजनीतिक सत्ताओं के निर्माण के लिए और इस तरह सफल प्रति-विकास और विकेन्द्रीकरण सुनिश्चित करने के लिए शक्तिशाली जन नेताओं का उभरना अनिवार्य है।
  2. सरकार के ऊपरी स्तर से क्षेत्रीय समुदायों पर, कानून द्वारा या अन्यथा, प्रति-विकास और विकेन्द्रीकरण को अधिरोपित किया जाना चाहिए।
  3. प्रति-विकास को सफल होने के लिए ऐसे लोकतंत्र की अपेक्षा होती है, जिसमें निचले स्तर के लोगों की इच्छा की स्वतंत्र अभिव्यक्ति हो और आधारिक स्तर पर उनकी सक्रिय भागीदारी हो।
  4. प्रति-विकास होने के लिए जनता में क्षेत्रवाद की प्रबल भावना होनी आवश्यक है।

परिच्छेद-3

हम डिजिटल काल में रहते है। डिजिटल सिर्फ ऐसी कोई चीज़ नहीं है जिसका उपयोग कार्यनीतिक रूप से और विशिष्ट तौर पर कुछ कार्यो को पूरा करने के लिए किया जाता है। हमारा यह प्रत्यक्ष -ज्ञान कि हम कौन हैं, और हमारे चारों ओर की दुनिया से हम किस प्रकार जुड़ते हैं, और वे तरीके जिनसे हम अपने जीवन, श्रम और भाषा के प्रभाव-क्षेत्रों को परिभाषित करते हैं, बड़े पैमाने पर डिजिटल प्रौद्योगिकियों द्वारा ही संरचित हैं। डिजिटल हर जगह विद्यमान है और हवा की तरह अदृश्य है। हम डिजिटल व्यवस्थाओं के अंदर रहते हैं, हम अन्तरंग गैजेटों (Gadgets) के साथ जीते हैं, हमारी पारस्परिक क्रियाएँ डिजिटल माध्यमों के द्वारा होती हैं, और डिजिटल की मौजुदगी तथा उसकी कल्पना ने हमारे जीवन को प्रभावशाली ढंग से पुरर्संरचित कर दिया है। डिजिटल सिर्फ एक उपकरण मात्र होने से अधिक, वह दशा और सन्दर्भ है जो हमारे आत्म-बोध, समाज-बोध और शासन संरचना बोध के आकार और सीमाओं को परिभाषित करता है।

23. निम्नलिखित में से कौन-सा सर्वाधिक तार्किक और सारभूत सन्देश है, जो उपर्युक्त परिच्छेद द्वारा व्यक्त किया गया है?

  1. डिजिटल प्रौद्योगिकियों का उपयोग कर शासन की सभी समस्याओं का समाधान किया जा सकता है।
  2. डिजिटल प्रौद्योगिकियों की बात करना हमारे जीवन और जीवनचर्या की बात करना है।
  3. हमारी रचनात्मकता और कल्पना को डिजिटल माध्यमों के बिना अभिव्यक्त नहीं किया जा सकता।
  4. डिजिटल तंत्रों का उपयोग भविष्य में मानव के अस्तित्व के लिए अत्यावश्यक है।

परिच्छेद-4

IMF ने ध्यान दिलाया है कि एशिया की तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्थाओं के समक्ष 'मध्यम-आय जाल (मिडिल-इन्कम ट्रैप)' में पड़ जाने का संकट बना हुआ है। इसका आशय यह है कि इन देशों की औसत आय, जो कि अब तक तेजी से बढ़ती रही है, एक बिन्दु से आगे बढ़ना बंद कर देगी-एक ऐसा बिन्दु जो कि विकसित प्रश्चिमी जगत् की आय से काफी कम है। IMF, आधारभूत संरचना से लेकर कमजोर संस्थाओं तक और अपर्याप्त रूप से अनुकूल समष्टि-आर्थिक (मैक्रोइकॉनॉमिक) दशाओं तक, मध्यम-आय जाल के कई कारणों की पहचान करता है-जिनमें से कोई भी आश्चर्यजनक नहीं है। परन्तु, IMF कहता है कि सर्वरूपेण कारण उत्पादकता की वृध्दि में गिरावट है।

24. उपर्युक्त परिच्छेद से, निम्नलिखित में से कौन-सा सर्वाधिक तार्किक और तर्कसंगत और विवेचनात्मक निष्कर्ष (इन्फरेंस) निकाला जा सकता है ?

  1. किसी देश के मध्यम-आय अवस्था में पहुँच जाने से उसकी उत्पादकता में हृस होने का खतरा होता है, जिसके परिणामस्वरूप आय की वृध्दि रूक जाती है।
  2. मध्यम-आय जाल में फँसना तेजी से बढ़ रही अर्थव्यवस्थाओं की एक सामान्य विशेषता है।
  3. एशिया की उभरती हुई अर्थव्यस्थाओं के लिए वृध्दि की गति को बनाए रखने की कोई आशा नहीं है।
  4. जहाँ तक उत्पादकता की वृध्दि का प्रश्न है, एशिया की अर्थव्यवस्थाओं का निष्पादन संतोषजनक नहीं है।

परिच्छेद-5

नवप्रवर्तनकारी (इन्नोवेटिव) भारत समावेशी होने के साथ-साथ प्रौद्योगिकी में भी उन्नत होगा जिससे सभी भारतीयों के जीवन में सुधार आयेगा। नवप्रवर्तन तथा R&D बढ़ती हुई सामाजिक असमानता को कम कर सकते हैं और द्रुत शहरीकरण से उत्पन्न होने वाले दबावों से मुक्त कर सकते हैं। कृषि और ज्ञान-केन्द्रित (नॉलेज-इंटेंसिव) निर्माण और सेवाओं के बीच उत्पादकता में बढ़ते हुए विभेद से, आय-असमानता के बढ़ने का खतरा है। भारत की R&D प्रयोगशालाओं और विश्वविद्यालयों को गरीब लोगों की जरूरतों पर ध्यान रखने के लिए प्रोत्साहित कर तथा ज्ञान-अर्जन के लिए अनौपचारिक प्रतिष्ठानों की क्षमता में उन्नयन कर, एक नवप्रवर्तन और अनुसंधान कार्यक्रम इस प्रभाव का सामना कर सकता है। समावेशी नवप्रवर्तन वस्तु और सेवाओं की लागत को कम कर सकता है तथा गरीब लोगों के लिए आय-अर्जन के अवसर उत्पन्न कर सकता है।

25. निम्नलिखित में से कौन-सा सर्वाधिक तार्किक और तर्कसंगत पूर्वधारणा है, जो कि उपर्युक्त परिच्छेद से बनाई जा सकती है ?

  1. गाँवों से शहरों के प्रवसन को कम करने के लिए नवप्रवर्तन तथा R&D ही एकमात्र रास्ता है।
  2. तेजी से विससित होने वाले प्रत्येक देश को कृषि और अन्य क्षत्रों में उत्पादकता के बीच विभेद को न्यूनतम करने की आवश्यकता है।
  3. समावेशी नवप्रवर्तन तथा R&D एक समतावादी समाज बनाने में सहायता कर सकते हैं।
  4. द्रुत शहरीकरण केवल तभी होता है जब किसी देश की आर्थिक वृध्दि तीव्रगामी होती है।

परिच्छेद-6

यह संभावना है कि जलवायु परिवर्तन के कारण बहुत बड़ी संख्या में लोग बढ़ते हुए पर्यावरणीय जोखिम में पड़ जाएँगे और फलस्वरूप प्रवसन के लिए विवश हो जाएँगे। अंतराष्ट्रीय समुदाय को प्रवासियों की इस नई श्रेणी की पहचान अभी करनी है। अंतराष्ट्रीय कानूनों के अंतर्गत शरणार्थी शब्द का एक सुस्पष्ट अर्थ होने के कारण , जलवायु के कारण होने वाले शरणार्थयों की परिभाषा और स्थिति पर कोई सर्वसम्मति नहीं है। यह बात अभी भी समझ से बाहर है कि जलवायु परिवर्तन प्रवसन के मूल कारण के रूप में कैसे कार्य करेगा। यदि जलवायु के कारण होने वाले शरणार्थयों की पहचान हो, तब भी उन्हें संरक्षण कौन प्रदान करेगा? जलवायु परिवर्तन के कारण जो अंतराष्ट्रीय प्रवसन होता है, उस पर कहीं अधिक बल दिया गया है। परंतु आवश्यकता है कि जलवायु-प्रभावित लोगों के, देशों के अंदर में हुए प्रवसन की भी पहचान की जाए ताकि उनकी समस्याओं को उचित प्रकार से दूर किया जा सके।

26. उपर्युक्त परिच्छेद से, निम्नलिखित में से कौन-सा सर्वाधिक तर्कसंगत निष्कर्ष (इन्फरेंस) निकाला जा सकता है ?

  1. विश्व, विशाल पैमाने पर जलवायु के कारण होने वोले शरणार्थियों के प्रवसन का सामना नहीं कर पाएगा।
  2. जलवायु परिवर्तन को और आगे बढ़ने से रोकने के लिए हमें तरीके और साधन ढूँढ़ने चाहिए।
  3. भविष्य में जलवायु परिवर्तन लोगों के प्रवसन का सर्वाधिक महत्वपूर्ण कारण होगा।
  4. जलवायु परिवर्तन और प्रवसन के बीच सम्बन्ध अभी भी सही रूप में समझा नहीं गया है।

परिच्छेद-7

अनेक किसान फसल को पहुँचाने वाले कीटों को मारने के लिए संश्लेषित कीअनाशकों का उपयोग करते हैं कुछ विकसित देशों में तो कीटनाशकों की खपत 3000 ग्राम प्रति हेक्टेयर तक पहुँच रही है। दुर्भाग्यवश, ऐसी कई रिपोर्ट हैं कि ऐेसे यौगिकों में अन्तर्निहित विषाक्तता होती है जो खेती करने वालों के, उपभोक्तओं के स्वास्थ्य और पर्यावरण को खतरे में डालती है। संश्लेषित कीटनाशक सामान्यतः पर्यावरण में लगातार बने रहते हैं। खाद्य-श्रृंखला में प्रवेश कर वे सूक्ष्मजैविक विविधता को नष्ट कर पारिस्थितिक (इकालॉजिकल) असंतुलन उत्पन्न करते हैं। इनके अंधाधुंध उपयोग के परिणामस्वरूप कीटों में कीटनाशकों के विरूध्द प्रतिरोध विकसित हुआ है, प्राकृतिक संतुलन में गड़बड़ी हुई है और जिन समष्टियों का उपचार किया जा चुका है वे फिर से बढ़ गई हैं। वानस्पतिक कीटनाशक का उपयोग कर प्राकृतिक पीड़क नियंत्रण करना इनके उपयोगकर्ताओं एवं पर्यावरण के लिए अपेक्षाकृत सुरक्षित होता है, क्योंकि वे सूर्य के प्रकाश की मौजूदगी में कुछ घंटों अथवा दिनों में ही हानिरहित यौगिकों में टूट जाते हैं। कीटनाशी विशेषताओं से युक्त पौधे लाखों वर्षा से, पारिस्थितिक तंत्र पर कोई खराब या प्रतिकूल प्रभाव डाले बिना, प्रकृति में मौजूद हैं। अधिकांश मृदाओं में आमतौर पर पाए जाने वाले अनेक सूक्ष्मजीव इन्हें सरलता से विघटित कर देते हैं। वे परभक्षियों की जैविक विविधता को बनाए रखने और पर्यावरणीय संदूषण तथा मनुष्यों के स्वास्थ्य संकटों को कम करने में सहायक हैं। पौधों से बनाए गए वानस्पतिक कीटनाशक जैव निम्नीकरणीय (बायोडीग्रेडेबल) होते हैं और फसल सुरक्षा में उनका उपयोग करना व्यावहारिक रूप से एक धारणीय विकल्प है।

27. उपर्युक्त परिच्छेद के आधार पर निम्नलिखित पूर्वधारणाएँ बनाई गई हैं :

  1. आधुनिक कृषि में, संश्लेषित कीटनाशकों का उपयोग कभी भी नहीं करना चाहिए।
  2. धारणीय कृषि का एक उद्देश्य अल्पतम पारिस्थितिक असंतुलन को सुनिश्चित करना है।
  3. वानस्पतिक कीटनाशक, संश्लेषित कीटनाशकों की तुलना में, अधिक प्रभावकारी होते हैं।

उपर्युक्त पूर्वधारणाओं में से कौन-सा/से सही है/हैं?

  1. केवल 1 और 2
  2. केवल 2
  3. केवल 1 और 3
  4. 1, 2, और 3

28. जैव कीटनाशकों के विषय में निम्नलिखित कथनों में से कौन-सा/से सही है/हैं?

  1. वे मानवीय स्वास्थ्य के लिए खतरनाक नहीं हैं।
  2. वे पर्यावरण में लगातार बने रहते हैं।
  3. वे किसी भी पारिस्थितिक तंत्र की जैव विविधता बनाए रखने के लिए अनिवार्य हैं।

नीचे दिए गए कूट का प्रयोग कर सही उत्तर चुनिए।

  1. केवल 1
  2. केवल 1 और 2
  3. केवल 1 और 3
  4. 1, 2 और 3

29. कुछ 3-अंकीय संख्याओं की निम्नलिखित विशेषताएँ हैं:

  1. सभी तीन अंक भिन्न-भिन्न हैं।
  2. संख्या 7 से विभाजित होती है।
  3. संख्या के अंकों को उलट देने से बनने वाली संख्या भी 7 से विभाजित होती है।

ऐसी कितनी 3-अंकीय संख्याएँ हो सकती हैं?

  1. 2
  2. 4
  3. 6
  4. 8

30. निम्नलिखित कथनों की परीक्षा कीजिएः

  1. सभी रंग सुखद हैं।
  2. कुछ रंग सुखद हैं।
  3. कोई भी रंग सुखद नहीं हैं।
  4. कुछ रंग सुखद नहीं हैं।

यदि कथन 4 सत्य है, तो निश्चित रूप से क्या निष्कर्ष निकाला जा सकता है?

  1. 1 और 2 सत्य हैं।
  2. 3 सत्य है।
  3. 2 असत्य है।
  4. 1 असत्य है।

31. 99 तथा 1000 के बीच ऐसी कितनी संख्याएँ हैं, जिनमें अंक 8 इकाई स्थान पर है?

  1. 64
  2. 80
  3. 90
  4. 104

32. यदि एक प्रतिदर्श आँकड़े के लिए

माध्य < माध्यिका < बहुलक

है, तो वितरण

  1. सममित है
  2. दाहिनी ओर विषम है
  3. न सममित है और न विषम है
  4. बायीं और विषम है

33. श्री X की आयु एक वर्ष पूर्व किसी संख्या का वर्ग थी तथा अगले वर्ष यह किसी संख्या का घन हो जाएगा। उसे अपनी आयु के पुनः किसी संख्या का घन होने के लिए न्यूनतम कितने वर्ष प्रतीक्षा करनी पड़ेगी?

  1. 42
  2. 38
  3. 25
  4. 16

34. P, Q की तुलना में तीन गुना तेजी से कार्य करता है, जबकि P और Q एक साथ मिलकर R की तुलना में चार गुना तेजी से कार्य कर सकते हैं। यदि P, Q और R एक साथ मिलकर किसी कार्य को करते हैं तो उन्हें आपस में अपनी आय को किस अनुपात में बाँटनी चाहिए?

  1. 3 : 1 : 1
  2. 3 : 2 : 4
  3. 4 : 3 : 4
  4. 3 : 1 : 4

35. छः व्यक्तियों A, B, C, D, E और F के एक परिवार में निम्नलिखित सम्बन्धों पर विचार कीजिएः

  1. पुरूषों की संख्या, स्त्रियों की संख्या के बराबर है।
  2. A और E, F के पुत्र हैं।
  3. D दो व्यक्तियों, एक पुत्र और एक पुत्री की माता है।
  4. B, A का पुत्र है।
  5. वर्तमान में परिवार में केवल एक ही विवाहित जोड़ा है।

उपर्युक्त से, निम्नलिखित में से कौन-सा एक निष्कर्ष निकाला जा सकता है?

  1. A, B और C सभी स्त्री हैं।
  2. A, D का पति है।
  3. E और F, D की संतान हैं।
  4. D, F की पुत्री है।

36. एक थैले में 20 गेंदें हैं। 8 गेंदें हरी हैं, 7 सफ़ेद हैं और 5 लाल हैं। आँख बंद कर, थैले में से न्यूनतम कितनी गेंदें निकालना आवश्यक है (किसी को भी बिना बदले) जिससे सुनिश्चित हो कि प्रत्येक रंग की कम-से-कम एक गेंद निकली हो?

  1. 17
  2. 16
  3. 13
  4. 11

37. यदि 2 लड़कों और 2 लड़कियों को एक पंक्ति में इस व्यवस्था में खड़ा करना हो कि लड़कियाँ एक-दूसरे के अगल-बगल खड़ी न हों, तो कितनी संभव व्यवस्थाएँ हो सकती हैं?

  1. 3
  2. 6
  3. 12
  4. 24

38. 4 cm × 4 cm × 4 cm के एक घन के बाह्य पृष्ठ को पूरी तरह लाल रंग में रंगा गया है। तत्पश्चात् इसे फलकों के समान्तर 1 cm × 1 cm × 1 cm के चौंसठ छोटे घनों में काटा गया है। कितने छोटे घनों की फलकें रंगी हुई नहीं होंगी?

  1. 8
  2. 16
  3. 24
  4. 36

39. निम्नलिखित पर विचार कीजिएः

A, B, C, D, E, F, G और H एक पंक्ति में उत्तर की ओर मुख कर खड़े हैं।

B, G का पड़ोसी नहीं है।

F, E के ठीक दायें है और E का पड़ोसी है।

G अंतिम छोर पर नहीं है ।

A, E के बायें से छठा है।

H, C के दायें से छठा है।

उपर्युक्त के बारे में, निम्नलिखित में से कौन-सा एक सही है?

  1. C, A के ठीक बायें है।
  2. D, D और F का सन्निकट पड़ोसी है।
  3. G, D के ठीक दायें है।
  4. A और E अंतिम छोरों पर हैं।

40. किसी निश्चित कोड में ’256’ का अर्थ ’लाल रंग चाक’ है, ’589’ का अर्थ ’हरा रंग फूल’ है और ’254’ का अर्थ ’सफ़ेद रंग चाक’ है। उस कोड में ’सफे़द’ का इंगित करने वाला अंक कौन-सा है?

  1. 2
  2. 4
  3. 5
  4. 8

निम्नलिखित आठ प्रश्नांशों के लिए निर्देशः 

निम्नलिखित आठ परिच्छेदों  का पढ़िए और उनके नीचे आने वाले प्रश्नांशों के उत्तर दीजिए। इन प्रश्नांशों के लिए आपके उत्तर केवल इन परिच्छेदों पर ही आधारित होने चाहिए।

परिच्छेद-1

जलवायु परिवर्तन से एक चीज़ जो अकाट्य रूप से होती है, वह ऐसी घटनाओं का घटित होना या बढ़ना है जिनसे संसाधनों के कम होते जाने में और तेजी आती है। इन घटते जाते संसाधनों के ऊपर होने वाली प्रतिस्पर्धा के परिणामस्वरूप राजनीतिक या और भी हिंसक संघर्ष सामने आता है। संसाधन-आधारित संघर्ष शायद ही कभी खुले आम हुए हैं, इसलिए उन्हें विलग रूप में देखना कठिन होता है। इसके बजाय वे ऊपरी परतें ओढ़कर राजनीतिक रूप से कहीं अधिक स्वीकार्य रूप में सामने आते हैं। जल-जैसे संसाधनों के ऊपर होने वाले संघर्ष प्रायः पहचान या विचारधारा के वेश का लबादा ओढ़े रहते हैं।

41. उपर्युक्त परिच्छेद का निहितार्थ क्या है?

  1. संसाधन-आधारित संघर्ष सदैव राजनीतिक रूप से प्रेरित होते हैं।
  2. पर्यावरणीय और संसाधन-आधारित संघर्षों के समाधान के लिए कोई राजनीतिक हल नहीं होते।
  3. पर्यावरणीय मुद्दे संसाधनों पर दबाव बनाए रखने और राजनीतिक संघर्ष में योगदान करते हैं।
  4. पहचान अथवा विचारधारा पर आधारित राजनीतिक संघर्ष का समाधान नहीं हो सकता।

परिच्छेद-2

जो व्यक्ति निरंतर इस हिचकिचाहट में रहता है कि दो चीज़ों में से किसे पहले करे, वह दोनों में से कोई भी नहीं करेगा। जो व्यक्ति संकल्प करता है, लेकिन उसकी काट में किसी मित्र द्वारा दिए गए पहले सुझाव पर ही अपने संकल्प को बदल देता है-जो कभी एक राय कभी दूसरी राय के बीच आगा-पीछा करता रहता है और एक योजना से दूसरी योजना तक रूख बदलता रहता है-वह किसी भी चीज़ को कभी पूरा नहीं कर सकता। ज्यादा से ज्यादा वह बस ठहरा रहेगा, और संभवतः सभी चीज़ों में पीछे हटता रहेगा। जो व्यक्ति पहले विवेक पूर्वक परामर्श करता है, फिर दृढ़ संकल्प करता है, और कमजोर मनोवृत्ति को भयभीत करने वाली तुच्छ कठिनाइयों से निर्भीक बने रहकर अटल दृढ़ता से अपने उद्देश्यों को पूरा करता है-केवल वही व्यक्ति किसी भी दिशा में उत्कर्ष की ओर आगे बढ़ सकता है।

42. इस परिच्छेद से निकलने वाला मूलभाव क्या है?

  1. हमें पहले विवेकपूर्वक परामर्श करना चाहिए, फिर दृढ़ संकल्प करना चाहिए
  2. हमें मित्रों के सुझावों को नकार देना चाहिए और बिना बदले अपनी राय पर कायम रहना चाहिए
  3. हमें विचारों में सदैव उदार होना चाहिए
  4. हमें सदैव कृत संकल्प और उपलब्धि-अभिमुख होना चाहिए

परिच्छेद - 3

आर्कटिक महासागर में ग्रीष्म ऋतु के दौरान समुद्री बर्फ अपेक्षाकृत अधिक पहले और तेजी से पिघल रही है, और शीत ऋतु की बर्फ के बनने में अधिक देरी लग रही है। पिछले तीन दशकों में, ग्रीष्म ऋतु की बर्फ का परिणाम लगभग 30 प्रतिशत तक घट गया है। ग्रीष्म-गलन की अवधि के लम्बे हो जाने से सम्पूर्ण आर्कटिक खाद्यजाल के, जिसमें ध्रुवीय भालु शीर्ष पर हैं, छिन्न-भिन्न हो जाने का संकट सामने आ गया है।

43. उपर्युक्त परिच्छेद से निम्नलिखित में से कौन-सा सर्वाधिक निर्णायक सन्देश व्यक्त होता है?

  1. जलवायु परिवर्तन के कारण, आर्कटिक ग्रीष्म ऋतु अल्पावधि की परन्तु उच्च तापमान वाली हो गई है।
  2. ध्रुवीय भालुओं की उत्तरजीविता को सुनिश्चित करने के लिए उन्हें दक्षिणी ध्रुव में स्थानांतरित किया जा सकता है।
  3. ध्रुवीय भालुओं के न होने से आर्कटिक क्षेत्र की खाद्य-श्रृंखलाएँ लुप्त हो जाएँगी।
  4. जलवायु परिवर्तन से ध्रुवीय भालुओं की उत्तरजीविता के लिए संकट उत्पन्न हो गया है।

परिच्छेद -4

लोग क्यों खुले में शौच जाना ज्यादा पसंद करते हैं और शौचालय रखना नहीं चाहते, या जिनके पास शौचालय है वे उसका उपयोग कभी-कभी ही करते हैं? हाल के अनुसंधान से दो खास बातें सामने आई हैं : शुद्धता और प्रदूषण के विचार, और न चाहना कि गड्डे या सेप्टिक टैंक भरें, क्योंकि उन्हें खाली करना होता है। ये वे मुद्दे है जिन पर कोई बात नहीं करना चाहता, लेकिन यदि हम खुले में शौच की प्रथा का उन्मूलन करना चाहते हैं, तो इन मुद्दों का सामना करना होगा और इनसे समुचित तरीके से निपटना होगा।

44. उपर्युक्त परिच्छेद से, निम्नलिखित में से कौन-सा सर्वाधिक निर्णायक संदेश व्यक्त होता है?

  1. शुद्धता और प्रदूषण के विचार इतने गहरे समाये हैं कि उन्हें लोगों के दिमाग से हटाया नहीं जा सकता।
  2. लोगों को समझाना होगा कि शौचालय का उपयोग और गढ्ढो का खाली किया जाना शुद्धता की बात है न कि अशुद्धता की।
  3. लोग अपनी पुरानी आदतों को बदल नहीं सकते।
  4. लोगों में न तो नागरिक बोध है और न ही एकांतता (प्राइवेसी) का बोध है।

परिच्छेद -5

पिछले दो दशकों में, विश्व के सकल घरेलू उत्पाद (GDP) में 50 प्रतिशत की वृद्धि हुई है जबकि समावेशी संपदा मात्र 6 प्रतिशत बढ़ी है। हाल के दशकों में, GDP-संचालित आर्थिक निष्पादन ने मानव पूँजी जैसी समावेशी संपदा को और जंगल, जमीन एवं जल जैसी प्राकृतिक संपदा को केवल क्षति ही पहुँचाई है। पिछले दो दशकों में, विश्व की मानव पूँजी, जो कुल समावेशी संपदा का 57 प्रतिशत है, केवल 8 प्रतिशत ही बढ़ी प्राकृतिक संपदा में, जो कुल समावेशी संपदा का 23 प्रतिशत है, विश्वस्तर पर 30 प्रतिशत की गिरावट आई।

45. निम्नलिखित में से कौन-सा, उपर्युक्त परिच्छेद का सर्वाधिक निर्णायक निष्कर्ष (इन्फरेंस) है?

  1. प्राकृतिक संपदा के विकास पर और अधिक दिया जाना चाहिए।
  2. केवल जीडीपी संचालित संवृद्धि न तो वांछनीय है, न ही धारणीय है।
  3. विश्व के देशों का आर्थिक निष्पादन संतोषजनक नहीं है।
  4. वर्तमान परिस्थितियों में विश्व को और अधिक मानव पूँजी की आवश्यकता है।

परिच्छेद -6

2020 तक, जब वैश्विक अर्थव्यवस्था में 5.6 करोड़ (56 मिलियन) युवाओं की कमी होने की आशंका है तब भारत अपने 4.7 करोड (47 मिलियन) अधिशेष युवाओं से इस कमी को पूरा कर सकता है। भारत में दो अंकों में विकास निर्मुक्त करने के एक मार्ग के रूप में श्रम सुधारों को इसी संदर्भ में प्रायः उद्धृत किया जाता है। 2014 में, भारत का श्रमबल जनसंख्या का लगभग 40 प्रतिशत होने का आकलन था, लेकिन इस बल का 93 प्रतिशत असंगठित क्षेत्र में था। विगत पूरे दशक में रोज़गार की चक्रवृद्धि वार्षिक संवृद्धि दर (कम्पाउंड एनुअल ग्रोथ रेट (CAGR)) 0.5 प्रतिशत तक मंद हो चुकी थी, जहां पिछले वर्ष के दौरान लगभग 1.4 करोड (14 मिलियन) नौकरियां सृजित हुई जबकि श्रमबल में लगभग 1.5 करोड (15 मिलियन) की वृद्धि हुई।

46. निम्नलिखित में से कौन सा, उपर्युक्त परिच्छेद का सर्वाधिक तार्किक निष्‍कर्ष (इन्फरेंस) है?

  1. भारत को अपनी जनसंख्या वृद्धि पर अवश्य ही नियंत्रण करना चाहिए, ताकि इसकी बेरोज़गारी दर कम हो सके।
  2. भारत के विशाल श्रमबल का उत्पादक रूप से इष्टतम उपयोग करने के लिए भारत में श्रम सुधारों की आवश्यकता है।
  3. भारत अतिशीघ्र दो अंकों का विकास प्राप्त करने की ओर अग्रसर है।
  4. भारत अन्य देशों को कौशल प्राप्त युवाओं की पूर्ति करने में सक्षम है।

परिच्छेद -7

सबसे पहला पाठ, जो हमें तब पढ़ाया जाना चाहिए जब हम उसे समझने के लिए पर्याप्त बड़े हो चुके हों, यह है कि कार्य करने की बाध्यता से पूरी स्वतंत्रता अप्राकृतिक है, और इसे गैर कानूनी होना चाहिए, क्योंकि हम कार्य भार के अपने हिस्से से केवल तभी बच सकते हैं, जब हम इसे किसी दूसरे के कंधों पर डाल दें। प्रकृति ने यह विधान किया है कि मानव प्रजाति, यदि कार्य करना बंद कर दे, तो भुखमरी से नष्ट हो जाएगी। हम इस निरंकुशता से बच नहीं सकते हैं। हमें इस प्रश्न को सुलझाना पड़ेगा कि हम अपने आपको कितना अवकाश देने में समर्थ हो सकते हैं।

47. उपर्युक्त परिच्छेद का यह मुख्य विचार है कि

  1. मनुष्यों के लिए यह आवश्यक है कि वे काम करें
  2. कार्य एवं अवकाश के मध्य संतुलन होना चाहिए
  3. कार्य करना एक निरंकुशता है जिसका हमें सामना करना ही पड़ता है
  4. मनुष्य के लिए कार्य की प्रकृति को समझना आवश्यक है

 

परिच्छेद -8

आदतों का पालन करने में कोई हानि नहीं है, जब तक कि वे आदतें हानिकारक न हों। वास्तव में हममें से अधिकांश लोग, आदतों के पुलिंदे से शायद कुछ अधिक ही व्यवस्थित होते हैं। हम अपनी आदतों से मुक्त हो जायें तो जो बचेगा उस पर शायद ही कोई ध्यान देना चाहे। हम इनके बिना नहीं चल सकते। वे जीवन की प्रक्रिया को सरल बनाती है। इनसे हम बहुत सी चीजें अपने आप करने में समर्थ होते हैं, जिन्हें, यदि हम हर बार नया और मौलिक विचार देकर करना चाहें, तो अस्तित्व एक असंभव उलझन बन जाए।

48. लेखक का सुझाव है कि आदतें

  1. हमारे जीवन को कठिन बनाती है
  2. हमारे जीवन में सटीकता लाती है
  3. हमारे लिए जीना आसान करती है
  4. हमारे जीवन को मशीन बनाती है

निम्नलिखित 2 (दो) प्रश्नांशों के लिए निर्देश :

दी गई जानकारी पर विचार कीजिए और उसके नीचे आने वाले दो प्रश्नांशों के उत्तर दीजिए।

‘X दल’ का कोई भी समर्थक, र्जो Z को जानता था और उसके अभियान की रणनीति का समर्थन करता था, ‘Y दल’ के साथ गठबंधन के लिए तैयार नहीं था; किन्तु उनमें से कुछ के ‘Y दल’ में मित्र थे।

49. उपर्युक्त जानकारी के संदर्भ में, निम्नलिखित में से कौन सा एक कथन सत्य होना ही चाहिए?

  1. ‘Y दल’ के कुछ समर्थक, ‘X दल’ के साथ गठबंधन के लिए सहमत नहीं हुए।
  2. ‘Y दल’ का कम से कम एक समर्थक ऐसा है, जो ‘X दल’ के किसी समर्थक को मित्र के रूप में जानता था।
  3. ‘X दल’ के किसी समर्थक ने Z के अभियान की रणनीति का समर्थन नहीं किया।
  4. ‘X दल’ का कोई भी समर्थक Z को नहीं जानता था।

50. उपर्युक्त जानकारी के संदर्भ में, निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए :

  1. ‘X दल’ के कुछ समर्थक Z को जानते थे।
  2. ‘X दल’ के कुछ समर्थक, जो Z के अभियान की रणनीति के विरोधी थे, Z को जानते थे।
  3. ‘X दल’ के किसी समर्थक ने Z के अभियान की रणनीति का समर्थन नहीं किया।

ऊपर दिए गए कथनों में से कौन-सा/से सही नहीं है/हैं?

  1. केवल 1
  2. केवल 2 और 3
  3. केवल 3
  4. 1, 2 और 3

51. यदि एक कार्यालय में केवल दूसरा और चौथा शनिवार तथा सभी रविवार ही केवल अवकाश के दिन माने गए हों, तब किसी भी वर्ष के किसी भी मास में संभव कार्य दिवसों की न्यूनतम संख्या क्या होगी?

  1. 23
  2. 22
  3. 21
  4. 20

52. यदि ऐसी कोई नीति है कि किसी समुदाय की एक-तिहाई (1/3) आबादी प्रति वर्ष एक स्थान को छोड़कर किसी दूसरे स्थान पर चली जाए, तो छठवें वर्ष के बाद उस समुदाय की शेष बची आबादी क्या होगी, यदि इस अवधि के दौरान जनसंख्या में आगे और कोई वृद्धि न हुई हो?

  1. जनसंख्या का 16/243वां भाग
  2. जनसंख्या का 32/243वां भाग
  3. जनसंख्या का 32/729वां भाग
  4. जनसंख्या का 64/729वां भाग

53. भौतिकविज्ञान, रसायन विज्ञान, गणित और जीव विज्ञान की चार परीक्षाऐं चार क्रमिक दिवसों पर की जानी हैं, किन्तु आवश्यक नहीं कि परीक्षाऐं इसी क्रम में हों। भौतिकविज्ञान की परीक्षा उस परीक्षा से पहले की गई जिसे जीव विज्ञान के बाद किया गया। रसायन विज्ञान की परीक्षा दो परीक्षाऐं किए जाने के ठीक बाद में की गई। किसकी परीक्षा अंत में की गई?

  1. भौतिक विज्ञान
  2. जीव विज्ञान
  3. गणित
  4. रसायन विज्ञान

54. A और B की आय का योग C और D की सम्मिलित आय से अधिक है। A और C की आय का योग B और D की सम्मिलित आय के बराबर है। इसके अतिरिक्त, A की आय B और D की सम्मिलित आय से आधी है। सर्वाधिक आय किसकी है?

  1. A
  2. B
  3. C
  4. D

55. निम्नलिखित पर विचार कीजिए : 

कथनः अच्छा स्वर एक नैसर्गिक प्रतिभा है लेकिन संगीत के क्षेत्र में उन्नति और श्रेष्ठ प्रदर्शन के लिए अभ्यास करते रहना चाहिए।

निष्कर्ष:

I. नैसर्गिक प्रतिभाओं को प्रशिक्षण और देखभाल की आवश्यकता होती है।

II. किसी का स्वर अच्छा न होने पर भी उसे अभ्यास करते रहना चाहिए।

उपर्युक्त कथन और निष्कर्षों के संदर्भ में निम्नलिखित में से कौन-सा एक सही है?

  1. इस कथन से केवल निष्कर्ष I अनुगमित होता है
  2. इस कथन से केवल निष्कर्ष II अनुगमित होता है
  3. इस कथन से या तो निष्कर्ष I अनुगमित होता है या निष्कर्ष II
  4. इस कथन से न तो निष्कर्ष I अनुगमित होता है न ही निष्कर्ष II

56. भिन्न ऊंचाइयों के तीन खम्भे X, Y और Z हैं। तीन मकड़ियां A,  B और C क्रमषः इस खम्भों पर एक ही समय पर चढ़ना शुरू करती हैं। एक प्रयास में A, X पर 6 से.मी. चढ़ती है किन्तु 1 से.मी. नीचे फिसल जाती है। B, Y पर 7 से.मी. चढ़ती है किन्तु 3 से.मी. नीचे फिसल जाती है। C, Z पर 6.5 से.मी. चढ़ती है किन्तु 2 से.मी. नीचे फिसल जाती है। यदि उनमें से प्रत्येक मकड़ी को खम्भे के शीर्ष तक पहुंचने के लिए 40 प्रयास करना पड़ता है तो सबसे छोटे खम्भे की ऊंचाई क्या है?

  1. 161 से.मी.
  2. 163 से.मी.
  3. 182 से.मी.
  4. 210 से.मी.

57. ‘‘अधिकार, नागरिक के वास्तविक विकास के लिए, अपरिहार्य, सामाजिक कल्याण की कुछ हितकारी दशाएं हैं।’’

इस कथन के परिप्रेक्ष्य में, निम्नलिखित में से कौन-से अधिकारों की सही व्याख्या है?

  1. अधिकारों का उद्देश्य केवल वैयक्तिक कल्याण है।
  2. अधिकारों का उद्देश्य केवल सामाजिक कल्याण है।
  3. अधिकारों का उद्देश्य वैयक्तिक कल्याण और सामाजिक कल्याण दोनों है।
  4. अधिकारों का उद्देश्य सामाजिक कल्याण के बिना वैयक्तिक कल्याण है।

58. 52 विद्यार्थियों की एक कक्षा में 15 विद्यार्थी अनुत्तीर्ण हुए। अनुत्तीर्ण विद्यार्थियों के नाम हटा देने के बाद, योग्यता क्रम की एक सूची बनाई गई है जिसमें रमेश का स्थान उपर से 22वां है। नीचे से उसका स्थान कौन-सा है?

  1. 18वां
  2. 17वां
  3. 16वां
  4. 15वां

59. निम्नलिखित पर विचार कीजिए : 

A+ B का अर्थ है कि A, B का पुत्र है।

A+ B का अर्थ है कि A, B की पत्नी है।

व्यंजक P + R –  Q का अर्थ क्या है?

  1. Q, P का पुत्र है।
  2. Q, P की पत्नी है।
  3. Q, P का पिता है।
  4. उपर्युक्त में से कोई नहीं

60. गोपाल ने एक सेल फोन ख़रीदा और उसे 10 प्रतिशत लाभ लेकर राम को बेच दिया। बाद में, राम उसे वापस गोपाल को 10 प्रतिशत हानि उठाकर बेच देना चाहता है। यदि गोपाल इसके लिए सहमत हो, तो उसकी स्थिति क्या होगी?

  1. न तो लाभ, न ही हानि
  2. हानि 1 प्रतिशत
  3. लाभ 1 प्रतिशत
  4. लाल 0.5 प्रतिशत

निम्नलिखित 7 (सात) प्रश्नांशों के लिए निर्देश: निम्नलिखित सात परिच्छेदों को पढ़िये और उनके नीचे आने वाले प्रश्नांशों के उत्तर दीजिए। इन प्रष्नांषों के लिए आपके उत्तर केवल इन परिच्छेदों पर ही आधारित होने चाहिए।

परिच्छेद - 1

हमारे सामने कठोर परिश्रम है। जब तक हम अपने प्रण को संपूर्णतः पूरा नहीं कर लेते, जब तक हम भारत के सभी लोगों को वह नहीं बना देते जो कि नियति चाहती है कि वे हों, तब तक हममें से किसी को आराम नहीं करना है। हम एक महान देश के नागरिक हैं, सुस्पष्ट प्रगति के कगार पर हैं, और हमें उन उच्च आदर्शों को जीवन में उतारना है। हम सभी, चाहे हम किसी भी धर्म के हों, समान रूप से भारत की संतान हैं और हमारे अधिकार, विशेषाधिकार और दायित्व बराबर है। हम साम्प्रदायिकता अथवा मानसिक संकीर्णता को बढ़ावा नहीं दे सकते, क्योंकि कोई भी देश, जिसके लोग विचारों अथवा आचरण में संकीर्ण हों, महान नहीं हो सकता।

61. उपर्युक्त परिच्छेद का लेखक लोगों को क्या प्राप्त करने की चुनौती देता है?

  1. उच्च जीवन आदर्श, प्रगति और विशेषाधिकार
  2. समान विशेषाधिकार, नियति की पूर्णता और राजनीतिक सहिष्णुता
  3. साहसिक उत्साह और आर्थिक समानता
  4. कठोर परिश्रम, भाईचारा और राष्ट्रीय एकता

परिच्छेद -2

‘‘रूसो के अनुसार, व्यक्ति अपनी सत्ता को और अपनी पूरी शक्ति को सम्मिलित रूप से समष्टि-संकल्प (जेनरल विल) के सर्वोच्च निर्देश के अधीन रखता है, और हम अपनी समष्टिगत क्षमता प्रत्येक सदस्य को संपूर्ण के अविच्छिन्न अंश के रूप में लेते हैं।

62. उपर्युक्त परिच्छेद के अनुसार, निम्नलिखित में से कौन-से समश्टि-संकल्प के स्वरूप का सर्वोत्तम वर्णन है?

  1. व्यक्तियों की व्यक्तिगत इच्छाओं का कुल योग
  2. व्यक्तियों के निर्वाचित प्रतिनिधियों द्वारा जो स्पष्ट कहा गया है
  3. सामूहिक कल्याण जो व्यक्तियों की व्यक्तिगत इच्छाओं से भिन्न है
  4. समुदाय के वस्तुपरक (मेटीरियल) हित

परिच्छेद -3

लोकतांत्रिक राज्य में, जहां लोगों में उच्च कोटि की राजनीतिक परिपक्वता होती है, सर्वसत्ताधारी विधि निर्माता निकाय के संकल्प और जनता के संगठित संकल्प में बिरले ही संघर्ष होता है।

63. उपर्युक्त परिच्छेद का क्या निहितार्थ है?

  1. लोकतंत्र में, संप्रभुता के वास्तविक पालन में, बल प्रमुख तथ्य होता है।
  2. परिपक्व लोकतंत्र में, संप्रभुता के वास्तविक पालन में, बल एक बड़ी सीमा तक प्रमुख तथ्य होता है।
  3. परिपक्व लोकतंत्र में, संप्रभुता के वास्तविक पालन में, बल का प्रयोग अप्रासंगिक है।
  4. परिपक्व लोकतंत्र में, संप्रभुता के वास्तविक पालन में, बल घटकर एक उपांतिक तथ्य (मार्जिनल फेनाॅमिनाॅन) रह जाता है।

परिच्छेद-4

सफल लोकतंत्र राजनीति में व्यापक रूचि एवं भागीदारी पर निर्भर करता है, जिसमें मतदान एक आवश्यक अंग है। जानबूझकर इस प्रकार की रूचि न रखना और मतदान न करना, एक प्रकार की अन्तर्निहित अराजकता है; यह स्वतंत्र राजनीतिक समाज के लाभों का उपभोग करते हुए अपने राजनीतिक दायित्व से मुख मोड़ना है।

64. यह परिच्छेद किससे संबंधित है?

  1. मतदान का दायित्व
  2. मतदान का अधिकार
  3. मतदान की स्वतंत्रता
  4. राजनीति में भागीदारी का अधिकार

परिच्छेद -5

किसी स्वतंत्र देश में, नेता की स्थिति तक पहुंचने वाला व्यक्ति सामान्यतः उत्कृष्ट चरित्र और योग्यता वाला व्यक्ति होता है। इसके साथ ही, इसका पूर्वानुमान कर लेना भी समान्यतः संभव होता है कि वह इस स्थिति तक पहुँचेगा, क्योंकि जीवन के प्रारंभिक वर्षों में ही उसके चारित्रिक गुणों को देखा जा सकता है। किन्तु किसी तानाशाह के मामले में यह हमेशा सत्य नहीं होता; वह प्रायः अपनी सत्ता की स्थिति तक संयोग से पहुंच जाता है, अनेक बार तो सिर्फ अपने देश की दुखद स्थिति के कारण ही।

65. इस परिच्छेद में यह सुझाया गया प्रतीत होता है कि

  1. नेता अपनी भावी स्थिति का पूर्वानुमान कर लेता है
  2. नेता सिर्फ किसी स्वतंत्र देश के द्वारा ही चुना जाता है
  3. किसी भी नेता को इस बात पर ध्यान रखना चाहिए कि उसका देश निराशा से मुक्त रहे
  4. किसी देश में बनी हुई निराशा की परिणति कभी-कभी तानाशाही में होती है

परिच्छेद -6

तकनीकी प्रगति में निहित मानव-जाति के लिए सबसे बड़ा वरदान, निश्चित रूप से, भौतिक संपदा का संचय नहीं है। किसी व्यक्ति के द्वारा जीवन में इनकी जितनी मात्रा का वास्तविक रूप में उपभोग किया जा सकता है, वह बहुत अधिक नहीं है। किन्तु फ़ुरसत के समय के उपभोग की संभावनाएं उसी संकीर्ण सीमा तक सीमित नहीं हैं। जिन्होंने फुरसत के समय के उपहार के सदुपयोग का कभी अनुभव नहीं किया है, वे लोग इसका दुरुपयोग कर सकते हैं। फिर भी, समाजों की एक अल्पसंख्या द्वारा फ़ुरसत के समय को रचनात्मक उपयोग किया जाना ही आदिम स्तर के बाद सभी मानव-प्रगति का मुख्य प्रेरणास्त्रोत रहा है।

66. उपर्युक्त परिच्छेद के संदर्भ में निम्नलिखित पूर्वधारणाऐं बनाई गई हैंः

  1. फुरसत के समय को लोग सदैव उपहार के रूप में देखते हैं तथा इसका उपयोग और अधिक भौतिक संपदा अर्जित करने के लिए करते हैं।
  2. कुछ लोगों द्वारा फुरसत के समय का, नूतन और मौलिक चीजों के उत्पादन के लिए, उपयोग किया जाना ही मानव-प्रगति का मुख्य स्त्रोत रहा है।.

इनमें से कौन-सी पूर्वधारणा/पूर्वधारणाऐं वैध है/हैं?

  1. केवल 1
  2. केवल 2
  3. 1 और 2 दोनों
  4. न तो 1 और न ही 2

परिच्छेद -7

इस अभिकथन में किंचित से कहीं अधिक सच्चाई है कि ‘‘सामयिक घटनाओं की बुद्धिमतापूर्ण व्याख्या के लिए प्राचीन इतिहास का कार्यसाधक ज्ञान होना आवश्यक है’’। किन्तु जिस बुद्धिमान ने समझदारी के ये शब्द कहे थे, उसने विशेष रूप से इतिहास की प्रसिद्ध लड़ाईयोें के अध्यय से होने वाले फ़ायदों पर अवश्य ही कुछ न कुछ कहा होगा, क्योंकि इनमें हममें से उनके लिए सबक शामिल हैं जो नेतृत्व करते हैं या नेता बनने की अभिलाषा रखते हैं। इस तरह के अध्ययन से कुछ ऐसे गुण और विशेषताएँ उद्घटित होंगी, जिनमें विजेताओं के लिए जीत परिचालित हुई और वे कतिपय कमियाँ भी, जिनके कारण हारने वाले की हार हुई; और विद्यार्थी यह देखेगा कि यही प्रतिरूप सदियों से लगातार, बार-बार पुनर्घटित होता है।

67. उपर्युक्त परिच्छेद के संदर्भ में निम्नलिखित पूर्वधारणाऐं बनाई गई हैं :

  1. इतिहास की प्रसिद्ध लड़ाइयों का अध्ययन हमें आधुनिक युद्ध स्थिति को समझने में सहायता करेगा।
  2. जो भी नेतृत्व की इच्छा रखता है, उसके लिए इतिहास का अध्ययन अनिवार्य है।

इसमें से कौन-सी पूर्वधारणा/पूर्वधारणाऐं वैध है/हैं?

  1. केवल 1
  2. केवल 2
  3. 1 और 2 दोनों
  4. न तो 1 और न ही 2

68. मान लीजिए कि 9 व्यक्तियों का औसत वजन 50 कि.ग्रा. है। प्रथम 5 व्यक्तियों का औसत वजन 45 कि.ग्रा. है, जबकि अंतिम 5 व्यक्तियों का औसत वजन 55 कि.ग्रा. है। पांचवें व्यक्ति का वजन होगा

  1. 45 kg
  2. 47.5 kg
  3. 50 kg
  4. 52.5 kg

69. छः स्त्रियों के एक समूह में चार टेनिस की खिलाड़ी, चार समाजशास्त्र में स्नातकोत्तर हैं, एक वाणिज्य स्नातकोत्तर है ओर तीन बैंक कर्मचारी है जबकि अमला और कोमला बेरोजगार है। कोमला और निर्मला टेनिस की खिलाड़ियों में से हैं। अमला, कमला, कोमला और निर्मला समाजशास्त्र में स्नातकोत्तर हैं जिनमें से दो बैंक कर्मचारी हैं। यदि श्यामला वाणिज्य में स्नातकोत्तर है, तो इनमें से कौन टेनिस की खिलाड़ी और बैंक कर्मचारी दोनों है?

  1. अमला
  2. कोमला
  3. निर्मला
  4. श्यामला

70. p = (A का 40%) +(B का 65%) तथा Q(A का 50%) + (B का 50% ) जहां A, B से बड़ा है।

इस संदर्भ में निम्नलिखित में से कौन सा कथन सही है?

  1. P, Q से बड़ा है।
  2. Q, P से बड़ा है।
  3. P, Q के बराबर है।
  4. उपर्युक्त में से कोई भी निष्कर्ष निश्चित रूप से नहीं निकाला जा सकता।

71. एक घड़ी हर 24 घंटे में 2 मिनट धीमी हो जाती है, जबकि एक दूसरी घड़ी हर 24 घंटे में 2 मिनट तेज हो जाती है। एक विशेष क्षण पर दोनों घड़ियां एक ही समय दिखाती है। यदि 24 घंटों वाली घड़ी का अनुसरण करें, तो निम्नलिखित कथनों में से कौन-सा सही है?

  1. 30 दिन पूरे होने पर दोनों घड़ियां फिर एक ही समय दिखती है।
  2. 90 दिन पूरे होने पर दोनों घड़ियां फिर एक ही समय दिखती है।
  3. 120 दिन पूरे होने पर दोनों घड़ियां फिर एक ही समय दिखती है।
  4. उपर्युक्त कथनों में से कोई भी सही नहीं है।

72. किसी शहर में 12 प्रतिशत परिवार एक वर्ष में 30,000 रूपये से कम कमाते हैं, 6 प्रतिशत परिवार एक वर्ष में 2,00,000 से अधिम कमाते हैं, 22 प्रतिशत परिवार एक वर्ष में 1,00,000 से अधिक कमाते हैं तथा 990 परिवार एक वर्ष में 30,000 से 1,00,000 के बीच कमतो हैं। कितने परिवार एक वर्ष में 1,00,000 से 2,00,000 के बीच कमाते हैं?

  1. 250
  2. 240
  3. 230
  4. 225

73. एक घड़ी 1 बजे एक बार बजती है, 2 बजे दो बार, 3 बजे तीन बार बजती है तथा इसी प्रकार आगे इसका बजना जारी रहता है। यदि 5 बजे इसको बजने 12 सेंकड लगते हैं, तो 10 बजे इसे बजने में कितना समय लगेगा?

  1. 20 सेकंड
  2. 24 सेकंड
  3. 28 सेकंड
  4. 30 सेकंड

74. दिए गए कथन पर और उससे अनुगमित हाने वाले दो निष्कर्षों पर विचार कीजिएः

कथनः:

सुबह की सैर स्वास्थ्य के लिए अच्छी होती है।

निष्कर्ष:

  1. सभी स्वस्थ लोग सुबह की सैर करते हैं।
  2. अच्छा स्वास्थ्य बनाए रखने के लिए सुबह की सैर अनिवार्य है।

वैध निष्कर्ष कौन-सा/से है/हैं?

  1. केवल 1
  2. केवल 2
  3. 1 और 2 दोनों
  4. न तो 1 और न ही 2

75. तेरह 2 - अंकीय क्रमागत विषम संख्याऐं हैं। यदि ऐसी प्रथम पांच संख्याओं का माध्य 39 है, तो सभी तेरह संख्याओं का माध्य क्या है?

  1. 47
  2. 49
  3. 51
  4. 45

76. लड़के A, B, C. D, E और F ताश का एक खेल खेलते हैं। प्रत्येक के पास ताश के 10 पत्तों की एक गड्डी है। F, 2 पत्ते । से उधार लेता है और 5 पत्ते C को देता है, आगे C 3 पत्ते B को देता है, जबकि B 6 पत्ते D को देता है जो 1 पत्ता E की ओर बढ़ा देता है। अब D और E के पास ताश के जितने पत्ते हैं वे निम्नलिखित में से किस समूह के पास उपलब्ध ताश के पत्तों की संख्या के बराबर हैं?

  1. A, B और C
  2. B, C और F
  3. A, B और F
  4. A, C और F

77. दूध के एक नमूने में 50 प्रतिशत पानी है। यदि इस दूध का 1/3 भाग इतनी ही मात्रा के शुद्ध दूध में मिलाया जाए, तो नए मिश्रण में पानी की मात्रा कितने प्रतिशत तक कम हो जाएगी?

  1. 25 प्रतिशत
  2. 30 प्रतिशत
  3. 35 प्रतिशत
  4. 40 प्रतिशत

78. एक पट्ट पर 4 क्षैतिज और 4 ऊर्ध्वाधर रेखाऐं हैं, परस्पर समान्तर और समदूरस्थ हैं। इनसे अधिक कितने आयत और वर्ग बनाए जा सकते हैं?

  1. 16
  2. 24
  3. 36
  4. 42

79. एक मालगाड़ी दिल्ली से मुंबई के लिए 40 कि.मी. प्रति घंटे की औसत चाल से रवाना होती है। उसके दो घंटे पश्चात एक एक्सप्रेस गाड़ी दिल्ली से मुंबई के लिए, पहले रवाना हुई मालगाड़ी के समांतर पथ पर, 60 कि.मी. प्रति घंटे की औसत चाल से रवाना होती है। दिल्ली से कितनी दूरी पर एक्सप्रेस गाड़ी, मालगाड़ी से मिलेगी?

  1. 480 कि.मी
  2. 260 कि.मी
  3. 240 कि.मी
  4. 120 कि.मी

80. एक परीक्षा में रणधीर को, कुणाल और देबू को मिले कुल अंकों से अधिक अंक प्राप्त हुए हैं। कुणाल और शंकर को मिले कुल अंक रणधीर के अंकों से अधिक हें। सोनल को शंकर से अधिक अंक मिले हैं। नेहा को रणधीर से अधिक अंक मिले हैं। इनमें से सबसे अधिक अंक किसे प्राप्त हैं?

  1. रणधीर
  2. नेहा
  3. सोनल
  4. आंकड़ें अपर्याप्त हैं

 

ANSWERS:

 

 


GET DAILY NEWSLETTER for UPSC Exams

DONT FORGET TO CHECK AND CONFIRM YOUR EMAIL LINK.