(Download) संघ लोक सेवा आयोग सिविल सेवा - मुख्य परीक्षा (प्रबन्धन) Paper-1- 2017


संघ लोक सेवा आयोग सिविल सेवा - मुख्य परीक्षा
(Download) UPSC IAS Mains Exam Paper - 2017 : प्रबन्धन (Paper - 1)


प्रबन्धन
(प्रश्न पत्र - I)

निर्धारित समय : तीन घंटे

अधिकतम अंक : 250

प्रश्न-पत्र सम्बन्धी विशेष अनुदेश

कृपया प्रश्नों के उत्तर देने से पूर्व निम्नलिखित प्रत्येक अनुदेश को ध्यानपूर्वक पढ़े :

इसमें आठ (8) प्रश्न हैं जो दो खण्डों में विभाजित हैं तथा हिन्दी और अंग्रेज़ी दोनों में छपे हैं ।

परीक्षार्थी को कुल पाँच प्रश्नों के उत्तर देने हैं।

प्रश्न संख्या 1 और 5 अनिवार्य हैं तथा बाकी में प्रत्येक खण्ड से कम-से-कम एक प्रश्न चुनकर किन्हीं तीन प्रश्नों के उत्तर दीजिए । प्रत्येक प्रश्न/भाग के अंक उसके सामने दिए गए हैं ।

प्रश्नों के उत्तर उसी प्राधिकृत माध्यम में लिखे जाने चाहिए जिसका उल्लेख आपके प्रवेश-पत्र में किया गया है, और इस माध्यम का स्पष्ट उल्लेख प्रश्न-सह-उत्तर (क्यू.सी.ए.) पुस्तिका के मुख-पृष्ठ पर निर्दिष्ट स्थान पर किया जाना चाहिए । प्राधिकृत माध्यम के अतिरिक्त अन्य किसी माध्यम में लिखे गए उत्तर पर कोई अंक नहीं मिलेंगे।

प्रश्नों में शब्द सीमा, जहाँ विनिर्दिष्ट है, का अनुसरण किया जाना चाहिए ।

जहाँ आवश्यक हो, आरेख / चित्र उत्तर के लिए दिए गए स्थान में ही दर्शाइए ।

प्रश्नों के उत्तरों की गणना क्रमानुसार की जाएगी । यदि काटा नहीं हो, तो प्रश्न के उत्तर की गणना की जाएगी चाहे वह उत्तर अंशतः दिया गया हो । प्रश्न-सह-उत्तर पुस्तिका में खाली छोड़ा हुआ पृष्ठ या उसके अंश को स्पष्ट रूप से काटा जाना चाहिए ।

खण्ड - A

Q1. निम्नलिखित प्रत्येक प्रश्न का उत्तर लगभग 150 शब्दों में दीजिए :

(a) प्रबन्धन के विचार के विकास में फेयोल के योगदानों की विवेचना कीजिए ।
(b) प्रत्यक्षण (परसेप्शन) की संकल्पना की व्याख्या कीजिए एवं उन कारकों को बताइए जो व्यक्ति के प्रात्यक्षिक प्रक्रम से सम्बन्ध रखते हैं।
(c) आधुनिक स्मार्ट शासकीय संगठनों में कर्मचारी सशक्तिकरण के पाँच तरीकों की व्याख्या कीजिए ।
(d) सरकारी एवं निजी क्षेत्रकों से उचित उदाहरण लेते हुए आपातिक (कन्टिन्जेन्ट) एवं रचनांतरणपरक (ट्रान्सफॉरमेशनल) नेतृत्व शैलियों की विवेचना कीजिए।
(e) कार्य संतुष्टि क्या है ? इसका कर्मचारियों के ठहराव के इरादे, उत्पादकता, अनुपस्थितता, श्रमिक प्रतिस्थापन एवं दुर्घटनाओं से क्या सम्बन्ध है ? ज्ञान आधारित संगठनों के संदर्भ में उत्तर दीजिए।

Q2. (a) विरोधिता (संघर्ष) को परिभाषित कीजिए। अंतरावैयक्तिक और अंतर्वैयक्तिक संघर्ष कौन-कौन से हैं ? इनका समाधान कैसे किया जा सकता है ? उदाहरण दीजिए।
(b) उद्यमिता एवं नवाचार के बीच क्या सम्बन्ध है ? विभिन्न प्रकार के नवाचारों का विवेचन कीजिए ।
(c) संगठनात्मक व्यवहार बहुविषयी स्वरूप का होता है । उभरते हुए विषयों सहित 10 ऐसे विषयों के नाम बताइए जिन्होंने संगठनात्मक व्यवहार बनाने में योगदान दिया है । प्रत्येक विषय के लिए एक उदाहरण दीजिए ।

Q3. (a) अभिप्रेरण क्या है ? एक संगठन में कर्मचारियों को अभिप्रेरित करने में मैसलो की सोपान थियोरी का कैसे इस्तेमाल किया जा सकता है ? व्याख्या कीजिए।
(b) संगठन में प्रौद्योगिकी द्वारा शक्तिप्रदत्त एच.आर.आई.एस. के घटकों और फीडबैक मैकेनिज़्म (प्रतिपुष्टि व्यवस्था) की व्याख्या कीजिए । क्या वे वर्धित अभिप्रेरण और मनोबल पैदा करते हैं ? पुष्टि कीजिए ।
(c) संगठनात्मक संदर्भ में तनाव के संभाव्य स्रोत एवं परिणाम क्या-क्या हैं ? उनसे कैसे निपटा जा सकता है ?

Q4. (a) जनसांख्यिकीय और प्रौद्योगिकीय परिवर्तनों के संदर्भ में मानव संसाधन नियोजन की चुनौतियों की व्याख्या कीजिए ।
(b) कारोबारी संगठन का एकमात्र उत्तरदायित्व, विधिक ढाँचे के भीतर, अपने मालिकों के हितों की उन्नति करना होता है और कारोबारी संगठनों पर सामाजिक उत्तरदायित्व नहीं लादे जा सकते हैं। क्या आप इस कथन से सहमत हैं ? स्पष्ट कीजिए ।
(c) संगठन संस्कृति क्या है ? संगठन संस्कृति को कैसे बनाया जा सकता है ? व्याख्या कीजिए ।

खण्ड - B

Q5. निम्नलिखित प्रत्येक प्रश्न का उत्तर लगभग 150 शब्दों में दीजिए :

(a) जॉब लागत-निर्धारण और प्रक्रम लागत-निर्धारण को परिभाषित कीजिए । जॉब लागत-निर्धारण किन-किन बातों में प्रक्रम लागत-निर्धारण से भिन्न है ?
(b) वित्तीय निर्णयों में प्रबन्धन लेखाकरण के महत्त्व को समझाइए ।
(c) कम्पनी की सफलता सुनियोजित पूँजी संरचना पर निर्भर करती है ।” परीक्षण कीजिए ।
(d) नकदी प्रबन्धन के मिलर-ऑर मॉडल की व्याख्या कीजिए । उपयुक्त नकदी शेष के निर्धारण में यह मॉडल किस प्रकार सहायक है ?
(e) बाज़ार खंडीकरण दक्षता एवं प्रभाविता के बीच एक समझौता है । इस कथन का समालोचनात्मक मूल्यांकन कीजिए ।

Q6. (a) मानक लागत और मानक लागत-निर्धारण को परिभाषित कीजिए । मानक लागत-निर्धारण लागत पर प्रभावी नियंत्रण में किस प्रकार उपयोगी होता है ?
(b) वर्तमान विपणन परिवेश में ग्राहक धारण (रिटेंशन) क्यों महत्त्वपूर्ण है ? लम्बे समय तक ग्राहकों को धारण करने के लिए अपनाई जा सकने वाली रणनीतियों की व्याख्या कीजिए।
(c) कार्यशील पूँजी की प्रचालन चक्र संकल्पना की व्याख्या कीजिए । कार्यशील पूँजी के प्रबन्ध में प्रचालन चक्र का गहन अध्ययन किस प्रकार सहायक होता है ? समझाइए ।

Q7. (a) ईक्विटी पूँजी एवं प्रतिधारित आय लागत-रहित पूँजी प्रदान करते हैं। क्या आप इस कथन से सहमत हैं ? इनकी लागतें निर्धारित करने की विधियों की व्याख्या कीजिए ।
(b) प्रचालन से निधि को परिभाषित कीजिए । इसका अभिकलन कैसे किया जाता है ? उदाहरण के साथ समझाइए ।
(c) स्थान निर्धारण (पोज़िशनिंग) उपभोक्ता के मस्तिष्क में किया जाता है और न कि उत्पाद का स्पर्धात्मक बाज़ार के सन्दर्भ में इसकी प्रासंगिकता की व्याख्या कीजिए।

Q8. (a) लागत लेखाओं और वित्तीय लेखाओं के बीच सामंजस्य स्थापित करने का क्या प्रयोजन होता है ? लागतन लाभों और वित्तीय लाभों के बीच अंतर के कारणों को स्पष्ट कीजिए ।
(b) उपभोक्ता खरीदारी निर्णय बिना सोचे-विचारे नहीं लेता है। उपभोक्ता निर्णयन प्रक्रम के विभिन्न चरणों की व्याख्या कीजिए ।
(c) “लीवरेज एक ऐसे उपकरण के समान है जो दो तरफ़ा काट करता है। एक ओर यह जोखिम में वृद्धि करता है तो दूसरी ओर निवेश पर परिलब्धि की वृद्धि करने का एक अवसर प्रदान करता है। इस कथन का आलोचनात्मक परीक्षण कीजिए।

Click Here to Download PDF

Printed Study Material for IAS Mains General Studies

UPSC सामान्य अध्ययन प्रारंभिक एवं मुख्य परीक्षा (Combo) Study Kit

सामान्य अध्ययन सिविल सेवा मुख्य परीक्षा अध्ययन सामग्री (GS Mains Study Kit)

<< Go Back to Main Page