admin's blog

(Free E-Book) PIB वार्षिक समीक्षा 2018 (HINDI MEDIUM)

PIB YEARLY REVIEW HINDI


PIB वार्षिक समीक्षा 2018 for IAS Exams


Click Here to Download Full e-Book

TABLE OF CONTENTS:

  • संस्कृति मंत्रालय : वर्षांत समीक्षा   
  • उपभोक्‍ता कार्य, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्रालय : वर्षांत समीक्षा  
  • रेल मंत्रालय में की गई पहल और उपलब्धियां  
  • गृह मंत्रालय : वर्षांत समीक्षा  
  • पूर्वोत्‍तर क्षेत्र विकास मंत्रालय : वर्षांत समीक्षा   
  • अंतरिक्ष विभाग : वर्षांत समीक्षा  
  • खाद्य प्रसंस्‍करण उद्योग मंत्रालय : वर्षांत समीक्षा  
  • कोयला मंत्रालय : वर्षांत समीक्षा  
  • संचार मंत्रालय : वर्षांत समीक्षा  
  • पर्यटन मंत्रालय : वर्षांत समीक्षा  
  • कृषि, सहकारिता एवं किसान कल्याण मंत्रालय : वर्षांत समीक्षा  
  • इस्पात मंत्रालय : वर्षांत समीक्षा  
  • जैव प्रौद्योगिकी विभाग : वर्षांत समीक्षा  
  • कार्मिक, लोक शिकायत और पेंशन मंत्रालय : वर्षांत समीक्षा  
  • सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय : वर्षांत समीक्षा  
  • नीति आयोग : वर्षांत समीक्षा  
  • नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय : वर्षांत समीक्षा  
  • वस्त्र मंत्रालय : वर्षांत समीक्षा  
  • बिजली मंत्रालय : वर्षांत समीक्षा  
  • इलेक्ट्रानिक्स एवं आईटी मंत्रालय : वर्षांत समीक्षा  
  • पोत परिवहन मंत्रालय : वर्षांत समीक्षा  
  • सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय : वर्षांत समीक्षा  
  • सूचना और प्रसारण मंत्रालय : वर्षांत समीक्षा  
  • अल्‍पसंख्‍यक कार्य मंत्रालय : वर्षांत समीक्षा  
  • सांख्यिकी एवं कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय : वर्षांत समीक्षा  
  • आवास एवं शहरी गरीबी उपशमन मंत्रालय : वर्षांत समीक्षा  
  • वित्‍त मंत्रालय : वर्षांत समीक्षा  
  • वाणिज्‍य एवं उद्योग मंत्रालय : वर्षांत समीक्षा  
  • विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय : वर्षांत समीक्षा  
  • श्रम और रोजगार मंत्रालय : वर्षांत समीक्षा  
  • पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय : वर्षांत समीक्षा  
  • जल संसाधन, नदी विकास एवं गंगा संरक्षण मंत्रालय : वर्षांत समीक्षा  
  • कॉरपोरेट कार्य मंत्रालय : वर्षांत समीक्षा  
  • जनजातीय कार्य मंत्रालय : वर्षांत समीक्षा  
  • विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय : वर्षांत समीक्षा  
  • सामाजिक न्‍याय एवं अधिकारिता मंत्रालय : वर्षांत समीक्षा  
  • आयुष : वर्षांत समीक्षा  
  • भारी उद्योग एवं लोक उद्यम मंत्रालय : वर्षांत समीक्षा  
  • अमृत - आवास एवं शहरी गरीबी उपशमन मंत्रालय : वर्षांत समीक्षा  
  • पेयजल एवं स्‍वच्‍छता मंत्रालय : वर्षांत समीक्षा  
  • ग्रामीण विकास मंत्रालय : वर्षांत समीक्षा  
  • संसदीय कार्य मंत्रालय : वर्षांत समीक्षा  
  • स्मार्ट सिटी मिशन, आवास एवं शहरी गरीबी उपशमन मंत्रालय : वर्षांत समीक्षा  
  • परमाणु ऊर्जा विभाग : वर्षांत समीक्षा  
  • पृथ्‍वी विज्ञान मंत्रालय : वर्षांत समीक्षा  
  • कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्रालय : वर्षांत समीक्षा  
  • स्वच्छ भारत मिशन (शहरी) : वर्षांत समीक्षा  
  • खेल विभाग (युवा कार्यक्रम एवं खेल मंत्रालय) : वर्षांत समीक्षा  
  • पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय : वर्षांत समीक्षा  
  • सूक्ष्‍म, लघु एवं मध्‍यम उद्यम मंत्रालय : वर्षांत समीक्षा  
  • उपभोक्‍ता कार्य, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्रालय : वर्षांत समीक्षा  

Click Here to Download Full e-Book

E-Book: Download UPSC, IAS Exam Syllabus PDF (Pre+Mains)

Download UPSC Civil Services Examination Syllabus

Download IAS Syllabus E-book

IAS Pre Examination

  • Preliminary Examination Paper - I
  • Preliminary Examination Paper - II

IAS Mains Examination

The written examination will consist of the following papers:

Paper‐I 

Section 1

Section 1

  • English Comprehension & English Précis (Xth Standard) 100 Marks

Paper‐II

  • General Studies - I 250Marks
    (Indian Heritage and Culture, History and Geography of the World and Society)

Paper‐III

  • General Studies –II 250 Marks
    (Governance, Constitution, Polity, Social Justice and International relations)

Paper‐IV

  • General Studies –III 250 Marks
    (Technology, Economic Development, Bio‐diversity, Environment, Security and Disaster Management)

Paper‐V

Paper‐VI

  • Optional Subject – Paper 1 250Marks

Paper‐VII

  • Optional Subject – Paper 2 250 Marks

Sub Total (Written test) 1750 Marks

Personality Test 275 Marks

Grand Total 2025 Marks

Optional Papers:

Download IAS Syllabus E-book

 

Get this E-Book in your Mobile (via Google Play).

 

Original 'The Gist' of The Hindu, Yojana, PIB Etc (DECEMBER 2018)

The-Gist-of-Hindu-Yojana-PIB

THE GIST of HINDU, YOJANA, Kurukshetra, PIB, Science Reporter Magazine

THE GIST MAGMedium: English

Price: Rs. 70RS 49.00/-

Cover Month: DECEMBER 2018

Number of Pages: 125

File Type: ONLY PDF FILE


Click Here to Buy Soft Copy of This Gist


THE GIST PDF COPY ANNUAL SUBSCRIPTION CLICK HERE

TOPICS OF THE GIST

  • Gist of The Hindu (Newspaper)

  • Gist of The Yojana Magazine

  • Gist of Kurukshetra Magazine
  • Gist of Science Reporter Magazine

  • Gist of PIB (Press Information Bereau)

(डाउनलोड "Download") यूपीएससी आईएएस (प्री) सामान्य अध्ययन परीक्षा (पेपर - 1) (सेट-D) UPSC IAS (Pre.) General Studies Exam Paper - 2018 (Paper - 1) (SET-D)

IAS EXAM


(डाउनलोड "Download") यूपीएससी आईएएस (प्री) सामान्य अध्ययन परीक्षा (पेपर - 1) (सेट-D) UPSC IAS (Pre.) General Studies Exam Paper - 2018 (Paper - 1) (SET-D)


परीक्षा का नाम: UPSC PRE 2018 आईएएस (प्री)

विषय(Subject) : सामान्य अध्ययन (पेपर -1) General Studies (GS) Paper -1

Exam Date: 03-06-2018

BOOKLET SERIES: D

साल (Year): 2018

1. भारतीय क्षेत्रीय संचालन उपग्रह प्रणाली (इंडियन रीजनल नेविगेशन सैटेलाइट सिस्टम (IRNSS) के संदर्भ में, निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए

1. IRNSS के तुल्यकाली जियोस्टेशनरी) कक्षाओं में तीन उपग्रह हैं और भूतुल्यकाली (जियोसिंक्रोनस) कक्षाओं में चार उपग्रह हैं ।'
2. IRNSS की व्याप्ति सम्पूर्ण भारत पर और इसकी सीमाओं के लगभग 5500 वर्ग किमी बाहर तक 3. 2019 के मध्य तक भारत की, पूर्ण वैश्विक व्याप्ति के साथ अपनी उपग्रह संचालन प्रणाली होगी ।

उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा/से सही है हैं ?

(a) केवल 1
(b) केवल 1 और 2
(c) केवल 2 और 3
(d) कोई नहीं

2. निम्नलिखित परिघटनाओं पर विचार कीजिए

1. प्रकाश , गुरुत्व द्वारा प्रभावित होता है।
2. ब्रह्माण्ड लगातार फैल रहा है ।
3. पदार्थ अपने चारों ओर के दिक्काल को विकुंचित (वार्प) करता है ।

उपर्युक्त में से एल्बर्ट आइन्सटाइन के आपेक्षिकता के सामान्य सिद्धान्त कार के भविष्यकथन कौन-सा/से है हैं, जिसकीजिनकी प्राय: समाचार माध्यमों में विवेचना होती

(a) केवल 1 और 2
(b) केवल 3
(C) केवल 1 और 3
(d) 1, 2 और 3

3. भारत में विकसित आनुवंशिकतः रूपांतरित सरसों (जेनेटिकली मॉडिफाइड सरसों GM सरसों) के सन्दर्भ मेंनिम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए

1. GM सरसों में मृदा जीवाणु के जीन होते हैं जो पादप को अनेक किस्मों के पीड़कों के विरुद्ध पीड़कप्रतिरोध का गुण देते हैं ।
2. GM सरसों में वे जीन होते हैं जो पादप में परपरागण और संकरण को सुकर बनाते हैं ।
3. - GM सरसों का विकास IARI और पंजाब कृषि विश्वविद्यालय द्वारा संयुक्त रूप से किया गया है ।

उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा/से सही है हैं ?

(a) केवल 1 और 3
(b) केवल 2
(c) केवल 2 और 3
(d) 1, 2 और 3

4. निम्नलिखित युग्मों पर विचार कीजिए :

कभी-कभी समाचारों संदर्भ विषय में आने वाले शब्द

1. बेल II प्रयोग - कृत्रिम बुद्धि
2. ब्लॉकचेन प्रौद्योगिकी - डिजिटल क्रिप्टो मुद्रा
3. CRISPR - Cas9 - कण भौतिकी

उपर्युक्त युग्मों में से कौनसा से सही सुमेलित है हैं ?

(a) केवल 1 और 3
(b) केवल 2
(c) केवल 2 और 3
(d) 1, 2 और 3

5. निम्नलिखित कथनों में से कौन-सा कार्बन निषेचना। (कार्बन फर्टिलाइजेशन) को सर्वोत्तम वर्णित करता है ?

(a) वायुमण्डल में कार्बन डाइऑक्साइड की बढ़ी हुई सांद्रता के कारण बढ़ी हुई पादप वृद्धि
(b) वायुमण्डल में कार्बन डाइऑक्साइड की बढ़ी हुई सांद्रता के कारण पृथ्वी का बढ़ा हुआ तापमान
(c) वायुमण्डल में कार्बन डाइऑक्साइड की बढ़ी हुई सांद्रता के परिणामस्वरूप महासागरों की बढ़ी हुई अम्लता
(d) वायुमण्डल में कार्बन डाइऑक्साइड की बढ़ी हुई सांद्रता के द्वारा हुए जलवायु परिवर्तन के अनुरूप पृथ्वी पर सभी जीवधारियों का अनुकूलन

6. जब सुबह आपके स्मार्ट फोन का अलार्म बजता है, तो आप उठ जाते हैं और अलार्म को बंद करने के लिए उसे थपकी देते हैं जिससे आपका गीज़र स्वतही चल पड़ता है । आपके स्नानागार में लगा स्मार्ट दर्पण दिन के मौसम | को दर्शाता है और आपकी ऊपरी टंकी में पानी के स्तर का भी संकेत देता है । जब आप नाश्ता बनाने के लिए अपने रेफ्रिजरेटर से कुछ किरानासामान निकाल लेते हैं, यह इसमें भंडारित सामान में आई कमी को जान लेता है और ताजे किरानासामानों की पूर्ति के लिए क्रयादेश दे देता है । जब आप घर से बाहर कदम रखते हैं और दरवाजे पर ताला लगाते हैं, तब सभी बत्तियाँपंखे, गीजर और ए.सी. मशीनें स्वतबंद हो जाती हैं । आपके कार्यालय के रास्ते पर, आपकी कार आगे आने वाले यातायात की भीड़ के बारे में आपको चेतावनी देती है |और वैकल्पिक रास्ते का सुझाव देती है, और यदि आपको किसी बैठक के लिए देर हो रही है, तो यह उसके अनुसार आपके कार्यालय में संदेश भेज देती है ।

इन आविर्भुत होती हुई संचार प्रौद्योगिकियों के सन्दर्भ में, उपर्युक्त परिदृश्य के लिए निम्नलिखित में से कौन-सा पद - सबसे उपयुक्त रूप से लागू होता है ?

(a) बॉर्डर गेटवे प्रोटोकॉल
(b) इन्टरनेट ऑफ़ र्थिग्स
(c) इन्टरनेट प्रोटोकॉल
(d) वर्चुवल प्राइवेट नेटवर्क

7. भारत में सौर ऊर्जा उत्पादन के सन्दर्भ में, नीचे दिए गए कथनों पर विचार कीजिए :

1. भारत प्रकाशवोल्टीय इकाइयों में प्रयोग में आने वाले सिलिकॉन वेफर्स का दुनिया में तीसरा सबसे बड़ा उत्पादक देश है ।
2. सौर ऊर्जा शुल्क का निर्धारण भारतीय सौर ऊर्जा निगम के द्वारा किया जाता है ।

उपर्युक्त कथनों में से कौनसा से सही है हैं ?

(a) केवल 1
(b) केवल 2
(c) 1 और 2 दोनों
(d) न तो 1, न ही 2

8. 18वीं शताब्दी के मध्य इंग्लिश ईस्ट इंडिया कम्पनी के द्वारा बंगाल से निर्यातित प्रमुख पण्यपदार्थ (स्टेपल कमोडिटीज़) क्या थे ?

(a) अपरिष्कृत कपास, तिलहन और अफीम
(b) चीनी, नमक, जस्ता और सीसा
(c) ताँबा, चांदी, सोना, मसाले और चाय
(d) कपासरेशमशोरा और अफीम

9. निम्नलिखित में से कौन-सा एक चम्पारण सत्याग्रह का अति महत्वपूर्ण पहलू है ?

(a) राष्ट्रीय आंदोलन में अखिल भारतीय स्तर पर अधिवक्ताओंविद्यार्थियों और महिलाओं की सक्रिय सहभागिता
(b) राष्ट्रीय आंदोलन में भारत के दलित और आदिवासी समुदायों की सक्रिय भागीदारी
(c) भारत के राष्ट्रीय आंदोलन में किसान असंतोष क सम्मिलित होना
(d) रोपण फसलों तथा वाणिज्यिक फसलों की खेती भारी गिरावट

10. निम्नलिखित में से कौन 1948 में स्थापित “हिन्द मज़दूर सभा" के संस्थापक थे ?

(a) बी. कृष्ण पिल्लई, ईएमएसनम्बूदिरिपाद और के.सी. जॉर्ज
(b) जयप्रकाश नारायणदीन दयाल उपाध्याय और एम.एन. रॉय
(c) सी.पी. रामास्वामी अय्यरके. कामराज और वीरेशलिंगम पंतुलु
(d) अशोक मेहता, टी.एसरामानुजम और जी.जी. मेहता

11. भारत की धार्मिक प्रथाओं के संदर्भ में ‘स्थानकवासी’ ” सम्प्रदाय का संबंध किससे है ?

(a) बौद्ध मत
(b) जैन मत
(c) वैष्णव मत
(d) शैव मत

12. भारत के सांस्कृतिक इतिहास के सन्दर्भ में, निम्नलिखित कंथनों पर विचार कीजिए

1. फतेहपुर सीकरी स्थित बुलंद दरवाजा तथा खानकाह के निर्माण में सफेद संगमरमर का प्रयोग हुआ था ।
2. लखनऊ स्थित बड़ा इमामबाड़ा और रूमी दरवाजा के निर्माण में लालबलुआ पत्थर और संगमरमर का प्रयोग हुआ था ।

उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा/से सही है हैं ?

(a) केवल 1
(b) केवल 2
(c) 1 और 2 दोनों
(d) न तो 1, न ही 2

13. निम्नलिखित विदेशी यात्रियों में से किसने भारत के हीरों और हीरे की खदानों की विस्तृत रूप से चर्चा की ?

(a) फ्रांस्वा बर्नियर
(b) ज्याँ-बैप्टिस्ट टेबर्नियर
(c) ज्याँ द धेवेनो
(d) एबे बाचेलेमी कारे

14. भारतीय इतिहास के सन्दर्भ में, निम्नलिखित में से कौन भावी बुद्ध है, जो संसार की रक्षा हेतु अवतरित होंगे ?

(a) अवलोकितेश्वर
(b) लोकेश्वर
(c) मैत्रेय
(d) पद्मपाणि

15. लॉर्ड वेलेज़ली द्वारा लागू की गई सहायक संधि व्यवस्था के बारे में निम्नलिखित में से कौन-सा कथन लागू नही होता ?

(a) दूसरों के खर्च पर एक बड़ी सेना बनाए रखना
(b) भारत को नेपोलियन के ख़तरे से सुरक्षित रखना
(c) कंपनी के लिए एक नियत आय का प्रबन्ध करना
(d) भारतीय रियासतों के ऊपर ब्रिटिश सर्वोचत स्थापित करना

16. निम्नलखित कथनो पर विचार कीजिए :

1. पहली लोक सभा में विपक्ष में सबसे बड़ा राजनितिक दल स्वतन्त्र पार्टी था।
2. लोकसभा में '' नेता - प्रतिपक्ष '' को सर्व प्रथम 1969 में मान्यता नहीं मिल सकती है।
3. लोक सभा में यदि किसी दल के न्यूनतम 75 सदस्य न हो तो उसके नेता को नेता - प्रतिपक्ष के रूप में मान्यता नहीं मिल सकती है।

उपयुर्क्त कथनो में से कौन - सा/ से सही है / है ?

(a) केवल 1 और 3
(b) केवल 2
(c) केवल 2 और 3
(d) 1,2 और 3

17. मरुस्थल क्षेत्रों में जल ह्रास को रोकने के लिए निम्नलिखित में से कौन -सा/से पर्ण रूपांतरण होता है/ होते है ?

1. कठोर एंव मोमी पर्ण
2. लघु पर्ण
3. पर्ण की जगह काँटे

निचे दिए गए कूट का प्रयोग क्र सही उत्तर चुनिए:

(a) केवल 2 और 3
(b) केवल 2
(c) केवल 3
(d) 1,2 और 3

18. एनएसएस.ओ. के 70वें चक्र द्वारा संचालित “कृषककुटम्बों की स्थिति आकलन सर्वेक्षण" के अनुसार निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए

1. राजस्थान में ग्रामीण कुटुम्बों में कृषि कुटुम्बों का प्रतिशत सर्वाधिक है ।
2. देश के कुल कृषि कुटुम्बों में 60% से कुछ अधिक ओ.बी.सी. के हैं ।
3. केरल में 60% से कुछ अधिक कृषि कुटस्बों ने यह सूचना दी कि उन्होंने अधिकतम आय गैर कृषि स्रोतों से प्राप्त की है ।

उपर्युक्त कथनों में से कौनसा/से सही है/हैं ?

(a) केवल 2 और 3
(b) केवल 2
(c) केवल 1 और 3
(d) 1, 2 और 3

19. राष्ट्रीय हरित अधिकरण (एन.जी.टी.) किस प्रकार केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सी.पी.सी.बी.) से भिन्न

1. एन.जी.टी. का गठन एक अधिनियम द्वारा किया गया है जबकि सी.पी.सी.बी. का गठन सरकार के कार्यपालक आदेश से किया गया है ।
2. एन.जी.टी. पर्यावरणीय न्याय उपलब्ध कराता है। और उच्चतर न्यायालयों में मुकदमों के भार को कम करने में सहायता करता है जबकि सी.पी.सी.बी. झरनों और कुंओं की सफाई को प्रोत्साहित करता है, तथा देश में वायु की गुणवत्ता में सुधार लाने का लक्ष्य रखता है ।

उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा/से सही है हैं ?

(a) केवल 1
(b) केवल 2
(c) 1 और 2 दोनों
(d) न तो 1, न ही 2

20. निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए

1. भारत की संसद किसी कानून विशेष को भारत के संविधान की नौवीं अनुसूची में डाल सकती है ।
2. नौवीं अनुसूची में डाले गए किसी कानून की वैधता का परीक्षण किसी न्यायालय द्वारा नहीं किया जा सकता एवं उसके ऊपर कोई निर्णय भी नहीं किया जा सकता है ।

उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा/से सही है/हैं ?

(a) केवल 1
(b) केवल 2
(c) 1 और 2 दोनों
(d) न तो 1, न ही 2

Click Here to Download Full Paper in PDF Format

UPSC सामान्य अध्ययन (GS) प्रारंभिक परीक्षा (Pre) पेपर-1 स्टडी किट

सामान्य अध्ययन प्रारंभिक परीक्षा के लिए ऑनलाइन कोचिंग (पेपर - 1)

(E-Book) IAS Prelims CSAT Paper-2 Question Papers Download

UPSC CSAT Papers Download

Free E-Book: IAS Pre CSAT (Paper-2) Previous Years Question Papers Download

  • IAS Pre CSAT (Paper - 2) – 2018
  • IAS Pre CSAT (Paper - 2) – 2017
  • IAS Pre CSAT (Paper - 2) – 2016
  • IAS Pre CSAT (Paper - 2) – 2015
  • IAS Pre CSAT (Paper - 2) – 2014
  • IAS Pre CSAT (Paper - 2) – 2013
  • IAS Pre CSAT (Paper - 2) – 2012

Click Here to Get Download Link in Your Email.

Printed Study Material for IAS Pre General Studies (Paper-2)

Online Crash Course for UPSC PRE Exam

(फ्री-ईबुक) UPSC संघ लोक सेवा आयोग (मुख्य परीक्षा Main Exam) GS सामान्य अध्ययन प्रश्न-पत्र - Hindi Medium

(फ्री-ईबुक) UPSC संघ लोक सेवा आयोग (मुख्य परीक्षा Main Exam) GS सामान्य अध्ययन प्रश्न-पत्र (2001-2018)

  • NEW! संघ लोक सेवा आयोग - मुख्य परीक्षा सामान्य अध्ययन (GS) 2018

    • UPSC Mains Exam General Studies Paper-1 2018

    • UPSC Mains Exam General Studies Paper-2 2018

    • UPSC Mains Exam General Studies Paper-3 2018

    • UPSC Mains Exam General Studies Paper-4 2018

  • संघ लोक सेवा आयोग - मुख्य परीक्षा सामान्य अध्ययन (GS) 2017
  • संघ लोक सेवा आयोग - मुख्य परीक्षा सामान्य अध्ययन (GS) 2016
  • संघ लोक सेवा आयोग - मुख्य परीक्षा सामान्य अध्ययन (GS) 2015
  • संघ लोक सेवा आयोग - मुख्य परीक्षा सामान्य अध्ययन (GS) 2014
  • संघ लोक सेवा आयोग - मुख्य परीक्षा सामान्य अध्ययन (GS) 2013
  • संघ लोक सेवा आयोग - मुख्य परीक्षा सामान्य अध्ययन (GS) 2012
  • संघ लोक सेवा आयोग - मुख्य परीक्षा सामान्य अध्ययन (GS) 2011
  • संघ लोक सेवा आयोग - मुख्य परीक्षा सामान्य अध्ययन (GS) 2010
  • संघ लोक सेवा आयोग - मुख्य परीक्षा सामान्य अध्ययन (GS) 2009
  • संघ लोक सेवा आयोग - मुख्य परीक्षा सामान्य अध्ययन (GS) 2008
  • संघ लोक सेवा आयोग - मुख्य परीक्षा सामान्य अध्ययन (GS) 2007
  • संघ लोक सेवा आयोग - मुख्य परीक्षा सामान्य अध्ययन (GS) 2006
  • संघ लोक सेवा आयोग - मुख्य परीक्षा सामान्य अध्ययन (GS) 2005
  • संघ लोक सेवा आयोग - मुख्य परीक्षा सामान्य अध्ययन (GS) 2004
  • संघ लोक सेवा आयोग - मुख्य परीक्षा सामान्य अध्ययन (GS) 2003
  • संघ लोक सेवा आयोग - मुख्य परीक्षा सामान्य अध्ययन (GS) 2002
  • संघ लोक सेवा आयोग - मुख्य परीक्षा सामान्य अध्ययन (GS) 2001

Click Here to Download Full e-Book

UPSC सामान्य अध्ययन प्रारंभिक एवं मुख्य परीक्षा (Combo) Study Kit

(E-Book) UPSC Mains General Studies Previous Years Question Papers (2001-2018)

E-Book: UPSC Mains General Studies Previous Years
Question Papers (2001-2018)

  • NEW! UPSC Mains Exam General Studies Question Paper 2018

  • UPSC Mains Exam General Studies Question Paper 2017

  • UPSC Mains Exam General Studies Question Paper 2016

  • UPSC Mains Exam General Studies Question Paper 2015

  • UPSC Mains Exam General Studies Question Paper 2014

  • UPSC Mains Exam General Studies Question Paper 2013

  • UPSC Mains Exam General Studies Question Paper 2012
  • UPSC Mains Exam General Studies Question Paper 2011
  • UPSC Mains Exam General Studies Question Paper 2010
  • UPSC Mains Exam General Studies Question Paper 2009
  • UPSC Mains Exam General Studies Question Paper 2008
  • UPSC Mains Exam General Studies Question Paper 2007
  • UPSC Mains Exam General Studies Question Paper 2006
  • UPSC Mains Exam General Studies Question Paper 2005
  • UPSC Mains Exam General Studies Question Paper 2004
  • UPSC Mains Exam General Studies Question Paper 2003
  • UPSC Mains Exam General Studies Question Paper 2002
  • UPSC Mains Exam General Studies Question Paper 2001

Click Here to Download Full E-Book PDF

Printed Study Material for IAS Mains General Studies

Original 'The Gist' of The Hindu, Yojana, PIB Etc (NOVEMBER 2018)

The-Gist-of-Hindu-Yojana-PIB

THE GIST of HINDU, YOJANA, Kurukshetra, PIB, Science Reporter Magazine

THE GIST MAGMedium: English

Price: Rs. 70RS 49.00/-

Cover Month: NOVEMBER 2018

Number of Pages: 125

File Type: ONLY PDF FILE


Click Here to Buy Soft Copy of This Gist


THE GIST PDF COPY ANNUAL SUBSCRIPTION CLICK HERE

TOPICS OF THE GIST

  • Gist of The Hindu (Newspaper)

  • Gist of The Yojana Magazine

  • Gist of Kurukshetra Magazine
  • Gist of Science Reporter Magazine

  • Gist of PIB (Press Information Bereau)

Original 'The Gist' of The Hindu, Yojana, PIB Etc (OCTOBER 2018)

The-Gist-of-Hindu-Yojana-PIB

THE GIST of HINDU, YOJANA, Kurukshetra, PIB, Science Reporter Magazine

THE GIST MAGMedium: English

Price: Rs. 70RS 49.00/-

Cover Month: OCTOBER 2018

Number of Pages: 125

File Type: ONLY PDF FILE


Click Here to Buy Soft Copy of This Gist


THE GIST PDF COPY ANNUAL SUBSCRIPTION CLICK HERE

TOPICS OF THE GIST

  • Gist of The Hindu (Newspaper)

  • Gist of The Yojana Magazine

  • Gist of Kurukshetra Magazine
  • Gist of Science Reporter Magazine

  • Gist of PIB (Press Information Bereau)

Current Public Administration Magazine (SEPTEMBER 2018)


Sample Material of Current Public Administration Magazine

1.  Accountability and Control

Out of my mind: The Sole Reformer

Every week from Tuesday to Saturday, newspaper headlines are dominated by decisions of the Supreme Court. The pace and scale of its activities are more hectic than any time in the decades since Independence. Just this year, same-sex relationships have been decriminalised. Adultery is no longer a crime. Gender-based restrictions have been removed for temple entry (women catching up with Dalits). Sexual harassment, especially rape, is to be punished severely and by death penalty if the victim is a minor. Triple talaq is against the Constitution.
It is as if the only branch of government functioning to change society for better is the Judiciary. The Legislature at the Centre and state levels is frequently disrupted and barren of any new decisions. The Executive at the Centre, especially the Prime Minister, is consumed by electioneering and, after the torrent of activity in the first half of its tenure, is now bogged down in firefighting. Even in something as vital as triple talaq, despite the invitation of the Judiciary, the best the Executive has been able to do in face of a fractious Parliament is to resort to an ordinance.

<< Read More >>

2. Indian Government and Politics

Know Thy Judge

Judge Brett Kavanaugh has been confirmed as a judge of the US Supreme Court but the process allowed Christine Blasey Ford to publicly recount her trauma of sexual abuse in exercise of what she considered her “civic duty”. We are enriched in our understanding of the people who eventually hold high positions of authority. This is how a democracy functions.

India has no similar process for appointment of judges to the Supreme Court or any other court. We have what we call a “collegium” of the five senior-most judges of the Supreme Court considering names primarily from among chief justices of the high courts and occasionally from the bar for appointment to the Supreme Court. The future chief justices of India will be chosen from a pool of judges in the high courts, who have today put in more than 14 years of service. Those who have or have had a relative in the judiciary have a better chance of making it compared to others. An aspiring law researcher with a little help from Google Analytics will be able to predict who will be the CJI of India in 2039.

<< Read More >>

Importance of NCERT BOOKS for UPSC Exams (Why, What, How)


Importance of NCERT BOOKS for UPSC Exams (Why, What, How)


This very article may the first one you might be reading for the journey that you have chosen to become a civil servant. NCERT books can be considered as the first step out of many to conquer this challenging examination. These books are so well articulated and unbiased that you may take its information as a complete truth and make factual notes out of it especially for the history and geography. Now you might be asking the same question and facing the same dilemma which every beginner has to tackle which is about why to study NCERTs when there are so many books/coaching note/online materials/topper notes already circulating in the offline and the online world? And why not skip these books for the last and just give a passing reference once you get to the finishing line of the syllabus?

Part 1: Why NCERT books are important?

Explanation: Being the most basic books and written in very simple language, lucid and neutral perspective makes NCERTs as the base for the entire preparation. One will get most of their basic covered for the geography and history from these books. Secondly, mains answer writing language should be similar to the writing style of these books which make them as the fundamental element while preparing for the Mains examination.

Now let us analyse from Prelims and Mains perspective:

  • Every year at least 35-40 prelims questions are directly asked from the NCERTs.
  • If you read one book for the prelims it also comes handy in the mains. For Example, Geography NCERTs of class 11 and 12 and History NCERT of class 10 and 11 are the most comprehensive books which must be read by every aspirant.

  • It helps in planned study otherwise, you may be lost in the vast ocean of data and coaching materials.
  • If you are planning to choose humanities optional and you are from the non-humanities background, then study of these books will help in choosing the right optional and further, it may help in your optional paper too.

NCERT E-books PDF are available in English Medium and  Hindi Medium for FREE! download.

Why read NCERT Books for UPSC IAS Exams?


Why read NCERT Books for UPSC IAS Exams


When you took the decision of starting the preparation for IAS, civil services the very first advice from the selected or other aspiring candidates would have been to go through NCERT Books.

The Question must have come to your mind:

  • Why do I have to read the school books again?

  • Isn’t it time to read books of famed and critically acclaimed authors?

  • Why not read the bulkier books?

The answer lies in the subjects clubbed under the title of ‘General studies’ which itself suggests that a candidate must have the general idea about all the topics mentioned under the syllabus.

NCERT Textbooks help in getting a general idea in the following ways:

  • They have been written for the school kids and are therefore very easily intelligible.

  • They cover all the related dimensions of any issues e.g. study of environment cover all the social, economic and political dimension at a very basic level

  • It is free of any political bias, a basic value that must reflect in all your answers

  • NCERT Books cover all the basics related to topics given in the syllabus (except those from the current affairs, for instance, latest developments in S&T)

NCERTs thus create a strong foundation for further studies based on newspaper and reference books without which the knowledge will remain superficial and create many challenges as you move ahead with your IAS Exam preparations.

Download NCERT PDF Books in English Medium

(डाउनलोड) एनसीईआरटी बुक (NCERT Books PDF in Hindi)

Download OLD NCERT PDF E-Books

Click Here for PRINT COPY of OLD & NEW NCERT Compilation for UPSC Exams

Following is the exhaustive list of NCERT Books for UPSC Exams:

Subject

List of NCERTs

Ancient History

Old: India's Ancient Past: RS Sharma

Medieval History

Old: A History of Medieval India: Satish Chandra

Modern History

Old: History of Modern India: Bipan Chandra

World History

Old: History of the World: Arjun Dev (Part I and Part II)

Art & Culture

Class XI – An Introduction to Indian Art

Class XI – Living Craft Traditions of India (Chapters 9 & 10)

Geography

Class VI – The Earth Our Habitat

Class VII – Our Environment

Class VIII – Resource and Development

Class IX – Contemporary India – I

Class X – Contemporary India – II

Class XI – Fundamentals of Physical Geography

Class XI – India –  Physical Environment

Class XII – Fundamentals of Human Geography

Class XII – India – People and Economy

Polity

Class IX – Political Science: Democratic Politics Part – I

Class X – Political Science: Democratic Politics Part – II

Class XI – Political Science: Indian Constitution at Work

Class XI – Political Science: Political Theory

Class XII – Political Science I: Contemporary World Politics

Class XII – Political Science II: Politics in India since Independence

Science

Class VI-X - Science

Class XI – Chemistry: Unit 14 & Biology: Units 4 & 5

Class XII – Chemistry: Unit 16 & Biology: Units 8, 9 & 10

Environment

Class XII – Biology: last four Chapters (13 to 16)

Economics

Class IX – Economics: Economics

Class X – Understanding Economic Development

Class XI – Indian Economic Development

Class XII – Introductory Microeconomics

Class XII – Introductory Macroeconomics

Indian Society

Class VI – Social Science: Social & Political Life I

Class VII – Social Science: Social & Political Life II

Class VIII – Social Science: Social & Political Life III

Class XI – Sociology: Understanding Society

Class XII – Indian Society

Class XII – Social Change and Development in India

 

Click on the link below to download Free NCERT Books in PDF Format:

Click Here for New NCERT Books PDF

Click Here for Old NCERT Books PDF

Click Here for PRINT COPY of OLD & NEW NCERT Compilation for UPSC Exams

CONCLUSION:

To conclude, as has been recommended by many selected candidates in the past, an aspirant must read only limited books and must read them over and over. It is thus necessary to choose the NCERTs smartly that will help one to build strong foundations. Old NCERTs for the static subjects like History and new NCERT books with updated information for dynamic part such as economy will help an aspirant to get a good grasp on the basics.

Best Wishes for your IAS Preparations

© IAS EXAM PORTAL

Buy Printed Complete Study Materials for UPSC IAS PRELIMS Exam

Online Crash Course for UPSC PRE Exam

(ALERT) संघ लोक सेवा आयोग, UPSC जल्द ही आवेदन वापसी की अनुमति देगा

IAS EXAM


(ALERT) संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) जल्द ही आवेदन वापसी की अनुमति देगा


हाल में आई खबरों के अनुसार, संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) उम्मीदवारों को परीक्षाओं से आवेदन वापस लेने की अनुमति देगा। यह नया प्रस्ताव इंजीनियरिंग सेवा परीक्षा (IES) 2019 के साथ लागू किया जाएगा। बाद में, CSE, आईएस आदि जैसी अन्य परीक्षाएं इस व्यवस्था के तहत लाई जाएंगी।

आवेदन वापसी की प्रक्रिया:

  • इस सुविधा का लाभ उठाने के लिए, उम्मीदवार को आवेदन का विवरण देना होगा।
  • वन टाइम पासवर्ड (OTP) पंजीकृत मोबाइल नंबर और Email ID पर उम्मीदवारों को भेजा जाएगा। आवेदन वापस लेने के सफल समापन पर, ईमेल पर एक पुष्टिकरण संदेश और एक SMS भी भेजा जाएगा।
  • एक बार अगर आवेदन वापस ले लिया जाएगा तो, इसे संशोधित नहीं किया जा सकेगा |

नयी व्यवस्था के लाभ:

  • यूपीएससी ने अनुमान लगाया है कि पंजीकृत लोगों में से लगभग 50% उम्मीदवार परीक्षा में शामिल नहीं होते हैं।
  • लगभग 50% उम्मीदवारो के लिए जगह, पेपर एवं निरीक्षकों की भर्ती करना बेकार चला जाता है।

UPSC द्वारा अन्य सुधार:

  • यूपीएससी ने परीक्षा-संबंधित पत्राचार और लेनदेन को ऑनलाइन करने में भी बढ़ोत्तरी की है। उम्मीदवारों के लिए तनाव को कम करने के लिए यह एक अच्छी पहल साबित होगी।
  • यूपीएससी परीक्षा के पेन और पेपर मोड से कंप्यूटर आधारित परीक्षा(CBT) लेने की भी बात चल रही है।
  • इसके अतिरिक्त, नई प्रणाली प्रत्येक परीक्षा के लिए समय चक्र को कम करने के लिए भी कारगर होगी।

निष्कर्ष एवं भविष्य की आशाएं:

  • बेहतर नौकरी के अवसरों के लिए युवाओं की आकांक्षाओं को ध्यान में रखते हुए यूपीएससी (UPSC) अब अपनी वेबसाइट upsc.gov.in पर कुछ परीक्षाओं में अनुशंसित उम्मीदवारों के स्कोर और रैंकिंग का खुलासा कर रहा है और इसे श्रम मंत्रालय के "National Career Service Portal" से आगे जोड़ा जाएगा।
  • विभिन्न केंद्रीय मंत्रालय और संगठन इस व्यवस्था का लाभ उठा सकते हैं, जहां उम्मीदवारों में सिविल सेवाओं, इंजीनियरिंग सेवाओं या संयुक्त मेडिकल परीक्षा में कठोर स्क्रीनिंग प्रक्रिया को मंजूरी दे दी गई है, लेकिन रिक्तियों की बाधाओं के कारण मेरिट सूची में कोई स्थान नहीं मिला, अब उसी डेटाबेस से अन्य सरकारी, सार्वजनिक क्षेत्र या निजी क्षेत्र की नौकरियों के लिए चयनित किए जाने की उम्मीद जागी है।

(Download) संघ लोक सेवा आयोग सिविल सेवा 2018 - मुख्य परीक्षा सामान्य अध्ययन (GS) Paper-4, नीति,अखंडता एवं अभिक्षमता

UPSC CIVIL SEVA AYOG

संघ लोक सेवा आयोग सिविल सेवा - मुख्य परीक्षा

(Download) UPSC Mains 2018 General Studies Question Paper: 
सामान्य अध्ययन-IV (नीति,अखंडता एवं अभिक्षमता) 
 

Exam Name: UPSC IAS Mains General Studies (Paper-4)

Year: 2018

​​​​​SECTION A

 

Q1.

(a) सिविल सेवाओं के संदर्भ में सार्विक प्रकृति के, तीन आधारभूत मूल्यों का कथन कीजिए और उनके महत्त्व को उजागर कीजिए. (उत्तर 150 शब्दों में दीजिए)

(b) उपयुक्त उदाहरणों सहित “सदाचार-संहिता” और “आचार-संहिता” के बीच विभेदन कीजिये. (उत्तर 150 शब्दों में दीजिए) 

Q2.

(a) लोकहित से क्या अभिप्राय है? सिविल कर्मचारियों द्वारा लोकहित में कौन-कौन से सिद्धांतों और कार्यविधियों का अनुसरण करना चाहिए? (उत्तर 150 शब्दों में दीजिए)

(b) “सूचना का अधिकार अधिनियम नागरिकों के सशक्तिकरण के बारे में ही नहीं है, अपितु यह आवश्यक रूप से जवाबदेही की संकल्पना को पुनः परिभाषित करता है.” विवेचना कीजिए. (उत्तर 150 शब्दों में दीजिए)

Q3.

(a) हित-विरोधिता से क्या तात्पर्य है? वास्तविक और सम्भावित हित-विरोधिताओं के बीच के अंतर को उदाहरणों द्वारा स्पष्ट कीजिए. (उत्तर 150 शब्दों में दीजिए)

(b) “नियुत्ति के लिए व्यक्तियों की खोज करते समय आप तीन गुणों को खोजते हैं : सत्यनिष्ठता, बुद्धिमत्ता और ऊर्जा. यदि उनमें पहला गुण नहीं है, तो अन्य दो गुण आपको समाप्त कर देंगे.” – वॉरेन बफेट.

वर्तमान परिदृश्य में इस कथन सेआप क्या समझते हैं? स्पष्ट कीजिए. (उत्तर 150 शब्दों में दीजिए)

Q4.

(a) “अच्छा कार्य करने में, वह सब कुछ अनुमत होता है जिसको अभिव्यक्ति के द्वारा या स्पष्ट निहितार्थ के द्वारा निषिद्ध न किया गया हो.” एक लोक सेवक द्वारा अपने कर्तव्यों के निर्वहन के सम्बन्ध में, इस कथन का उपयुक्त उदाहरणों सहित परीक्षण कीजिए. (उत्तर 150 शब्दों में दीजिए)

(b) कार्यवाहियों की नैतिकता के सम्बन्ध में एक दृष्टिकोण तो यह है, कि साधन सर्वोपरि महत्त्व के होते हैं और दूसरा दृष्टिकोण यह है कि परिणाम साधनों को उचित सिद्ध करते हैं. आपके विचार में इनमें से कौन-सा दृष्टिकोण अपेक्षाकृत अधिक उपयुक्त है? अपने उत्तर के पक्ष में तर्क पेश कीजिए. (उत्तर 150 शब्दों में दीजिए)

Q5.

(a) मान लीजिए कि भारत सरकार एक ऐसी पर्वतीय घाटी में एक बाँध का निर्माण करने की सोच रही है, जो जंगलों से घिरी है और जहाँ नृजातीय समुदाय रहते हैं. अप्रत्याशित आकस्मिकताओं से निपटने के लिए सरकार को कौन-सी तर्कसंगत नीति का सहारा लेना चाहिए? (उत्तर 150 शब्दों में दीजिए)

(b) लोक प्रशासन में नैतिक दुविधाओं का समाधान करने के प्रक्रम को स्पष्ट कीजिए.

Q6. वर्तमान संदर्भ में निम्नलिखित में से प्रत्येक उद्धरण का आपके विचार से क्या अभिप्राय है?

  • (a) “किसी भी बात को स्वीकार करने या अस्वीकार करने का निर्धारण करने में सही नियम यह नहीं है कि उसमें कोई बुराई है या नहीं; बल्कि यह है कि उसमें अच्छाई से अधिक बुराई है. ऐसे बहुत कम विषय होते हैं जो पूरी तरह बुरे या अच्छे होते हैं.  लगभग सभी विषय, विशेषकर सरकारी नीति से सम्बंधित, अच्छाई और बुराई दोनों के अविच्छेदनीय योग होते हैं; ताकि इन दोनों के बीच प्रधानता के बारे में हमारे सर्वोत्तम निर्णय की आवश्यकता हमेशा बनी रहती है.” – अब्राहम लिंकन (उत्तर 150 शब्दों में दीजिए)
  • (b) “क्रोध और असहिष्णुता सही समझ के शत्रु हैं” – महात्मा गाँधी (उत्तर 150 शब्दों में दीजिए)
  • c) “असत्य भी सत्य का स्थान ले लेता है यदि उसका परिणाम निष्कलंक सार्वजनिक कल्याण हो.”- तिरुक्कुरल (उत्तर 150 शब्दों में दीजिए)

​​​​​SECTION B

Q7. राकेश जिला स्तर का एक जिम्मेदार अधिकारी है, जिस पर उसके उच्च अधिकारी भरोसा करते हैं. उसकी ईमानदारी को ध्यान में रखते हुए सरकार ने उसे वरिष्ठ नागरिकों के लिए एक स्वास्थ्य देखभाल योजना के लाभार्थियों की पहचान करने का दायित्व सौंपा है.

लाभार्थी होने के लिए निम्नलिखित कसौटियाँ हैं :

  • (अ) 60 वर्ष की या उससे अधिक आयु हो.
  • (ब) किसी आरक्षित समुदाय से सम्बंधित हो.
  • (स) परिवार की वार्षिक आय एक लाख रु. से कम हो.
  • (द) इलाज के बाद लाभार्थी के जीवन की गुणवत्ता में सकारात्मक अंतर होने की प्रबल संभावना हो.

एक दिन एक वृद्ध दम्पत्ति राकेश के कार्यालय में योजना के लाभ के लिए आवेदन-पत्र ले कर आया. वे उसके जिले के एक गाँव में जन्म से रहते आये हैं. वृद्ध व्यक्ति की बड़ी आँत में एक ऐसे विरले विकार का पता लगा जिससे उसमें रुकावट पैदा होती है. परिणामस्वरूप, उसके पेट में बार-बार तीव्र पीड़ा होती है जिससे वह कोई शारीरिक श्रम नहीं कर सकता है. वृद्ध व्यक्ति की देख-रेख करने के लिए कोई सन्तान नहीं है. एक विशेषज्ञ शल्य चिकित्सक, जिससे वे मिले हैं, बिना फीस के उनकी शल्य चिकित्सा करने को तैयार है. फिर भी, उस वृद्ध दम्पत्ति को आकस्मिक व्यय, जैसे दवाइयाँ, अस्पताल का खर्च, आदि जो लगभग 1 लाख रु. होगा, स्वयं ही वहन करना पड़ेगा. दम्पत्ति मानक “ब” के अलावा योजना का लाभ प्राप्त करने की सारी कसौटियाँ पूरी करता है. फिर भी, किसी भी प्रकार की वित्तीय सहायता निश्चित तौर पर उनके जीवन की गुणवत्ता में काफी अंतर पैदा करेगी. राकेश को इस परिस्थिति में क्या अनुक्रिया करनी चाहिए? (उत्तर 250 शब्दों में दीजिए)

Q8. अपने मंत्रालय में एक वरिष्ठ अधिकारी होने के नाते आपकी पहुँच महत्त्वपूर्ण नीतिगत निर्णयों तथा आने वाली बड़ी घोषणाओं, जैसे सड़क निर्माण परियोजनाएँ, तक जनता के अधिकार-क्षेत्र में जाने से पहले हो जाती है. मंत्रालय एक बड़ी सड़क निर्माण योजना की घोषणा करने वाला है जिसके लिए खाके तैयार हो चुके हैं. नियोजकों ने इस बात का पूरा ध्यान रखा है कि सरकारी भूमि का अधिक-से-अधिक उपयोग किया जाए ताकि निजी भूमि का कम-से-कम अधिग्रहण करना पड़े. निजी भूमि के मालिकों के लिए क्षतिपूर्ति की दरें भी सरकारी नियमों के अनुसार निर्धारित कर ली गई हैं. निर्वनीकरण कम-से-कम हो इसका भी ध्यान रखा गया है. ऐसी आशा है कि परियोजना की घोषणा होते ही उस क्षेत्र और आसपास के क्षेत्र की भूमि की कीमतों में भारी उछाल आएगी.

इसी बीच, सम्बंधित मंत्री ने आपसे आग्रह किया कि सड़क का पुनः संरेखण इस प्रकार किया जाए जिससे सड़क मंत्री के 20 एकड़ के फ़ार्म हाउस के पास से निकले. इसके साथ मंत्री ने यह भी सुझाव दिया कि वह आपकी पत्नी के नाम, प्रस्तावित बड़ी सड़क परियोजना के आसपास एक बड़ा भूखंड प्रचलित दरों पर जो कि नाममात्र की हैं, क्रय करने में सहायता करेंगे. मंत्री ने आपको यह भी विश्वास दिलाने का प्रयास किया कि इसमें कोई नुकसान नहीं है क्योंकि भूमि वैधानिक रूप से खरीदी जा रही है. वह आपसे यह भी वादा करता है कि यदि आपके पास पर्याप्त धनराशि नहीं है, तो उसकी पूर्ति में भी आपकी सहायता करेगा. लेकिन सड़क के पुनःसंरेखण में बहुत-सी कृषि-योग्य भूमि का अधिग्रहण करना पड़ेगा, जिससे सरकार पर काफी वित्तीय भार पड़ेगा, तथा किसान भी विस्थापित होंगे. केवल यह ही नहीं, इसके चलते बहुत सारे पेड़ों को भी कटवाना पड़ेगा, जिससे पूरे क्षेत्र का हरित आवरण समाप्त हो जाएगा.

इस परिस्थिति का सामना होने पर आप क्या करेंगे? विभिन्न प्रकार के हित-द्वन्द्वों का समालोचनात्मक परीक्षण कीजिए तथा स्पष्ट कीजिए कि एक लोक सेवक होने के नाते आपके क्या दायित्व हैं? (उत्तर 250 शब्दों में दीजिए)

Q9. यह एक राज्य है जिसमें शराबबंदी लागू है. अभी-अभी आपको इस राज्य के एक ऐसे जिले में पुलिस अधीक्षक नियुक्त किया गया है जो अवैध शराब बनाने के लिए कुख्यात है. अवैध शराब से बहुत मौतें हो जाती हैं, कुछ रिपोर्ट की जाती हैं और कुछ नहीं, जिससे जिला अधिकारियों को बड़ी समस्या होती है.

अभी तक इसे कानून और व्यवस्था की समस्या के दृष्टिकोण से देखा जाता रहा है और उसी तरह इसका सामना किया जाता रहा है. छापे, गिरफ्तारियाँ, पुलिस के मुक़दमे, आपराधिक मुक़दमे – इन सभी का केवल सीमित प्रभाव रहा है. समस्या हमेशा की तरह अभी भी गंभीर बनी हुई है.

आपके निरीक्षणों से पता चलता है कि जिले के जिन क्षेत्रों में शराब बनाने का कार्य फल-फूल रहा है, वे आर्थिक, औद्योगिक तथा शैक्षणिक रूप से पिछड़े हैं. अपर्याप्त सिंचाई सुविधाओं का कृषि पर बुरा प्रभाव पड़ता है. विभिन्न समुदायों के बार-बार होने वाले टकराव अवैध शराब निर्माण को बढ़ावा देते हैं. अतीत में लोगों के हालात में सुधार लाने के लिए न तो सरकार के द्वारा और न ही सामाजिक संगठनों के द्वारा कोई महत्त्वपूर्ण पहलें की गई हैं.

समस्या को नियंत्रित करने के लिए आप कौन-सा नया उपागम अपनाएँगे? (उत्तर 250 शब्दों में दीजिए)

Q10. एक बड़ा औद्योगिक परिवार बड़े पैमाने पर औद्योगिक रसायनों के उत्पादन में संलग्न है. यह परिवार एक अतिरिक्त इकाई स्थापित करना चाहता है. पर्यावरण पर दुष्प्रभाव के कारण उनके राज्यों ने इसके प्रस्ताव को अस्वीकार कर दिया. किन्तु एक राज्य सरकार ने, सारे विरोध को दरकिनार करते हुए, औद्योगिक परिवार की प्रार्थना को स्वीकार कर लिया और एक नगर के समीप इकाई स्थापित करने की स्वीकृति प्रदान कर दी.

इकाई को 10 वर्ष पूर्व स्थापित कर दिया था और अभी तक बहुत सुचारू रूप से चल रही थी. औद्योगिक बहि:स्रावों से पैदा हुए प्रदूषण से क्षेत्र में भूमि, जल और फसलों पर दुष्प्रभाव पड़ रहा था. इससे मनुष्यों तथा पशुओं में गंभीर स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्याएँ भी आ रही थीं. परिणामस्वरूप, इकाई को बंद करने की माँग को लेकर शृंखलाबद्ध आन्दोलन होने लगे. अभी-अभी एक आन्दोलन में हजारों लोगों ने भाग लिया जिससे पैदा हुई गंभीर कानून और व्यवस्था की समस्या से निपटने के लिए पुलिस को सख्त कदम लेने पड़े. जनाक्रोश के पश्चात् राज्य सरकार ने फैक्ट्री को बंद करने का आदेश दे दिया.

फैक्ट्री के बंद होने के परिणामस्वरूप न केवल वहाँ काम करने वाले श्रमिक ही बेरोजगार हुए अपितु सहायक इकाईयों के कामगार भी बेरोजगार हो गए. इससे उन उद्योगों पर भी बुरा प्रभाव पड़ा जो उस इकाई द्वारा उत्पादित रसायनों पर निर्भर थे.

इस मुद्दे को सँभालने के उत्तरदायित्व सौंपे गए एक वरिष्ठ अधिकारी होने के नाते, आप इस उत्तरदायित्व का निर्वहन किस प्रकार करेंगे? (उत्तर 250 शब्दों में दीजिए)

Q11. डॉ. “एक्स” शहर के एक प्रतिष्ठित चिकित्सक हैं. उन्होंने एक धर्मार्थ न्यास स्थापित कर लिया है जिसके माध्यम से समाज के सभी वर्गों की स्वास्थ्य सम्बन्धी आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए, वे एक उच्च-विशेषज्ञता अस्पताल स्थापित करना चाहते हैं. संयोग से, राज्य के उस क्षेत्र की वर्षों से उपेक्षा रही है. प्रस्तावित अस्पताल उस क्षेत्र के लिए वरदान साबित होगा.

आप उस क्षेत्र की कर अन्वेषण इकाई के प्रमुख हैं. डॉक्टर के क्लिनिक के निरीक्षण के दौरान आपके अधिकारियों को कुछ बड़ी अनियमितताएँ ज्ञात हुई हैं. उनमें से कुछ बहुत गंभीर हैं जिनके कारण बड़ी मात्रा में करों से प्राप्त धनराशि रुकी रही, जिसकी भुगतान डॉक्टर को अब करना चाहिए. डॉक्टर सहयोग के लिए तैयार है. वे तुरंत कर की राशि को अदा करने का वायदा करते हैं.

लेकिन उनके कर भुगतान में कुछ और भी खामियाँ हैं जो पूर्ण रूप से तकनीकी हैं. यदि अभिकरण द्वारा इन तकनीकी खामियों का पीछा किया जाता है, तो डॉक्टर का बहुत सारा समय और उसकी ऊर्जा कुछ ऐसे मुद्दों की तरफ मुड़ जायेगी जो न तो बहुत गंभीर है, न ही आवश्यक और न ही कर भुगतान कराने में सहायक हैं. इसके अतिरिक्त, पूरी संभावना है कि इसके कारण अस्पताल के खोले जाने की प्रक्रिया भी बाधित होगी.

आपके समक्ष दो विकल्प हैं –

  • (i) व्यापक दृष्टिकोण रखते हुए, आधिकारिक कर भुगतान अनुपालन सुनिश्चित करें और ऐसी कमियों को नजरंदाज करें जो केवल तकनीकी प्रकृति की हों.
  • (ii) मामले को सख्ती से देखें और सभी पहलुओं पर आगे बढ़ें, चाहे वे गंभीर हों या केवल तकनीकी.

कर अभिकरण के प्रमुख होने के नाते, आप कौन-से कार्य दिशा का विकल्प अपनाएँगे और क्यों? (उत्तर 250 शब्दों में दीजिए)

Q12. एडवर्ड स्नोडन, एक कंप्यूटर विशेषज्ञ तथा सी.आई.ए. के पूर्व व्यवस्था प्रशासक, ने सरकार की निगरानी कार्यक्रमों के अस्तित्व के बारे में गोपनीय सरकारी दस्तावेजों का खुलासा प्रेस को कर दिया. अनेक विधि विशेषज्ञों और अमेरिकी सरकार के अनुसार, उसके इस कार्य से गुप्तचर्या अधिनियम 1917 का उल्लंघन हुआ है, जिसके अंतर्गत राज्य गुप्त बातों का सार्वजनीकरण राजद्रोह माना जाता है. इसके बावजूद कि स्नोडन ने कानून तोड़ा था, उसने तर्क दिया कि ऐसा करना उसका एक नैतिक दायित्व था. उसने अपने “जानकारी सार्वजनिक करने को (व्हिसल ब्लोइंग)” यह कह कर उचित ठहराया कि “जनता को यह सूचना देना कि उसके नाम पर क्या किया जाता है और उसके विरुद्ध क्या किया जाता है”, बताना उसका कर्तव्य है.

स्नोडन के अनुसार, सरकार द्वारा निजता के उल्लंघन को वैधानिकता की परवाह किये बिना उसको उजागर करना चाहिए क्योंकि इसमें सामाजिक क्रिया और सार्वजनिक नैतिकता के अधिक महत्त्वपूर्ण मुद्दे शामिल हैं. अनेक व्यक्ति स्नोडन से सहमत थे. केवल कुछ ने यह तर्क दिए कि स्नोडन ने कानून तोड़ा है और राष्ट्रीय सुरक्षा के साथ समझौता किया है, जिसके लिए उसे जवाबदेह ठहराया जाना चाहिए.

क्या आप इससे सहमत हैं कि स्नोडन का कार्य कानूनी रूप से प्रतिबंधित होते हुए भी नैतिकता की दृष्टि से उचित था? क्यों या क्यों नहीं? इस विषय में परस्पर स्पर्धी मूल्यों को तोलते हुए अपना तर्क दीजिए. (उत्तर 250 शब्दों में दीजिए)

UPSC सामान्य अध्ययन सिविल सेवा मुख्य परीक्षा अध्ययन सामग्री

UPSC GS PRE Cum MAINS (HINDI Combo) Study Kit

(Download) संघ लोक सेवा आयोग सिविल सेवा 2018 - मुख्य परीक्षा सामान्य अध्ययन (GS) Paper-3 - प्रौद्यौगिकी,आर्थिक विकास, जैव-विविधता, पर्यावरण, सुरक्षा एवं आपदा प्रबंधन

UPSC CIVIL SEVA AYOG

संघ लोक सेवा आयोग सिविल सेवा - मुख्य परीक्षा

(Download) UPSC Mains 2018 General Studies Question Paper: 
सामान्य अध्ययन-III (प्रौद्यौगिकी,आर्थिक विकास, जैव-विविधता, पर्यावरण, सुरक्षा एवं आपदा प्रबंधन) 

Exam Name: UPSC IAS Mains General Studies (Paper-3)

Year: 2018

  1. “वहनीय (एफोर्डेबल), विश्वसनीय, धारणीय तथा आधुनिक ऊर्जा तक पहुँच संधाराणीय (सस्टेनबल) विकास लक्ष्यों (एस० डी० जी०) को प्राप्त करने के लिए अनिवार्य है.” भारत में इस सम्बन्ध में हुई प्रगति पर टिप्पणी कीजिए. (उत्तर 150 शब्दों में दीजिए)  10 Marks

  2. केन्द्रीय बजट, 2018-19 में दीर्घकालिक पूँजी अभिलाभ कर तथा लाभांश वितरण कर के सम्बन्ध में प्रारम्भ किये गए महत्त्वपूर्ण परिवर्तनों पर टिप्पणी कीजिए. (उत्तर 150 शब्दों में दीजिए)  10 Marks

  3. न्यूनतम समर्थन मूल्य से आप क्या समझते हैं? न्यूनतम समर्थन मूल्य कृषकों का निम्न आय फंदे से किस प्रकार बचाव करेगा? (उत्तर 150 शब्दों में दीजिए)  10 Marks

  4. फलों, सब्जियों और खाद्य पदार्थों के आपूर्ति श्रृंखला प्रबन्धन में सुपरबाजारों की भूमिका की जाँच कीजिए. वे बिचौलियों की संख्या को किस प्रकार खत्म कर देते हैं? (उत्तर 150 शब्दों में दीजिए)  10 Marks

  5. प्रो. सत्येन्द्र नाथ बोस द्वारा किये गए ‘बोस-आइन्सटाइन सांख्यिकी’ के कार्य पर चर्चा कीजिए और दर्शाइए कि इसने किस प्रकार भौतिकी के क्षेत्र में क्रान्ति ला दी. (उत्तर 150 शब्दों में दीजिए)  10 Marks

  6. निरंतर उत्पन्न किये जा रहे फेंके गए ठोस कचरे की विशाल मात्राओं का निस्तारण करने में क्या-क्या बाधाएं हैं? हम अपने रहने योग्य परिवेश में जमा होते जा रहे जहरीले अपशिष्टों को सुरक्षित रूप से किस प्रकार हटा सकते हैं? (उत्तर 150 शब्दों में दीजिए)  10 Marks

  7. आर्द्रभूमि क्या है? आर्द्रभूमि संरक्षण के सन्दर्भ में ‘बुद्धिमत्तापूर्ण उपयोग’ की रामसर संकल्पना को स्पष्ट कीजिए. भारत से रामसर स्थलों के दो उदाहरणों का उद्धरण कीजिए. (उत्तर 150 शब्दों में दीजिए)  10 Marks

  8. सिक्किम भारत में ‘जैविक राज्य’ है. जैविक राज्य के पारिस्थितिकी एवं आर्थिक लाभ क्या-क्या होते हैं? (उत्तर 150 शब्दों में दीजिए)  10 Marks

  9. चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे(सी० पी० ई० सी०) को चीन की अपेक्षाकृत अधिक विशाल ‘एक पट्टी एक सड़क’ पहल के एक मूलभूत भाग के रूप में देखा जा रहा है. सी० पी० ई० सी० का संक्षिप्त वर्णन प्रस्तुत कीजिए और भारत द्वारा उससे किनारा करने के कारण गिनाइए. (उत्तर 150 शब्दों में दीजिए)  10 Marks

  10. वामपंथी उग्रवाद में अधोमुखी प्रवृत्ति दिखाई दे रही है, परन्तु अभी भी देश के अनेक भाग इससे प्रभावित हैं. वामपंथी उग्रवाद द्वारा प्रस्तुत चुनौतियों का विरोध करने के लिए भारत सरकार के दृष्टिकोण को संक्षेप में स्पष्ट कीजिए. (उत्तर 150 शब्दों में दीजिए)  10 Marks

  11. भारत में नीति आयोग द्वारा अनुसरण किये जा रहे सिद्धांत इससे पूर्व के योजना आयोग द्वारा अनुसरित सिद्धांतों से किस प्रकार भिन्न हैं? (उत्तर 250 शब्दों में दीजिए)  15 Marks

  12. विश्व व्यापार में संरक्षणवाद और मुद्रा चालबाजियों की हाल की परिघटनाएँ भारत की समष्टि-आर्थिक स्थिरता को किस प्रकार से प्रभावित करेंगी? (उत्तर 250 शब्दों में दीजिए)  15 Marks

  13. बाग़वानी फार्मों के उत्पादन, उसकी उत्पादकता एवं आय में वृद्धि करने में राष्ट्रीय बाग़वानी मिशन (एन० एच० एम०) की भूमिका का आकलन कीजिए. यह किसानों की आय बढ़ाने में कहाँ तक सफल हुआ है? (उत्तर 250 शब्दों में दीजिए)  15 Marks

  14. गत वर्षों में कुछ विशेष फसलों पर जोर ने सस्यन पैटर्नों में किस प्रकार परिवर्तन ला दिए हैं? मोटे अनाजों (मिलटों) के उत्पादन और उपभोग पर बल को विस्तारपूर्वक स्पष्ट कीजिए. (उत्तर 250 शब्दों में दीजिए)  15 Marks

  15. क्या कारण है कि हमारे देश में जैव प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में अत्यधिक सक्रियता है? इस सक्रियता ने बायोफार्मा के क्षेत्र को कैसे लाभ पहुँचाया है? (उत्तर 250 शब्दों में दीजिए)  15 Marks

  16. ऊर्जा की बढ़ती हुई जरूरतों के परिप्रेक्ष्य में क्या भारत को अपने नाभकीय ऊर्जा कार्यक्रम का विस्तार कर जारी रखना चाहिए? नाभकीय ऊर्जा से सम्बंधित तथ्यों एवं भयों की विवेचना कीजिए.  15 Marks

  17. भारत में जैव विविधता किस प्रकार अलग-अलग पाई जाती है? वनस्पतिजात और प्राणिजात के संरक्षण में जैव विविधता अधिनियम, 2002 किस प्रकार सहायक है? (उत्तर 250 शब्दों में दीजिए)  15 Marks

  18. भारत में आपदा जोखिम न्यूनीकरण (डी० आर० आर०) के लिए ‘सेंडाई आपदा जोखिम न्यूनीकरण प्रारूप (2015-2030)’ हस्ताक्षरित करने से पूर्व एवं उसके पश्चात् किये गए विभिन्न उपायों का वर्णन कीजिए. यह प्रारूप ‘ह्योगो कार्रवाई प्रारूप, 2005’ से किस प्रकार भिन्न है? (उत्तर 250 शब्दों में दीजिए)  15 Marks

  19. अंकीयकृत (डिजीटाइज्ड) दुनिया में बढ़ते हुए साइबर अपराधों के कारण डाटा सुरक्षा का महत्त्व बहुत बढ़ गया है. जस्टिस बी.एन. श्रीकृष्णा समिति रिपोर्ट में डाटा की सुरक्षा से सम्बंधित मुद्दों पर सोच-विचार किया गया है. आपके विचार में साइबर स्पेस में निजी डाटा की सुरक्षा से सम्बंधित इस रिपोर्ट की खूबियाँ और खामियाँ क्या-क्या हैं? (उत्तर 250 शब्दों में दीजिए)  15 Marks

  20. संसार के दो सबसे बड़े अवैध अफीम उगाने वाले राज्यों से भारत की निकटता ने भारत की आंतरिक सुरक्षा चिंताओं को बढ़ा दिया है. नशीली दवाओं के अवैध व्यापार एवं बन्दूक बेचने, गुपचुप धन विदेश भेजने और मानव तस्करी जैसी अवैध गतिविधियों के बीच कड़ियों को स्पष्ट कीजिए. इन गतिविधियों को रोकने के लिए क्या-क्या प्रतिरोधी उपाय किये जाने चाहिए? (उत्तर 250 शब्दों में दीजिए)  15 Marks

UPSC सामान्य अध्ययन सिविल सेवा मुख्य परीक्षा अध्ययन सामग्री

UPSC GS PRE Cum MAINS (HINDI Combo) Study Kit

(Download) संघ लोक सेवा आयोग सिविल सेवा 2018 - मुख्य परीक्षा सामान्य अध्ययन (GS) Paper-2 : शासन, संविधान, राज्य-व्यवस्था,सामाजिक न्याय एवं अंतर्राष्ट्रीय सम्बन्ध

UPSC CIVIL SEVA AYOG

संघ लोक सेवा आयोग सिविल सेवा - मुख्य परीक्षा

(Download) UPSC Mains 2018 General Studies Question Paper: 
सामान्य अध्ययन-II (शासन, संविधान, राज्य-व्यवस्था,सामाजिक न्याय एवं अंतर्राष्ट्रीय सम्बन्ध) 

 

Exam Name: UPSC IAS Mains General Studies (Paper-2)

Year: 2018

  1. इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों (ई.वी.एम.) के इस्तेमाल सम्बन्धी हाल के विवाद के आलोक में, भारत में चुनावों की विश्वास्यता सुनिश्चित करने के लिए भारत के निर्वाचन आयोग के समक्ष क्या-क्या चुनौतियाँ हैं? (उत्तर 150 शब्दों में दें) 10 Marks
  2. क्या राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग (एन.सी.एस.सी.) धार्मिक अल्पसंख्यक संस्थानों में अनुसूचित जातियों के लिए संवैधानिक आरक्षण के क्रियान्वयन का प्रवर्तन करा सकता है? परीक्षण कीजिए. (उत्तर 150 शब्दों में दें) 10 Marks
  3. किन परिस्थितियों में भारत के राष्ट्रपति के द्वारा वित्तीय आपातकाल की उद्घोषणा की जा सकती है? ऐसी उद्घोषणा के लागू रहने तक, इसके अनुसरण के क्या-क्या परिणाम होते हैं? (उत्तर 150 शब्दों में दें) 10 Marks
  4. आप यह क्यों सोचतें हैं कि समितियाँ संसदीय कार्यों के लिए उपयोगी मानी जाती हैं? इस संदर्भ में प्राक्कलन समिति की भूमिका की विवेचना कीजिए. (उत्तर 150 शब्दों में दें) 10 Marks
  5. “नियंत्रक और महालेखापरीक्षक (सी.ए.जी.) को एक अत्यावश्यक भूमिका निभानी होती है.” व्याख्या कीजिए कि यह किस प्रकार उसकी नियुक्ति की विधि और शर्तों और साथ ही साथ उन अधिकारों के विस्तार से परिलक्षित होती है, जिनका प्रयोग वह कर सकता है. (उत्तर 150 शब्दों में दें) 10 Marks
  6. “विभिन्न प्रतियोगी क्षेत्रों और साझेदारों के मध्य नीतिगत विरोधाभासों के परिणामस्वरूप पर्यावरण के “संरक्षण तथा उसके निम्नीकरण की रोकथाम” अपर्याप्त रही है.” सुसंगत उदाहरणों सहित टिप्पणी कीजिए. (उत्तर 150 शब्दों में दें) 10 Marks
  7. भारत में “सभी के लिए स्वास्थ्य” को प्राप्त करने के लिए समुचित स्थानीय सामुदायिक स्तरीय स्वास्थ्य देखभाल का मध्यक्षेप एक पूर्वपेक्षा है. व्याख्या कीजिए. (उत्तर 150 शब्दों में दें) 10 Marks
  8. ई-शासन केवल नवीन प्रौद्योगिकी की शक्ति के उपयोग के बारे में नहीं है, अपितु इससे अधिक सूचना के “उपयोग मूल्य” के क्रांतिक महत्त्व के बारे में है. स्पष्ट कीजिए. (उत्तर 150 शब्दों में दें) 10 Marks
  9. “भारत के इजराइल के साथ संबंधों ने हाल में एक ऐसी गहराई एवं विविधता प्राप्त कर ली है, जिसकी पुनर्वापसी नहीं की जा सकती है.” विवेचना कीजिए. (उत्तर 150 शब्दों में दें) 10 Marks
  10. मध्य एशिया, जो भारत के लिए एक हित क्षेत्र है, में अनेक बाह्य शक्तियों ने अपने-आप को संस्थापित कर लिया है. इस संदर्भ में, भारत द्वारा अश्गाबात करार, 2018 में शामिल होने के निहितार्थों पर चर्चा कीजिए. (उत्तर 150 शब्दों में दें) 10 Marks
  11. क्या उच्चतम न्यायालय का निर्णय (जुलाई 2018) दिल्ली के उप-राज्यपाल और निर्वाचित सरकार के बीच राजनैतिक कशमकश को निपटा सकता है? परीक्षण कीजिए. (उत्तर 250 शब्दों में दें) 15 Marks
  12. आप इस मत से कहाँ तक सहमत हैं कि अधिकरण सामान्य न्यायालयों की अधिकारिता को कम करते हैं? उपर्युक्त को दृष्टिगत रखते हुए भारत में अधिकरणों की संवैधानिक वैधता तथा सक्षमता की विवेचना कीजिए. (उत्तर 250 शब्दों में दें)
  13. भारत एवं यू.एस.ए. दो विशाल लोकतंत्र हैं. उन आधारभूत सिद्धांतों का परीक्षण कीजिए जिन पर ये दो राजनीतिक तंत्र आधारित हैं. (उत्तर 250 शब्दों में दें) 15 Marks
  14. भारत के वित्तीय आयोग का गठन किस प्रकार किया जाता है? हाल में गठित वित्तीय आयोग के विचारार्थ विषय (टर्म्स ऑफ़ रेफरेन्स) के बारे में आप क्या जानते हैं? विवेचना कीजिए. (उत्तर 250 शब्दों में दें) 15 Marks
  15. भारत में स्थानीय शासन के एक भाग के रूप में पंचायत प्रणाली के महत्त्व का आकलन कीजिए. विकास परियोजनाओं के वित्तीयन के लिए पंचायतें सरकारी अनुदानों के अलावा और किन स्रोतों को खोज सकती हैं? (उत्तर 250 शब्दों में दें) 15 Marks
  16. समाज के कमजोर वर्गों के लिए विभिन्न आयोगों की बहुलता, अतिव्यापी अधिकारिता और प्रकार्यों के दोहरेपन की समस्याओं की ओर ले जाती हैं. क्या यह अच्छा होगा कि सभी आयोगों को एक व्यापक मानव अधिकार आयोग के छत्र में विलय कर दिया जाए? अपने उत्तर के पक्ष में तर्क दीजिए. (उत्तर 250 शब्दों में दें) 15 Marks
  17. आप इस मत से कहाँ तक सहमत हैं कि भूख के मुख्य कारण के रूप में खाद्य की उपलब्धता में कमी पर फोकस, भारत में अप्रभावी मानव विकास नीतियों से ध्यान हटा देता है? (उत्तर 250 शब्दों में दें) 15 Marks
  18. नागरिक चार्टर संगठनात्मक पारदर्शिता एवं उत्तरदायित्व का एक आदर्श उपकरण है, परन्तु इसकी अपनी परिसीमाएँ हैं. परिसीमाओं की पहचान कीजिए तथा नागरिक चार्टर की अधिक प्रभाविता के लिए उपायों का सुझाव दीजिए. (उत्तर 250 शब्दों में दें) 15 Marks
  19. यदि “व्यापार युद्ध” के वर्तमान परिदृश्य में विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यू.टी.ओ.) को जिन्दा बने रहना है, तो उसके सुधार के कौन-कौन से प्रमुख क्षेत्र हैं, विशेष रूप से भारत के हित को ध्यान में रखते हुए? (उत्तर 250 शब्दों में दें) 15 Marks
  20. इस समय जारी अमेरिका-ईरान नाभकीय समझौता विवाद भारत के राष्ट्रीय हितों को किस प्रकार प्रभावित करेगा? भारत को इस स्थिति के प्रति क्या रवैया अपनाना चाहिए? (उत्तर 250 शब्दों में दें) 15 Marks

 

UPSC सामान्य अध्ययन सिविल सेवा मुख्य परीक्षा अध्ययन सामग्री

UPSC GS PRE Cum MAINS (HINDI Combo) Study Kit

(Download) संघ लोक सेवा आयोग सिविल सेवा - मुख्य परीक्षा निबंध Paper - 2018

UPSC CIVIL SEVA AYOG

संघ लोक सेवा आयोग सिविल सेवा - मुख्य परीक्षा
(Download) UPSC Mains 2018 Question Paper: Essay Compulsory - निबंध 

Marks : 250 (125x2)

Duration: 3 hours

खंड A और B में प्रत्येक से एक-एक चुनकर, दो निबंध लिखिए जो प्रत्येक लगभग 1000-2000 शब्दों में हो |

Write Two Essays, choosing One from each of the Sections A and B, in about 1000-1200 words each.

Section-A (खंड "A") (125 marks) -  कोई एक चुनें

  1. जलवायु परिवर्तन के प्रति सुनम्य भारत हेतु वैकल्पिक तकनीकें |

  2. एक अच्छा जीवन प्रेम से प्रेरित तथा ज्ञान से संचालित होता है | 

  3. कहीं पर भी गरीबी, हर जगह की समृद्धि के लिए खतरा है | 

  4. भारत के सीमा विवादों का प्रबंध - एक जटिल कार्य |


Section-B (खंड "B") (125 marks) - कोई एक चुनें

  1. रूढ़िगत नैतिकता आधुनिक जीवन का मार्गदर्शक नहीं हो सकती है |

  2. 'अतीत' मानवीय चेतना तथा मूल्यों का एक स्थायी आयाम  है |

  3. जो समाज अपने सिद्धांतो के ऊपर अपने विशेषाधिकारो को महत्व देता है ,वह दोनों से हाथ धो बैठता है |

  4. यथार्थ आदर्श के अनुरूप नहीं होता है, बल्कि उसकी पुष्टि करता है |

 

UPSC सामान्य अध्ययन सिविल सेवा मुख्य परीक्षा अध्ययन सामग्री

UPSC GS PRE Cum MAINS (HINDI Combo) Study Kit

(Download) संघ लोक सेवा आयोग सिविल सेवा 2018 - मुख्य परीक्षा सामान्य अध्ययन (GS) Paper-1 - (भारतीय संस्कृति एवं विरासत,विश्व एवं समाज का इतिहास और भूगोल)

UPSC CIVIL SEVA AYOG

संघ लोक सेवा आयोग सिविल सेवा - मुख्य परीक्षा

(Download) UPSC Mains 2018 General Studies Question Paper: 
सामान्य अध्ययन-I (भारतीय संस्कृति एवं विरासत,विश्व एवं समाज का इतिहास और भूगोल ) 

Exam Name: UPSC IAS Mains General Studies (Paper-1)

Year: 2018

  1. भारतीय कला विरासत का संरक्षण वर्तमान समय की आवश्यकता है। चर्चा कीजिए । (उत्तर 150 शब्दों में दें) 10 Marks

  2. भारतके इतिहास की पुनर्रचना में चीनी और अरबी यात्रियों के वृत्तांन्तों के महत्व का आकलन कीजिए। (उत्तर 150 शब्दों में दें)। 10 Marks

  3. वर्तमान समय में महात्मा गाँधी के विचारों के महत्व पर प्रकाश डालिए । (उत्तर 150 शब्दों में दें) 10 Marks

  4. भारतीय प्रादेशिक नौपरिवहन उपग्रह प्रणाली (आई. आर. एन. एस. एस.) की आवश्यकता क्यों है ? यह नौपरिवहन में किस प्रकार सहायक है ? (उत्तर 150 शब्दों में दें) 10 Marks

  5. भारत आर्कटिक प्रदेश के संसाधनों मे किस कारण गहन रुचि ले रहा है ? (उत्तर 150 शब्दों में दें) 10 Marks

  6. ‘मेंटल प्लूम' को परिभाषित कीजिए और प्लेट विवर्तनिकी में इसकी भूमिका को स्पष्ट कीजिए। (उत्तर 150 शब्दों में दें) 10 Marks

  7. समुद्री पारिस्थितिकी पर ‘मृतक्षेत्रों' (डैड ज़ोन्स) के विस्तार के क्या-क्या परिणाम होते है ? (उत्तर 150 शब्दों में दें) 10 Marks

  8. जाति व्यवस्था नई-नई पहचानों और सहचारी रूपों को धारण कर रही है । अतः, भारत में जाति व्यवस्था का उन्मूलन नहीं किया जा सकता है।'' टिप्पणी कीजिये । (उत्तर 150 शब्दों में दें) 10 Marks

  9. ‘भारत की सरकार द्वारा निर्धनता उन्मूलन के विभिन्न कार्यक्रमों के क्रियान्वयन के बावजूद, निर्धनता अभी भी विद्यमान है।' कारण प्रस्तुत करते हुए स्पष्ट कीजिए । (उत्तर 150 शब्दों में दें) 10 Marks

  10. धर्मनिरपेक्षतावाद की भारतीय संकल्पना, धर्मनिरपेक्षतावाद के पाश्चात्य माडल से किन-किन बातों में भिन्न है ? चर्चा कीजिए । (उत्तर 150 शब्दों में दें) 10 Marks

  11. श्री चैतन्य महाप्रभु के आगमन से भक्ति आंदोलन को एक असाधारण नई दिशा मिली थी । चर्चा करें । (उत्तर 250 शब्दों में दें) 15 Marks

  12. चर्चा करें कि क्या हाल के समय में नये राज्यों का निर्माण, भारत की अर्थव्यवस्था के लिए लाभप्रद है या नहीं है। (उत्तर 250 शब्दों में दें) 15 Marks

  13. अंग्रेज़ किस कारण भारत से करारबद्ध श्रमिक अन्य उपनिवेशों में ले गए थे ? क्या वे वहां पर अपनी सांस्कृतिक पहचान को परिरक्षित रखने में सफल रहे हैं ? (उत्तर 250 शब्दों में दें) 15 Marks

  14. भारत में अवक्षयी (डिप्लीटिंग) भौम जल संसाधनों का आदर्श समाधान जल संरक्षण प्रणाली है।'' शहरी क्षेत्रों में इसको किस प्रकार प्रभावी बनाया जा सकता है ? (उत्तर 250 शब्दों में दें) 15 Marks

  15. नीली क्रांति' को परिभाषित करते हुए भारत में मत्स्यपालन की समस्याओं और रणनीतियों को समझाइये । (उत्तर 250 शब्दों में दें) 15 Marks

  16. भारत में औद्योगिक गलियारों का क्या महत्व है ? औद्योगिक गलियारों को चिन्हित करते हुए उनके प्रमुख अभिलक्षणों को समझाइये । (उत्तर 250 शब्दों में दें) 15 Marks

  17. भारत में ‘महत्त्वाकांक्षी जिलों के कायाकल्प' के लिए मूल रणनीतियों का उल्लेख कीजिए और इसकी सफलता के लिए, अभिसरण, सहयोग व प्रतिस्पर्धा की प्रकृति को स्पष्ट कीजिए । (उत्तर 250 शब्दों में दें) 15 Marks

  18. ‘भारत में महिलाओं के आंदोलन ने, निम्नतर सामाजिक स्तर की महिलाओं के मुद्दों को संबोधित नहीं किया है। अपने विचार को प्रमाणित सिद्ध कीजिए । (उत्तर 250 शब्दों में दें) 15 Marks

  19. आम तौर पर कहा जाता है कि वैश्वीकरण सास्कृतिक समागकिरण को बढ़ावा देता है प्रतीत होता है कि भारतीय समाज में उसके कारण सास्कृतिक विशिष्टताए सुदृढ़ हो गई हैं। सुस्पष्ट कीजिये । (उत्तर 250 शब्दों में दें) 15 Marks

  20. ‘सांप्रदायिकता या तो शक्ति संघर्ष के कारण उभर कर आती है या आपेक्षिक वंचन के करण उभरती है ।' उपयुक्त उदाहरणों को प्रस्तुत करते हुए तर्क दीजिए। (उत्तर 250 शब्दों में दें) 15 Marks

 

UPSC सामान्य अध्ययन सिविल सेवा मुख्य परीक्षा अध्ययन सामग्री

UPSC GS PRE Cum MAINS (HINDI Combo) Study Kit

THE GIST of Editorial for UPSC Exams : 21 September 2018 (Implications of data mirroring)


Implications of data mirroring


Mains Paper: 3 | Information Technology 
Prelims level: Data mirroring 
Mains level:
It remains to be seen whether such a policy will backfire when it comes to the potential threat of data colonialism

Introduction

  • Data is the new oil and a driver of growth and change.
  • India is a supposed to become data rich before becoming economically rich.
  • This digital growth is being pushed by large foreign digital companies.
  • They are largely fuelled by the data of their users.
  • The visits of the prime minister and Union information technology minister to Silicon Valley over the past few years as part of the Digital India campaign.

Why ICT is so important?

  • It is important for sectors such as e-commerce, social media, digital entertainment, online communication, and information and communication technology (ICT) hardware in India are predominantly served by foreign companies, or domestic companies funded by foreign capital.
  • Indian users today are accessing digital technology-driven services not only within India’s national boundaries, but also outside its jurisdiction.
  • The foreign service providers are free to process the personal data of millions of Indians within their own shores.
  • The advancement of digital tools and technology in areas such as artificial intelligence (AI), has enabled them to monitor and profile user behaviour, preferences and even daily routines, granting them the potential power to influence their decisions through targeted communications.

What is Data Colonialism?

  • Experts have been ringing the alarm bells for the past few years, warning the government of digital colonialism by such companies.
  • Data is now considered a strategic asset by many, and data driven network effects coupled with user feedback loops have given first mover advantage to the more developed western world.
  • The data processed by these companies is not only used offshore to track and profile users, but is also fed as fuel into modern technologies like AI and the Internet of Things (IoT), which are touted to be the drivers of modern manufacturing, service delivery and governance.
  • Perhaps that’s why it is Silicon Valley that is expected to lead the way in researching, implementing and controlling digital technologies, earning it the reputation of being the new Rome.

Steps are taken by government

  • The Srikrishna committee in its draft data protection bill has rightly observed that the freedom to share personal data in the digital economy works selectively in the interests of certain countries that have been early movers.
  • These countries can support a completely open digital economy without any detriment to their national interests by virtue of their technological advancement.
  • The popular websites owned by foreign entities refuse to provide data to Indian law enforcement agencies in many instances.
  • It has also flagged other related critical issues in the realm of personal data protection and data sovereignty.
  • It also preventing foreign surveillance and fostering AI in India, all of which need to be addressed.   
  • The path recommended by the committee to accomplish the feat is mandating local storage of a copy of user’s data, or data mirroring, something which has not gone down well with its critics.
  • Contemporary public discourse interprets digital colonialism as a large global economy wherein small local players are left out.
  • It has also been argued by industry players, academia and consumer groups that mandating data mirroring.
  • It will raise entry barriers in the Indian market and adversely impact a variety of smaller domestic stakeholders.
  • In such as start-ups and micro, small and medium enterprises.

What are the matters of concern?

  • The concerns in this regard are based on the premise that large foreign companies will be able to mobilise the requisite resources to invest in setting up their data centres (DCs) within India.
  • Though the same may not be possible for smaller domestic companies.
  • The possible enhanced costs of setting up or renting such infrastructure along with the non-availability of cheaper foreign cloud services may affect their business interests.
  • It coupled with fears of potential long-term adverse impact on innovation and economic growth.
  • It may deepen the existing issues of monopolisation of data and the digital economy, leading to enhanced risks of digital colonialism.
  • Though with the right intention, it seems that the committee has taken the most obvious path to achieve data sovereignty without exploring other and possibly better alternatives.
  • The observation of the committee must be treated as a recommendation one that should be judged from the perspective of India having to carefully balance the possible benefits of localisation with the costs involved in mandating such a policy.

Conclusion

  • There is a need to do a regulatory impact assessment or cost-benefit analysis (CBA) of the proposed data mirroring mandate before its enactment and implementation.
  • This need is further exacerbated considering the committee’s observation that there was no conclusive evidence presented to them demonstrating a CBA on the above arguments and counter-arguments.
  • This effectively means that though a draft law has been formulated, it is yet to be determined whether data mirroring will do more harm than good.

UPSC Prelims Questions: 

Q.1)  Consider the following statements regarding the ‘Insurance Repository System’ in India:
1. It is a digital database of insurance policies which will be stored in an electronic format.
2. Insurance Regulatory and Development Authority (IRDA) act as the National ‘Insurance Repository’.
Which of the statements given above is/are correct?
(a) 1 only
(b) 2 only
(c) Both 1 and 2
(d) Neither 1 nor 2
Ans: A

UPSC Mains Questions:

Q.1): What is data mirroring? What the implications of it? 

Online Coaching for UPSC PRE Exam

General Studies Pre. Cum Mains Study Materials

THE GIST of Editorial for UPSC Exams : 21 September 2018 (For liberty’s sake: on the scope of Article 32 in the activists case)


For liberty’s sake: on the scope of Article 32 in the activists case 


Mains Paper: 3 | Economic Development 
Prelims level: Right To Education Act
Mains level:  Issues relating to development and management of Social Sector/Services relating to Health, Education, Human resources.

Introduction

  • The Supreme Court’s intervention following the arrest of five prominent activists by the Pune police last month.
  • It has been truly extraordinary and raises the bar for protection of personal liberty.
  • The court has granted them the rare relief of remaining in house arrest while it examines the charges against them.
  • It has reserved its decision in the case and now must decide on one of the following courses.

Important highlights of the conspiracy

  • The police in Maharashtra to pursue its investigation against the activists for allegedly being members of the outlawed Communist Party of India (Maoist) and joining a conspiracy against the government.
  • It set them at liberty on the ground that this is a trumped-up case, to order a probe by an independent team.
  • It has a legal tussle between the Centre’s contention that it is probing a terrorist conspiracy involving Maoist insurgents and their urban supporters and the counter-argument that this is a thinly disguised crackdown on political dissent.
  • The petitioners, led by historian Romila Thapar, have questioned the motivation for the police raids on the residences of these activists and a few others in a coordinated operation across several States.
  • They want those arrested to be released and demand an independent investigation.
  • The Maharashtra and Union governments have sought to defend the arrest and prosecution, contending that the case is based on incriminating evidence seized during the probe.
  • And it has nothing to do with the ideology or the political views of those under investigation.

The SC observations

  • The Supreme Court has set the stage for an examination of some fundamental questions at the intersection of criminal procedure and constitutional law.
  • The procedural question is whether in a criminal matter the court can entertain a petition under Article 32 of the Constitution.
  • In under which the Supreme Court enforces fundamental rights, for which the accused are expected to seek their remedy under the Code of Criminal Procedure.
  • The substantive question is whether the court should intervene when the liberty of citizens and their right to dissent are sought to be denied by arbitrary police action.
  • Observations that “dissent is the safety valve of democracy” and “personal liberty cannot be sacrificed at the altar of conjecture” indicate the court’s thinking.
  • It is against this backdrop that the Bench has decided to examine the case diary to see whether the charges have some basis.
  • The government may have reason to worry about a precedent being set, whereby every accused can rush to the Supreme Court immediately on arrest.
  • At the same time, one cannot wish away the peculiar circumstances in which a case relating to violence at a Dalit commemoration dramatically morphed into a Maoist plot.

UPSC Prelims Questions: 

Q.1)  With respect to Right to Property, consider the following statements:
1. It is a constitutional right.
2. In case of violation, the aggrieved person can move the Supreme Court under Article 32.
3. It can be regulated without constitutional amendment by an ordinary law of the Parliament.
Which of the statements given above is/are correct?
(a) 1 only
(b) 1 and 3 only
(c) 2 and 3 only
(d) 1, 2 and 3

Ans: B

UPSC Mains Questions:
Q.1) Determining the scope of Article 32 in the activists case. comment.

Online Coaching for UPSC PRE Exam

General Studies Pre. Cum Mains Study Materials

Pages

Subscribe to RSS - admin's blog