trainee5's blog

(Download) संघ लोक सेवा आयोग सिविल सेवा - मुख्य परीक्षा सिविल इन्जीनियरी (Paper - 1) - 2017


संघ लोक सेवा आयोग सिविल सेवा - मुख्य परीक्षा
(Download) UPSC IAS Mains Exam Paper - 2017 : सिविल इन्जीनियरी (Paper - 1)


सिविल इन्जीनियरी
(प्रश्न पत्र - I)

निर्धारित समय : तीन घंटे

अधिकतम अंक : 250

प्रश्न-पत्र सम्बन्धी विशेष अनुदेश

कृपया प्रश्नों के उत्तर देने से पूर्व निम्नलिखित प्रत्येक अनुदेश को ध्यानपूर्वक पढ़े :

इसमें आठ (8) प्रश्न हैं जो दो खण्डों में विभाजित हैं तथा हिन्दी और अंग्रेज़ी दोनों में छपे हैं ।

परीक्षार्थी को कुल पाँच प्रश्नों के उत्तर देने हैं।

प्रश्न संख्या 1 और 5 अनिवार्य हैं तथा बाकी में प्रत्येक खण्ड से कम-से-कम एक प्रश्न चुनकर किन्हीं तीन प्रश्नों के उत्तर दीजिए । प्रत्येक प्रश्न/भाग के अंक उसके सामने दिए गए हैं ।

प्रश्नों के उत्तर उसी प्राधिकृत माध्यम में लिखे जाने चाहिए जिसका उल्लेख आपके प्रवेश-पत्र में किया गया है, और इस माध्यम का स्पष्ट उल्लेख प्रश्न-सह-उत्तर (क्यू.सी.ए.) पुस्तिका के मुख-पृष्ठ पर निर्दिष्ट स्थान पर किया जाना चाहिए । प्राधिकृत माध्यम के अतिरिक्त अन्य किसी माध्यम में लिखे गए उत्तर पर कोई अंक नहीं मिलेंगे।

प्रश्नों में शब्द सीमा, जहाँ विनिर्दिष्ट है, का अनुसरण किया जाना चाहिए ।

जहाँ आवश्यक हो, आरेख / चित्र उत्तर के लिए दिए गए स्थान में ही दर्शाइए ।

प्रश्नों के उत्तरों की गणना क्रमानुसार की जाएगी । यदि काटा नहीं हो, तो प्रश्न के उत्तर की गणना की जाएगी चाहे वह उत्तर अंशतः दिया गया हो । प्रश्न-सह-उत्तर पुस्तिका में खाली छोड़ा हुआ पृष्ठ या उसके अंश को स्पष्ट रूप से काटा जाना चाहिए ।

खण्ड A

1.(a) एक ऊध्र्वाकार समद्विबाहु त्रिभुजाकार गेट का, शीर्ष ऊपर की ओर है, और उसके आधार की चौड़ाई 2 मी. एवं ऊंचाई 1.5 मी. है। यदि गेट का शीर्ष मुक्त जल सतह से 1 मी. नीचे हो, तो समग्र दाब-बल एवं दाब केन्द्र की स्थिति ज्ञात कीजिए।
(b) उच्च सामर्थ्य घर्षण-पकड़ बोल्टों के फायदे क्या-क्या हैं ? उच्च सामर्थ्य घर्षण-पकड़ बोल्टों में भार किस प्रकार स्थानांतरित होता है ? रेखाचित्रों के साथ व्याख्या कीजिए।
(c) एक खतान पर अक्षुब्ध मृदा की जल अंतर्वस्तु 12 प्रतिशत, रिक्तता अनुपात 0.55 एवं ठोसों का विशिष्ट घनत्व, 2.62 है । इस खतान से प्राप्त मृदा का उपयोग पुश्ते के निर्माण के लिए किया जाना है । पुश्ते के लिए शुष्क घनत्व 17.5 kN/m3 एवं जल धारण 18.5 प्रतिशत विशिष्टताओं की आवश्यकता है। लिटरों में जल की मात्रा का, जिसको तैयार पुश्ते के प्रांत m' के लिए खतान मृदा में डालने की आवश्यकता होगी, परिकलन कीजिए।
(d) एक लीवर को ऊपर दिए गये चित्रानुसार भारित किया गया है ।

(i) बिन्दु पर बल आधूर्ण का परिकलन कीजिए ।
(ii) बिन्दु B पर किस मात्रा का क्षैतिज बल लगाया जाये जो कि उपरोक्त परिकलित बल आघूर्ण के बराबर बल आघूर्ण उत्पन्न कर सके ।
(iii) परिकलन कीजिए कि बिन्दु B पर किस न्यूनतम मात्रा का बल लगाया जाए ताकि जो कि भाग (i) में गणित बल आघूर्ण के बराबर बल आघूर्ण उत्पन्न कर सके ।
(iv) लीवर पर बिन्दु की दूरी का परिकलन कीजिए जहाँ पर 1.20 kN का ऊध्र्वाधर बल लगाया जाए, जो कि भाग (i) में परिकलित बल आघूर्ण के बराबर बल आघूर्ण उत्पन्न कर सके ।

ऊपर दिए गये चित्र में दर्शाये गये ढाँचे के लिए, बंकन आघूर्ण एवं अपरूपण बल का परिकलन कीजिए और उनके विचरण का आरेख बनाइए ।

2.(a) 0.3 मी. व्यास के एक पाइप में 24.4 मी./सेकेण्ड के वेग से जल प्रवाहित है। A एवं B बिन्दुओं पर क्रमशः 361 kPa एवं 288 kPa के दाब मापे गए थे । बिन्दु A एवं B की उच्चताएं क्रमशः 30.5 मी. एवं 33.5 मी. थीं । बिन्दु A एवं B की बीच दाबोच्चता हानि (हेड लॉस) ज्ञात कीजिए।
(b) एक अल्प भारीय भवन बालू की 10 मी. मोटी परत पर खड़ा है । बालू परत के नीचे 5 मी. मोटी मृत्तिका परत है । मृत्तिका परत के नीचे चट्टानी सतह है । भौम जलस्तर जमीन तल से 1 मी. नीचे है । भौम जलस्तर के ऊपर की बालू सतह केपीलरी उठाव के द्वारा संतृप्त है । बालू के लिए रिक्तता अनुपात 0.75 एवं विशिष्ट घनत्व 2-65 है । ग्रीष्मकाल में जल, बालू सतह में 4-0 मी. नीचे जाने तक पम्प द्वारा बाहर निकाला जाता है। जिससे जल सतह सूख जाती है । परिकलन कीजिए कि कितने दिनों में भवन 25 मि.मी. नीचे बैठ जाता है। पंपन संक्रिया के दौरान निषदन को नज़रअंदाज कीजिए। मृतिका के गुणधर्म : रिक्ति अनुपात = 0-60, विशिष्ट घनत्व = 2.70, द्रव सीमा = 40%, संघनन गुणांक = 6x10-3 से.मी./सेकेण्ड ।
(c) एक भवन हेतु डाग-लेगड सीढ़ी का विस्तृत विवरण ऊपर चित्र में दिया गया है । तल से तल की ऊंचाई 3.0 मी. है । चल भार (लाइव लोड) 2.5 कि, न्यूटन/मी.2 लिया जा सकता है । सीढ़ी के स्लैब की मोटाई 150 मि.मी. है। राइज एवं ट्रेड क्रमशः 150 मि.मी. एवं 250 मि.मी. हैं । सीढ़ी की प्रारूपिक फ्लाइट का डिजाइन एवं विस्तृत आरेख बनाइये । कांक्रीट हेतु M-25 एवं इस्पात ग्रेड Fe-500 का प्रयोग कीजिए। सीमित स्टेट विधि का इस्तेमाल कीजिए ।

3.(a) एक संघनित त्रिअक्षीय परीक्षण में संतृप्त बालू का नमूना 220 kPa डेवीयेटर प्रतिबल पर असफल हो गया, जब सेल दाब 100 kPa था। अपरूपण सामर्थ्य प्राचलों, अपरूपण सामर्थ्य एवं अधिकतम अपरूपण प्रतिबल का निर्धारण कीजिए।
(b) एक 3 से.मी. व्यास के ऊध्र्वाधर पाइप में से तेल प्रवाहित हो रहा है, जिसकी गतिक श्यानता 1:5 पाइस एवं सापेक्ष घनत्व (0.9 है । एक दूसरे से 20 मी. की दूरी पर दो दाब प्रमापी लगाये गये हैं । उपर लगाया गया दाब प्रमापी 4, 200 kPa दर्शाता है, एवं नीचे लगाया गया दाब प्रमापी B, 500 kPa दर्शाता है। प्रवाह की दिशा एवं प्रवाह की दर ज्ञात कीजिए।

ऊपर दिये गये चित्र में प्लेन ट्रस (कैंची) के जोड़ B के लिए ऊध्र्वाधर विक्षेपण को परिकलन एकल 'भार विधि के द्वारा कीजिए। ट्रस के सभी अवयव समांगी अनुप्रस्थ-काट एवं पदार्थ वाले हैं ।

4.(a) ऊपर दिये गये चित्र में सपाट ऊर्ध्वाधर पीठ वाली 9.0 मी. ऊंची प्रतिधारक भित्ति के पीछे द्वि-स्तरीय पृष्ठ भराव, दिखाया गया है। कुल सक्रिय मृदा दाब के विचरण का रेखाचित्र बनाइए एवं परिणामी मृदा दाब के अनुप्रयोग बिन्दु को ज्ञात कीजिए।

(b) दो गतिमान भार, जिनमें प्रत्येक का भार 300 kN है एवं जो एक दूसरे से 4-0 m की दूरी पर स्थित हैं, 20-0 m लम्बे शुद्धालंबित गरडर को बांये से दायें ओर पार करते हैं। इन गतिमान भारों के कारण परम अधिकतम बंकन आघूर्ण का परिकलन कीजिए। (ऊपर चित्र)

(c) ISMB 600 के फ्लेंज से एक वर्गाकार खोखला काट, ऊपर चित्र में दर्शाये गये अनुसार जुड़ा है ।। इस ब्रैकेट पर सममित 50 कि. न्यूटन के भार क्रमशः क्षैतिज एवं उर्ध्वाधर दिशा में कार्यरत है । वर्गाकार खोखला काट 150x150x6 मि.मी. माप का है। इस जोड़ के लिए आवश्यक वेल्ड साइज ज्ञात कीजिए।

खण्ड ‘B'

5.(a) एक 1: 50 पैमाने के स्पिलवे माडल का 1.25 मी./सेकेण्ड का निस्सरण है। इसके प्रोटोटाइप द्वारा कितना निस्सरण किया जाएगा ? यदि प्रोटोटाइप में बाढ़ आने में 12 घंटे लगते हैं तो माडल में बाढ़ आने में कितना समय लगेगा ?
(b) M-25 ग्रेड कांक्रीट मिक्स डिजाइन, संतृप्त लेकिन शुष्क सतह, के लिए, सीमेंट : बालू : रोड़ी : जल का अनुपात क्रमशः 1: 1:2: 2-4 : 0:4 (वजन द्वारा) है। स्थल पर कास्टिंग के पहले बारिश दिवस के कारण, सामग्री की केरेक्टेरिस्टिक में बदलाव (बालू एवं रोड़ी में) के कारण पुनरीक्षित कांक्रीट मिक्स डिजाइन कीजिए।
मानिए: (i) बालू एवं रोड़ी के विशिष्ट घनत्व क्रमशः 2.6 एवं 2-65 हैं ।
(ii) सतही जल की मात्रा, बालू एवं रोड़ी के लिए क्रमशः 2.5% एवं 1.5% है । आइ. एस. कोड के अनुसार, कांक्रीट मिक्स डिजाइन हेतु, टिकाऊपन कारक कैसे लिया जाता है ?

(c) एक स्थल पर एक बड़ी परियोजना के लिए नींव खाई का खुदाव किया जाना है। मृदा परीक्षण रिपोर्ट में निम्नलिखित विवरण दिखाये गये हैं।

5.(d) जैसा कि ऊपर चित्र में दिखाया गया है 50 मि.मी. व्यास की दो छड़े जुड़ी हैं। लगाये जा सकने वाले अधिकतम भार P को ज्ञात कीजिए । E = 2x10 MPa.
(e) एक खोखले वृत्ताकार शाफ्ट में, जिसका बाहरी वृत्त का व्यास 300 मि.मी. एवं भीतरी वृत्त का व्यास 150 मि.मी. है, अधिकतम अपरूपण प्रतिबल का परिकलन कीजिए। इस शाफ्ट पर 4 kN-m का ऐंठन आघूर्ण कार्यरत है । यदि दृढ़ता मापांक G = 82 GN/m' हो, तो, बाहरी व्यास के बीस गुना लम्बाई के लिए ऐंठन का परिकलन कीजिए।

6. (a) ऊपर चित्र में दर्शाये अनुसार तीन धरन अवयव बिन्दु B पर जुड़े हैं। जोड़ बिन्दु B पर 100 kN-m का आघूर्ण घड़ी की दिशानुसार कार्यरत है । A, C एवं D पर आघूर्ण का परिकलन आघूर्ण वितरण विधि के द्वारा कीजिए । सभी धरन अवयवों के स्थिर अनुप्रस्थ-काट एवं पदार्थ हैं। (स्थिर I एवं E)

(b) 2 मी. विस्तृति की प्रबलित कांक्रीट की केंटिलीवर धरन (300 मि.मी. x 600 मि.मी.) 125 कि.न्यूटन/मी. का समान विस्तरित भार (यू.डी.एल.) वहन करती है (धरन के अपने भार सहित) । धरन को 4 नग 25 मि.मी. व्यास द्वारा उपर तथा 2 नग 20 मि.मी. व्यास द्वारा नीचे प्रबलित किया गया है । अपरूपण प्रबलन का अभिकल्प (डिजाइन) कीजिए तथा धरन (बीम) का अनुप्रस्थ-काट आरेखित करें । M-25 तथा Fe-500 का इस्तेमाल करें । अभिकल्प के लिए ‘लिमिट-स्टेट' विधि का उपयोग करें। नीचे दी हुई सारणी का इस्तेमाल करें ।
(c) 4 m चौड़ाई की एक क्षैतिज आयताकार चेनल से 16 मी./सेकेण्ड का निस्सरण हो रहा हैं। निर्धारण कीजिए कि आरंभिक गहराई 0.5 मी. पर जम्प बनेगी अथवा नहीं । इस आरंभिक गहराई के लिए सीक्वेंट गहराई का मान ज्ञात कीजिए। इस जम्प में ऊर्जा हुनन का मान भी ज्ञात कीजिए।

7.(a) 240 मी. की दाबोच्चता के अधीन और 80 प्रतिशत की समग्र दक्षता पर कार्यरत एक पेल्टन ह्वील" टरबाइन 5520 KW विद्युत पैदा करता है । यह टरबाइन 200 आर.पी.एम. की चाल से घूम रही। है । परिधीय गुणांक 0-46 मान कर चलते हुए एकल निस्सरण, एकल शक्ति एवं एकल चाल ज्ञात कीजिए। यदि ग्रीष्मकाल में, उसी टरबाइन का दाबोच्चता पतन 150 मी. हो जाता है, तो, इस दाबोच्चता के लिए निस्सरण, शक्ति एवं चाल ज्ञात कीजिए ।
(b) जैसा कि ऊपर दिए हुए चित्र में दिखाया गया है, संसंजनी मृदा में एक स्थिरीकृत शीटपाइल को बलुई पृष्ठ भराव का प्रतिधारण करना है। शीट पाइल के अंतःस्थापन की गहराई और लंगर में कर्षण का परिकलन कीजिए।

(c) ऊपर चित्र में दिखाए गये केंटीलीवर धरन के निरोधित सिरे पर अधिकतम बंकन प्रतिबल एवं अपरूपण प्रतिबल का परिकलन कीजिए । निरोधित सिरे पर बंकन प्रतिबल एवं अपरूपण प्रतिबल का विचरण रेखाचित्र भी बनाइये । धरन की मोटाई एक समान रूप से 50 मि.मी है। धरन मुक्त सिरे पर 200 मि.मी. एवं निरोधित सिरे पर 300 मि.मी. गहरी है ।

8.(a) भूमि तल से 3.1 मीटर ऊपर तक मिट्टी भराव को सहारा देने हेतु एक केंटीलीवर प्रतिधारक भित्ति का निर्माण किया जाना है । मृदा का एकक भार 19 के.एन./मी. एवं मृदा का रिपोज कोण 35° है। प्रतिधारक भित्ति के अवयवों की माप ऊपर चित्र में दर्शायी गयी हैं। प्रतिधारक भित्ति समस्त स्थायित्व जाँच में सुरक्षित है। प्रतिधारक भित्ति के स्टेम का डिजाइन कीजिए एवं प्रबलित छड़ों का विस्तृत आरेख खींचिए । लिमिट स्टेट विधि का प्रयोग कीजिए । मानिये : M.25 ग्रेड कांक्रीट एवं Fe-500 ग्रेड स्टील ।

(b) एक I मी. लम्बी समतल प्लेट के ऊपर 6 मी./सेकेण्ड के वेग से हवा प्रवाहित हो रही हैं। निम्नलिखित का मान ज्ञात कीजिए :

(i) प्लेट के अंत में सीमा सतह की मोटाई,
(ii) प्लेट के मध्य में अपरूपण प्रतिबल,
(iii) प्लेट के दोनों सतहों पर कुल ड्रग/एकल लम्बाई । मानिये : हवाका द्रव्यमान घनत्व 2 = 1226 कि.ग्राम/मी. और हवा की शुद्धगतिक श्यानता V = (0.15x10-4)मी./सेकेण्ड ।

(c) एक 500 मि.मी. व्यास एवं 80 मी. लम्बाई के स्थल निर्मित आर.सी.सी. पाईल का निर्माण निम्न मृदा गुणधर्म विचरण हेतु निर्माण स्थल पर किया जाता है ।


जल स्तर को जमीन सतह पर मानते हुए, IS : 2911 के अनुसार अल्टीमेट पाइल भार सामर्थ्य ज्ञात कीजिए।

Click Here to Download PDF

DOWNLOAD UPSC मुख्य परीक्षा Main Exam GS सामान्य अध्ययन प्रश्न-पत्र PDF

DOWNLOAD UPSC MAINS GS 10 Year PAPERS PDF

DOWNLOAD UPSC MAINS GS SOLVED PAPERS PDF

Printed Study Material for IAS Mains General Studies

UPSC सामान्य अध्ययन प्रारंभिक एवं मुख्य परीक्षा (Combo) Study Kit

सामान्य अध्ययन सिविल सेवा मुख्य परीक्षा अध्ययन सामग्री (GS Mains Study Kit)

(Download) संघ लोक सेवा आयोग सिविल सेवा - मुख्य परीक्षा सिविल इन्जीनियरी (Paper - 2) - 2017


संघ लोक सेवा आयोग सिविल सेवा - मुख्य परीक्षा
(Download) UPSC IAS Mains Exam Paper - 2017 : सिविल इन्जीनियरी (Paper - 2)


सिविल इन्जीनियरी
(प्रश्न पत्र - II)

निर्धारित समय : तीन घंटे

अधिकतम अंक : 250

प्रश्न-पत्र सम्बन्धी विशेष अनुदेश

कृपया प्रश्नों के उत्तर देने से पूर्व निम्नलिखित प्रत्येक अनुदेश को ध्यानपूर्वक पढ़े :

इसमें आठ (8) प्रश्न हैं जो दो खण्डों में विभाजित हैं तथा हिन्दी और अंग्रेज़ी दोनों में छपे हैं ।

परीक्षार्थी को कुल पाँच प्रश्नों के उत्तर देने हैं।

प्रश्न संख्या 1 और 5 अनिवार्य हैं तथा बाकी में प्रत्येक खण्ड से कम-से-कम एक प्रश्न चुनकर किन्हीं तीन प्रश्नों के उत्तर दीजिए । प्रत्येक प्रश्न/भाग के अंक उसके सामने दिए गए हैं ।

प्रश्नों के उत्तर उसी प्राधिकृत माध्यम में लिखे जाने चाहिए जिसका उल्लेख आपके प्रवेश-पत्र में किया गया है, और इस माध्यम का स्पष्ट उल्लेख प्रश्न-सह-उत्तर (क्यू.सी.ए.) पुस्तिका के मुख-पृष्ठ पर निर्दिष्ट स्थान पर किया जाना चाहिए । प्राधिकृत माध्यम के अतिरिक्त अन्य किसी माध्यम में लिखे गए उत्तर पर कोई अंक नहीं मिलेंगे।

प्रश्नों में शब्द सीमा, जहाँ विनिर्दिष्ट है, का अनुसरण किया जाना चाहिए ।

जहाँ आवश्यक हो, आरेख / चित्र उत्तर के लिए दिए गए स्थान में ही दर्शाइए ।

प्रश्नों के उत्तरों की गणना क्रमानुसार की जाएगी । यदि काटा नहीं हो, तो प्रश्न के उत्तर की गणना की जाएगी चाहे वह उत्तर अंशतः दिया गया हो । प्रश्न-सह-उत्तर पुस्तिका में खाली छोड़ा हुआ पृष्ठ या उसके अंश को स्पष्ट रूप से काटा जाना चाहिए ।

खण्ड A

1. (a) निम्नांकित सारणी एक निर्माण-कार्य परियोजना में क्रियाओं एवं अन्य संबद्ध जानकारी को दर्शाती है :

क्रिया अवधि
1-2 20
1-3 25
2-3 10
2-4 12
3-4 6
4-5 10

(i) परियोजना के नेटवर्क (जाल) का चित्र बनाइए।
(ii) क्रान्तिक पथ को ज्ञात कीजिए।
(ii) प्रत्येक क्रिया के लिए फ्री (मुक्त) फ्लोट, टोटल (सकल) फ्लोट एवं इन्डिपेन्डेन्ट (स्वतंत्र) फ्लोट को ज्ञात कीजिए।

(b) सीमेंट मसाला से आप क्या समझते हैं? सीमेंट मसाला समानुपातन के सिद्धान्त को स्पष्ट कीजिए तथा सीमेंट मसाला के ठोसपन एवं ताकत के बीच के संबंध को भी स्पष्ट कीजिए।

(i) सर्वेक्षण की सुदूर संवेदन विधि को वर्णित कीजिए। आइ० आर० एस० डेटा के विभिन्न उपयोगों की सूची नाइए।
(ii) त्रिकोणीय सर्वेक्षण के सिद्धान्त का वर्णन कीजिए। त्रिकोणीय सर्वेक्षण की आधार-रेखा को निर्धारित करने वाले विभिन्न कारकों का वर्णन कीजिए।

(d) एक आदर्श रेल पटरी परिच्छेद के लिए क्या आवश्यकताएँ होती हैं? एक स्वच्छ रेखाचित्र की सहायता से 60 kg प्रकार के मानक सपाट-पाद बड़ी लाइन रेल पटरी परिच्छेद को स्पष्ट कीजिए। प्रत्येक भाग की सन्निकट विमाओं को चिह्नित कीजिए।
(i) महामार्गों में जल-निकासी के महत्त्व की चर्चा कीजिए। तटीय क्षेत्र में पड़ने वाले राष्ट्रीय महामार्ग के लिए सतहीं एवं अधस्तलीय जल-निकासी व्यवस्थाओं को वर्णित कीजिए।
(ii) रोटरी (चक्रिल) इन्टरसेक्शन के डिज़ाइन को प्रभावित करने वाले कारकों की सूची बनाइए।

2. (a) निम्नलिखित के बीच विभेदन कीजिए :

(i) सी० पी० एम० एवं पर्ट
(ii) फ्लोट एवं स्लैक
(iii) प्रत्यक्ष लागत एवं अप्रत्यक्ष लागत
(iv) टोटल (सकल) फ्लोट एवं इन्डिपेन्डेन्ट (स्वतंत्र) फ्लोट

(b) प्लास्टर करने और टीप करने के उद्देश्यों को स्पष्ट कीजिए। टीप करने के विभिन्न प्रकारों पर स्वच्छ चित्रों की सहायता से चर्चा कीजिए।
(c) उन सभी कारकों की सूची बनाइए, जो निर्माण उपस्कर के चुनाव को प्रभावित करते हैं। आप किसी उपस्कर की लाभप्रद आयु का निर्धारण कैसे करेंगे? एक उपयुक्त उदाहरण की सहायता से स्पष्ट कीजिए।

3. (a) सिविल निर्माण के संदर्भ में शब्द 'विनिर्देश' को स्पष्ट कीजिए। विनिर्देश के विभिन्न उद्देश्यों को बताइए। प्रबलित सीमेंट कंक्रीट के विस्तृत विनिर्देश को वर्णित कीजिए। (b) समोच्च रेखाओं के अभिलक्षणों का वर्णन कीजिए। एक जलाशय-स्थल एवं प्रस्तावित बाँध के फलक पर समोच्च रेखाओं में आने वाले क्षेत्र निम्नांकित हैं :

समोच्च रेखा (m में) क्षेत्रफल (m2 में)
441 270
444 10440
447 75600
450 144000
453 270000
456 414500
459 460800
462 586800
465 639900

जलाशय के निम्न सतह को 441 m और जल सतह को 465 rn मानकर, जलाशय में जल के आयतन को घन मीटरों में निर्धारित कीजिए।

(c) (i) कंक्रीट स्लीपरों के फायदों एवं नुकसानों की सूची बनाइए। एक आदर्श स्लीपर की क्या आवश्यकताएँ हैं?
(ii) रेल पटरियों में सिग्नलों की क्या आवश्यकता है? सेमाफोर सिग्नल का एक स्वच्छ चित्र बनाइए एवं इसके

(d) (i) महामार्ग के ज्यामितीय डिज़ाइन के क्या उद्देश्य हैं? एक महामार्ग का डिज़ाइन करने के समय आवश्यक रूप से विचार किए जाने वाले विभिन्न तत्त्व क्या हैं?
(ii) किसी निर्मित क्षेत्र में महामार्ग का संरेखण करने में 325 m त्रिज्या के एक क्षैतिज वृत्ताकार वक्र बनाने की आवश्यकता थी। निम्नलिखित ज्यामितीय विशिष्टताओं (फीचर्स) का अभिकल्पन कीजिए : ।

(1) अतिउत्थापन (सुपरएलिवेशन)
(2) कुट्टिम का अतिरिक्त चौड़ीकरण
(3) ट्रांजिशन वक्र की लम्बाई उपलब्ध आँकड़े हैं :
अभिकल्पन गति = 65 kmph सबसे बड़े ट्रक के व्हीलबेस की लम्बाई = 6 m कुट्टिम की चौड़ाई = 10-5 m

4. (a) (i) कंक्रीट के समानुपातन की विभिन्न विधियों का संक्षेप में वर्णन कीजिए।
(ii) सादा सीमेंट कंक्रीट और प्रबलित सीमेंट कंक्रीट के बीच विभेदन कीजिए। प्रबलन किस कारण आवश्यक होता है? चर्चा कीजिए।
(b) दो बिन्दुओं A एवं B के बीच में एक सीधी सुरंग बनानी है, जिसके नेट कोऑर्डिनेट निम्न सारणी में दिए गए हैं :

POINT Independent Coordinates
N E
A 0 0
B 3014 256
C 1764 1398

AB के मध्यबिन्दु D पर एक शैफ्ट को सिंक करना वांछनीय है, परंतु AB के बीच सीधा माप करना असंभव है। अतः D को फिक्स करने के लिए एक तीसरे ज्ञात बिन्दु ८ की जरूरत है। ज्ञात कीजिए

(i) D के नेट कोऑर्डिनेट;
(ii) CD की लम्बाई एवं दिस्थिति (बियरिंग);
(iii) कोण ACD, दत्त कि AC का पूर्ण सर्कल बियरिंग 38924" है।

(c) एक ट्रेन को खींचने के पहले एक इंजन को जिन विभिन्न प्रतिरोधों को पार करना पड़ता है, उन प्रतिरोधों की चर्चा कीजिए। एक चौड़ी लाइन इंजन, जिसके चार जोड़ी चालन ड्राइविंग) चक्के हैं, एक सीधे समतल ट्रैक पर 86 kmph पर दौड़ता है। अधिकतम ऐक्सल लोड 28:5 टन है।
(i) उस इंजन द्वारा खींचे जा सकने वाले अधिकतम अनुमेय ट्रेन लोड को ज्ञात कीजिए।
(ii) अगर ट्रेन 200 में 1 के ग्रेडिएंट पर चढ़ती है, तो रफ्तार में घटौती का भी अभिकलन कीजिए।
(iii) अगर ट्रेन 200 में 1 के ग्रेडिएंट पर, 3° वक्र के साथ, चढ़ती है, तो ट्रेन की घटी हुई रफ्तार क्या होगी?

(d) यांत्रिकतः स्थिरीकृत मृदा महामार्ग के कार्य को निष्पादित करने के समय किन बिन्दुओं को ध्यान में रखना होता है? एक राष्ट्रीय महामार्ग एक रोलिंग टेरेन से गुजरती है, जिसमें 600 m त्रिज्या वाला एक क्षैतिज वक्र है। ट्रांजिशन वक्र की लम्बाई का अभिकल्पन कीजिए एवं निम्नांकित आँकड़ों से शिफ्ट का अभिकलन कीजिए :

खण्ड-B

5. (a) (i) अपरिरुद्ध एवं परिरुद्ध जलवाही स्तर में पानी छोड़ने की प्रक्रिया का वर्णन कीजिए। एक जलवाही स्तर के प्रवाह समीकरण की व्युत्पत्ति में पूर्वधारणाओं की सूची बनाइए।
(ii) एक कुआँ, जिसकी त्रिज्या 0:3 m है, की खुदाई एक अपरिरुद्ध जलवाही स्तर में की जाती है। बेड़-सतह से प्रारम्भिक जल-स्तर 30 m ऊपर है। जल की मात्रा को अनुमानित कीजिए जिसे पम्प किया जा सकता हैं, अगर अधिकतम ड्रॉडाउन को 8 m तक सीमित किया गया हो।
मान लीजिए :
जलीय चालकता = 25 m/दिन
प्रभाव की त्रिज्या = 300 m

(b) (i) स्थायी म्लानि बिन्दु एवं क्षेत्र क्षमता को परिभाषित कीजिए। सिंचाई की आवृत्ति को निर्धारित करने में यह किस प्रकार उपयोगी है?
(ii) निम्नांकित आँकड़ों के आधार पर सिंचाई की आवृत्ति को निर्धारित कीजिए :
खपत उपयोग = 28 mrn/दिन जड़ क्षेत्र की गहराई = 80 mm सिंचाई दक्षता = 65%
उपलब्ध मृदा नमी = 50% प्रयुक्त जल की गहराई को भी ज्ञात कीजिए।

(c) 'अभिकल्पन काल' एवं 'जनसंख्या पूर्वानुमान' से आप क्या समझते हैं? 'इन्क्रीमेन्टल इन्क्रीज़' विधि, जो किसी शहर की भविष्य की आबादी बताती है, को वर्णित कीजिए एवं इसके फायदों का उल्लेख कीजिए।
(d) 80000 की जनसंख्या को प्रति व्यक्ति प्रति दिन 150 L की माँग के अनुसार जल की आपूर्ति की जानी है। उपचार में क्लोरीन की खपत 5 kg/दिन होती है। 10 मिनट के सम्पर्क के बाद अवशिष्ट क्लोरीन 0-20 mg/L होती है। पानी की क्लोरीन माँग का परिकलन कीजिए।
(e) (i) ठोस अपशिष्ट के अनुचित निस्तारण के सामान्य रूप से मानव स्वास्थ्य और पर्यावरण पर परिणामों को स्पष्ट कीजिए।
(ii) नगरीय ठोस अपशिष्ट (एम० एस० डब्ल्यू०) के संघटन पर चर्चा कीजिए।

6. (a) (i) जलालेख की परिभाषा दीजिए। स्वच्छ रेखाचित्र की सहायता से, जलालेख से आधारभूत प्रवाह पृथक्करण की किन्हीं दो विधियों को स्पष्ट कीजिए।
(ii) क्रमिक विधि के द्वारा समझाइए कि जलाशय की धारिता को, द्रव्यमान अंतर्वाह वक्र के इस्तेमाल से, किस प्रकार निश्चित किया जाता है।
(iii) एक-उद्देशीय जलाशय और बहु-उद्देशीय जलाशय के बीच विभेदन कीजिए। बहु-उद्देशीय जलाशय में जल के आबंटन की दो महत्त्वपूर्ण विधियाँ स्पष्ट कीजिए।

(b) (i) किसी नहर के अभिकल्पन विसर्जन को निम्नांकित आँकड़ों की मदद से ज्ञात कीजिए :

Crop Base Period (Days) Area (Hectares) Duty (Hectares / Cumec)
Sugarcane 320 850 580
Overlap sugarcane in hot weather 90 120 580
Wheat (Rabi) 120 600 1600
Bajri (Monsoon) 120 500 2000
Vegetables (Hot Weather) 120 360 600

नहर का टाइम फैक्टर = 15/20
कैपेसिटी फैक्टर = 0.75

(ii) गुरुत्व बाँध एवं मृदा बाँध की विफलता की विधाओं की व्याख्या कीजिए।
(iii) जलाशय अवसादन पर एक टिप्पणी लिखिए।

(c) (i) उत्प्लव मार्ग के प्रकार्य को स्पष्ट कीजिए। ओगी उत्प्लव मार्ग के क्या फायदे हैं? एक स्वच्छ रेखाचित्र की सहायता से स्पष्ट कीजिए।
(ii) निम्नांकित आँकड़ों वाले एक ओगी उत्प्लव मार्ग पर विसर्जन को ज्ञात कीजिए :
C = 2.4
हेड = 2 m
लम्बाई = 100 m
शिखर, सतह से 8 m की ऊँचाई पर है।

(iii) शमन बेसिन एवं नदी नियंत्रण निर्माण पर टिप्पणी लिखिए।

7. (a) एक शहर में सतह, जिस पर वर्षा होती है, के वर्गीकरण को नीचे दिखाया गया है :

% of total surface area Type of surface Coffiecient of runoff
20% Rooftop 0.90
20% Pavement 0.85
10% Paved Yard 0.80
15% Macedam Road 0.40
35% Lawns 0.10


क्षेत्र के रन-ऑफ गुणांक का निर्धारण कीजिए। अगर शहर का कुल क्षेत्रफल 40 ha है एवं अधिकतम वर्षा तीव्रता 6 cm/hr है, तो शहर का रन-ऑफ क्या होगा?

(b) (i) अपशिष्ट जल के उपचार में BOP / COD अनुपात के महत्व की व्याख्या कीजिए।
(ii) एक सीवेज नमूने के 2-दिन 37 °C BOD को परिकलन कीजिए, जिसका 5-दिन 20 °C BOD 150 mg/L हो। मानिए कि 20 °C पर kp का मान 0-1 है।

(c) (i) स्लज पाचन प्रक्रम की विभिन्न अवस्थाओं का वर्णन कीजिए। उन विभिन्न कारकों का भी वर्णन कीजिए जो स्लज पाचन को प्रभावित करते हैं एवं उनका निदान भी बताइए।
(ii) एक ऑक्सीकरण पॉन्ड का अभिकल्पन कीजिए जिसे एक ऊष्म जलवायु वाले आवासीय कॉलोनी, जिसकी आबादी 6000 हैं, में बनने वाले 150 L/दिन/व्यक्ति सीवेज को ट्रीट करना है। सीवेज का 5-दिन BOD 250 mg/L है।

8. (a) (i) बाढ़ मार्ग-निर्धारण को परिभाषित कीजिए। हाइड्रोलिक मार्ग-निर्धारण एवं हाइड्रोलॉजिक मार्ग-निर्धारण में अन्तर को लिखिए।
(ii) संचय बहिर्वाह मार्ग-निर्धारण एवं मस्किंगम मार्ग-निर्धारण में प्रयुक्त आधारिक संकल्पनाओं की संक्षेप में व्याख्या कीजिए।
(iii) शुद्धगतिक बाढ़ मार्ग-निर्धारण पर एक संक्षिप्त टिप्पणी लिखिए।

(b) (i) लेसी की रिजीम थियोरी की व्याख्या कीजिए। रिजीम वाहिका, आरंभिक रिजीम और अंतिम रिजीम की परिभाषा दीजिए।
(ii) लेसी की थियोरी को व्यवहार में लाते हुए एक वाहिका के अभिकल्पन के प्रत्येक कदम को स्पष्ट कीजिए।
(iii) लेसी की थियोरी एवं केनेडी की थियोरी की तुलना कीजिए।

(c) (i) खनन कार्यकलाप पर्यावरण को कैसे प्रभावित करते हैं? खनन के पर्यावरणीय प्रभाव पर विस्तार से चर्चा कीजिए।
(ii) हवा को प्रदूषित करने वाले विभिन्न प्रदूषक क्या हैं? उनके स्रोतों एवं सामान्य तौर पर मनुष्य के स्वास्थ्य तथा पर्यावरण पर पड़ने वाले प्रभावों पर चर्चा कीजिए।

Click Here to Download PDF

DOWNLOAD UPSC मुख्य परीक्षा Main Exam GS सामान्य अध्ययन प्रश्न-पत्र PDF

DOWNLOAD UPSC MAINS GS 10 Year PAPERS PDF

DOWNLOAD UPSC MAINS GS SOLVED PAPERS PDF

Printed Study Material for IAS Mains General Studies

UPSC सामान्य अध्ययन प्रारंभिक एवं मुख्य परीक्षा (Combo) Study Kit

सामान्य अध्ययन सिविल सेवा मुख्य परीक्षा अध्ययन सामग्री (GS Mains Study Kit)

(Download) संघ लोक सेवा आयोग सिविल सेवा - मुख्य परीक्षा (वाणिज्य एवं लेखाविधि) (Paper - 2) - 2017


संघ लोक सेवा आयोग सिविल सेवा - मुख्य परीक्षा
(Download) UPSC IAS Mains Exam Paper - 2017 : वाणिज्य एवं लेखाविधि (Paper - 2)


वाणिज्य एवं लेखाविधि
(प्रश्न पत्र - II)

निर्धारित समय : तीन घंटे

अधिकतम अंक : 250

प्रश्न-पत्र सम्बन्धी विशेष अनुदेश

कृपया प्रश्नों के उत्तर देने से पूर्व निम्नलिखित प्रत्येक अनुदेश को ध्यानपूर्वक पढ़े :

इसमें आठ (8) प्रश्न हैं जो दो खण्डों में विभाजित हैं तथा हिन्दी और अंग्रेज़ी दोनों में छपे हैं ।

परीक्षार्थी को कुल पाँच प्रश्नों के उत्तर देने हैं।

प्रश्न संख्या 1 और 5 अनिवार्य हैं तथा बाकी में प्रत्येक खण्ड से कम-से-कम एक प्रश्न चुनकर किन्हीं तीन प्रश्नों के उत्तर दीजिए । प्रत्येक प्रश्न/भाग के अंक उसके सामने दिए गए हैं ।

प्रश्नों के उत्तर उसी प्राधिकृत माध्यम में लिखे जाने चाहिए जिसका उल्लेख आपके प्रवेश-पत्र में किया गया है, और इस माध्यम का स्पष्ट उल्लेख प्रश्न-सह-उत्तर (क्यू.सी.ए.) पुस्तिका के मुख-पृष्ठ पर निर्दिष्ट स्थान पर किया जाना चाहिए । प्राधिकृत माध्यम के अतिरिक्त अन्य किसी माध्यम में लिखे गए उत्तर पर कोई अंक नहीं मिलेंगे।

प्रश्नों में शब्द सीमा, जहाँ विनिर्दिष्ट है, का अनुसरण किया जाना चाहिए ।

जहाँ आवश्यक हो, आरेख / चित्र उत्तर के लिए दिए गए स्थान में ही दर्शाइए ।

प्रश्नों के उत्तरों की गणना क्रमानुसार की जाएगी । यदि काटा नहीं हो, तो प्रश्न के उत्तर की गणना की जाएगी चाहे वह उत्तर अंशतः दिया गया हो । प्रश्न-सह-उत्तर पुस्तिका में खाली छोड़ा हुआ पृष्ठ या उसके अंश को स्पष्ट रूप से काटा जाना चाहिए ।

खण्ड A

Q1. निम्न्लिखित को स्पष्ट कीजिए (प्रत्येक लगभग 150 शब्दो में :)

(a) अपवाद-आधारित प्रबंधन
(b) जवाबदेही का सिद्धान्त
(c) सशक्तीकृत संगठन
(d) विशेषक थियोरी
(e) जनता का मानवद्वेषी कठपुतलीकरण

Q2. (a) “संगठनात्मक थियोरी के आलोचकों का विचार है कि संगठन की आधुनिक थियोरी ‘नई बोतल में पुरानी शराब की तरह है।' इस कथन का परीक्षण कीजिए।
(b) संगठन परिवेश उद्यम की सफलता या असफलता का निर्णय करता है। क्या आप इससे सहमत हैं? अपने उत्तर के समर्थन में तर्क दीजिए।
(c) आभासी संगठन, संगठन की तेजस्विता एवं संवृद्धि पर बल देता है। सविस्तार स्पष्ट कीजिए।

Q3. (a) अभिप्रेरण की थियोरियाँ एक-दूसरे की प्रतियोगी नहीं हैं, उनका एकीकरण करने के लिए उनके परस्पर संबंधों को समझना आवश्यक है। इसके लिए कदमों का सुझाव दीजिए।
(b) “गुणता चक्र संगठन की उत्पादकता पर नितान्त कम या बिलकुल भी नहीं प्रभाव दिखाता है। क्या आप इससे सहमत हैं? इसे अपेक्षाकृत अधिक अनुक्रियाशील और प्रभावी बनाने के लिए एक ढाँचे का सुझाव दीजिए।
(c) “नेतृत्व शून्यता दोधारी तलवार के समान कार्य करती है। इस कथन के क्या निहितार्थ हैं?

Q4. (a) उद्देश्य-आधारित प्रबंधन के तकनीक की व्याख्या कीजिए। इसे अधिक प्रभावी बनाने के लिए सुझाव दीजिए।
(b) प्रबंधन को अपनी नीतियाँ निर्धारित करने में जिन आन्तरिक एवं बाह्य परिवर्तनों को ध्यान में रखना आवश्यक होता है, उनको स्पष्ट कीजिए।
(c) आधुनिक संगठन में सूत्र तथा मंत्रणा प्रकार्य असंबद्ध होते हैं। क्या आप इससे सहमत हैं? टिप्पणी कीजिए।

खण्ड-B

Q5. निम्नलिखित को स्पष्ट कीजिए (प्रत्येक लगभग 150 शब्दों में) :

(a) कार्य-मनोवृत्तपरक विधि ।
(b) 360° प्रतिपुष्टि प्रणाली
(c) योग्यता कोटिनिर्धारण बनाम कार्य कोटिनिर्धारण
(d) हड़ताल बनाम तालाबन्दी
(e) अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन (आई० एल० ओ०)

Q6. (a) “यह तथ्य अब सर्वमान्य हो गया है कि दीर्घ अवधि में प्रशिक्षण न देने की लागत, प्रशिक्षण देने की लागत से सदैव अधिक होती है तथा किसी संगठन में प्रशिक्षण क्रियाकलाप जितना अधिक होगा उतना ही उसकी उपयोगिता के विषय में सन्देह कम होगा।'' टिप्पणी कीजिए।
(b) “किसी भी संगठन में हम कार्यों के लिए भुगतान करते हैं न कि मनुष्यों के लिए।'' क्या आप इससे सहमत हैं? उद्योग में कार्य-मूल्यांकन किस प्रकार मानवीय संबंधों को प्रभावित करता है?
(c) कल्पना कीजिए कि मध्य-प्रबंधन में एक रिक्त स्थान की पूर्ति के लिए आपकी फर्म संगठन से बाहर चली गई है, यद्यपि इसकी घोषित नीति अंदर से ही प्रोन्नति करने की है। एक कर्मचारी ने नीति के आधार पर इस कार्रवाई को चुनौती दी है। इसका क्या उपयुक्त उत्तर हो सकता है?

Q7. (a) “भारतीय मजदूर संघ आन्दोलन अपने स्वयं के विरचन के प्रयोजन को पूरा करने में विफल रहा है।'' इस कथन के प्रकाश में, भारत में मजदूर संघों के प्रकार्यण को सुधारने के लिए एक सुझावात्मक ढाँचे का विकास कीजिए।
(b) एक सन्तोषजनक मजदूरी प्रणाली के क्या अत्यावश्यक तत्त्व होते हैं? मजदूरी अदायगी की विभिन्न विधियों को संक्षेप में स्पष्ट कीजिए और प्रत्येक विधि के गुण-दोषों पर चर्चा कीजिए।
(c) “पारस्परिक विश्वास संगठन में सामूहिक सौदेबाजी के लिए एक मुख्य कुंजी होती है।'' टिप्पणी कीजिए।

Q8. (a) “औद्योगिक लोकतंत्र के साधनों में से एक प्रबंधन में श्रमिक भागीदारी है। इस कथन पर टिप्पणी कीजिए तथा श्रमिक भागीदारी को अधिक प्रासंगिक और प्रभावी बनाने के लिए सुझाव प्रस्तुत कीजिए।
(b) कर्मचारी चयन क्या है? कर्मचारियों के चयन के प्रक्रम में उपयोग किए जा रहे विभिन्न प्रकारों के परीक्षणों को समझाइए।
(c) कारोबारी उद्यमों पर मानव संसाधन बहिर्मोतन (आउटसोर्सिंग) के प्रभाव का परीक्षण कीजिए। इसे अधिक प्रासंगिक और प्रभावी बनाने के लिए उपयुक्त उपाय सुझाइए।

Click Here to Download PDF

DOWNLOAD UPSC मुख्य परीक्षा Main Exam GS सामान्य अध्ययन प्रश्न-पत्र PDF

DOWNLOAD UPSC MAINS GS 10 Year PAPERS PDF

DOWNLOAD UPSC MAINS GS SOLVED PAPERS PDF

Printed Study Material for IAS Mains General Studies

UPSC सामान्य अध्ययन प्रारंभिक एवं मुख्य परीक्षा (Combo) Study Kit

सामान्य अध्ययन सिविल सेवा मुख्य परीक्षा अध्ययन सामग्री (GS Mains Study Kit)

(Download) संघ लोक सेवा आयोग सिविल सेवा - मुख्य परीक्षा (वाणिज्य एवं लेखाविधि) (Paper - 1) - 2017


संघ लोक सेवा आयोग सिविल सेवा - मुख्य परीक्षा
(Download) UPSC IAS Mains Exam Paper - 2017 : वाणिज्य एवं लेखाविधि (Paper - 1)


वाणिज्य एवं लेखाविधि
(प्रश्न पत्र - I)

निर्धारित समय : तीन घंटे

अधिकतम अंक : 250

प्रश्न-पत्र सम्बन्धी विशेष अनुदेश

कृपया प्रश्नों के उत्तर देने से पूर्व निम्नलिखित प्रत्येक अनुदेश को ध्यानपूर्वक पढ़े :

इसमें आठ (8) प्रश्न हैं जो दो खण्डों में विभाजित हैं तथा हिन्दी और अंग्रेज़ी दोनों में छपे हैं ।

परीक्षार्थी को कुल पाँच प्रश्नों के उत्तर देने हैं।

प्रश्न संख्या 1 और 5 अनिवार्य हैं तथा बाकी में प्रत्येक खण्ड से कम-से-कम एक प्रश्न चुनकर किन्हीं तीन प्रश्नों के उत्तर दीजिए । प्रत्येक प्रश्न/भाग के अंक उसके सामने दिए गए हैं ।

प्रश्नों के उत्तर उसी प्राधिकृत माध्यम में लिखे जाने चाहिए जिसका उल्लेख आपके प्रवेश-पत्र में किया गया है, और इस माध्यम का स्पष्ट उल्लेख प्रश्न-सह-उत्तर (क्यू.सी.ए.) पुस्तिका के मुख-पृष्ठ पर निर्दिष्ट स्थान पर किया जाना चाहिए । प्राधिकृत माध्यम के अतिरिक्त अन्य किसी माध्यम में लिखे गए उत्तर पर कोई अंक नहीं मिलेंगे।

प्रश्नों में शब्द सीमा, जहाँ विनिर्दिष्ट है, का अनुसरण किया जाना चाहिए ।

जहाँ आवश्यक हो, आरेख / चित्र उत्तर के लिए दिए गए स्थान में ही दर्शाइए ।

प्रश्नों के उत्तरों की गणना क्रमानुसार की जाएगी । यदि काटा नहीं हो, तो प्रश्न के उत्तर की गणना की जाएगी चाहे वह उत्तर अंशतः दिया गया हो । प्रश्न-सह-उत्तर पुस्तिका में खाली छोड़ा हुआ पृष्ठ या उसके अंश को स्पष्ट रूप से काटा जाना चाहिए ।

खण्ड A

Q1. निम्नलिखित में से प्रत्येक का उत्तर लगभग 150 शब्दों में दीजिए :

(a) विदेशी मुद्रा लेनदेनों से सम्बन्धित भारतीय लेखाकरण मानकों के प्रावधानों का कथन कीजिए ।
(b) कम्पनियों के आन्तरिक पुनर्निर्माण एवं बाह्य पुनर्निर्माण के बीच विभेदन कीजिए ।
(c) ‘उत्तरदायित्व केन्द्र को परिभाषित कीजिए । इसके विभिन्न प्रकारों को स्पष्ट कीजिए ।
(d) सेवा कर’ पर एक टिप्पणी लिखिए ।
(e) अग्रिमों का सत्यापन करना बैंक के लेखापरीक्षक का एक महत्त्वपूर्ण प्रकार्य होता है ।” समझाइए ।

Q2. (a) राकेश लि. एवं लोकेश लि. के 31.12.2013 को तुलन-पत्र निम्नलिखित थे :

राकेश लि. ने लोकेश लि. का 1.7.2014 को विलयन किया। अधिकार में लेने वाली तारीख को लोकेश लि. का तुलन-पत्र तैयार नहीं किया गया था। लेकिन आपको निम्नलिखित जानकारियाँ उपलब्ध कराई जाती हैं :

(i) 30.8.2014 को अंत होने वाले छह महीनों में लोकेश लि. ने स्थिर सम्पत्तियों पर 10% वार्षिक दर से मूल्यह्रास का प्रावधान करने के बाद इ 60,000 का निवल लाभ अर्जित किया ।
(ii) उसी अवधि में राकेश लि. ने स्थिर सम्पत्तियों पर 10% वार्षिक दर से मूल्यह्रास लगाने के पश्चात् इ 1,45,000 का निवल लाभ अर्जित किया ।
(iii) 1,4.2014 को दोनों कम्पनियों ने 10% लाभांश वितरित किया था।
(iv) अधिकार में लेने वाली तिथि को लोकेश लि. का अनुमानित सुनाम (गुडबिल) र 25,000 था तथा यह सहमति हुई कि अधिकार में लेने वाली तिथि को लोकेश लि. के स्टॉकों की ३ 15,000 से मूल्यवृद्धि की जाएगी ।
(v) राकेश लि, के द्वारा लोकेश लि. को अधिकार लेने वाली तिथि पर शेयरों के अंतर्जात मूल्य के आधार पर शेयरों का निर्गमन करना है ।

आमेलन के पश्चात् राकेश लि. का तुलन-पन्न तैयार कीजिए ।

(b) विभेदक लागत विश्लेषण, निर्णयन में किस प्रकार सहायक होता है ?
(c) आय कर अधिनियम, 1961 के अधीन कराधेय आय के अभिकलनं पर आवासिक प्रस्थिति का अपना प्रभाव होता है।” चर्चा कीजिए।

Click Here to Download PDF

Q3. (a) एक कम्पनी, जो दो उत्पाद बनाती है, एक बर्ष के लिए निम्नलिखित आँकड़े प्रस्तुत करती हैं :

वार्षिक उपरिव्यय निम्नलिखित हैं :

मात्रा सम्बन्धित गतिविधि लागते - 5,50,000
सेट-अप सम्बन्धित लागते - 8,20,000
क्रय सम्बन्धित लागते - 6,18,000

आपको

(i) उपरिव्यय को प्रभारित करने की पारंपरिक विधि
(ii) क्रियाकलाप आधारित लागत निर्धारण विधि के आधार पर प्रत्येक उत्पाद ‘क’ और ‘ख’ की प्रति इकाई लागत का परिकलन करना है ।

(b) मूल्यह्रास के लिए लेखाकरण पर भारतीय लेखाकरण मानकों के प्रावधानों पर चर्चा कीजिए।
(c) श्रीमान 'x' दो गृह सम्पत्तियों 'A' और 'B' के स्वामी हैं । उनके द्वारा सम्पत्ति 'A' का प्रयोग स्वयं रहने के लिए किया जाता है जबकि सम्पत्ति ‘B' पूरे वित्तीय वर्ष 2016-17 के लिए किरायेदार को र 15,000) मासिक किराये पर दी जाती है । सम्पत्तियों के सम्बन्ध में अन्य विवरण निम्नलिखित हैं :

निम्नलिखित अतिरिक्त सूचनाएँ उपलब्ध हैं :
(i) सम्पत्ति 'T' के निर्माण के लिए, लिए गए गृह ऋण पर के 1,20,000 के व्याज में से31.3.2017 को है 30,000 का ब्याज बकाया देय था ।
(ii) श्रीमान 'x' र 50,000 प्रति माह के वेतन पर और के 10,000 प्रति माह यात्रा भत्तेपर ए.बी.सी. लि. द्वारा नियुक्त किए गए थे।
(iii) उसने वर्ष के दौरान ३ 1,50,000 का दान एक धर्मार्थ ट्रस्ट को, जो आय करअधिनियम, 1961 की धारा 80C के अधीन अनुमोदित हैं, दिया ।
(iv) उसने वर्ष के दौरान र 7,500 अपने स्वास्थ्य परीक्षण पर खर्च किए । आपको कर निर्धारण वर्ष 2017-18 के लिए, श्रीमान 'x' की कुल कराधेय आय का अभिकलन करना है।

Q4. (a) एक बैंक को अपने एक ग्राहक से कर्ज़ के लिए एक आवेदन प्राप्त हुआ है । आपको बैंक की ओर से उस ग्राहक के लेखाओं की जाँच-पड़ताल करनी है । उन बिन्दुओं पर प्रकाश डालिए जिन पर आप अपना ध्यान केंद्रित करना चाहेंगे।
(b) ‘प्रसामान्य अपव्यय’, ‘अपसामान्य अपव्यय और अपसामान्य प्रभाविता' को परिभाषित कीजिए । बताइए कि प्रक्रम लागत-निर्धारण में इनको किस प्रकार निरूपित किया जाता है ।
(c) श्रीमान 'A' ने अपने पिता से जनवरी 2015 में एक आवासीय गृह का उत्तराधिकार प्राप्त किया । इस मकान को उनके पिता ने वर्ष 1979 में 70,000 की लागत पर खरीदा था । श्रीमान 'A' ने मकान को जून 2016 में इ 17,00,000 के प्रतिफल पर बेचा और पंजीकृत मूल्यांकक ने इस मकान का मूल्यांकन 1.4.1981 को है 1,00,000 किया । लागत मुद्रास्फीति सूचकांक (सी.आई.आई.) निम्नलिखित है :

वित्तीय वर्ष      सी.आई.आई.
1981 - 82           100
2015-16            1000
2016 - 17          1200

कर निर्धारण वर्ष 2017 - 18 के लिए पूँजी अभिलाभ से आय की गणना कीजिए । पूँजी अभिलाभ पर कर को बचाने के लिए श्रीमान *A' के द्वारा लिए जाने वाले कदम, यदि कोई हैं, का सुझाव भी दीजिए ।

खण्ड - B

Q5. निम्नलिखित में से प्रत्येक का उत्तर लगभग 150 शब्दों में दीजिए।

(a) “वित्तीय प्रबन्धन का लक्ष्य लाभ अधिकतमीकरण होता है ।” समालोचनापूर्वक परीक्षण कीजिए।
(b) वित्तीय निर्णयों में जोखिम-परिलब्धि के बीच संतुलन स्थापना पर चर्चा कीजिए।
(c) मुद्रा बाज़ार और पूँजी बाज़ार के बीच विभेदन कीजिए ।
(d) कम्पनियों के विलय में विनिमय अनुपात को निर्धारित करने की विभिन्न विधियों की विवेचना कीजिए।
(e) जेम्स बाल्टर के द्वारा प्रतिपादित किए गए मूल्यांकन फॉर्मूले का कथन कीजिए । इसके पीछे तर्क की भी व्याख्या कीजिए ।

Q6. (a) एक कम्पनी ‘मिक्सर' की 2600 इकाइयाँ प्रति वर्ष र 2,000 प्रति इकाई की दर से बेचती है । प्रति इकाई लागत के बिवरण निम्नलिखित हैं:

कच्चा माल एवं पैकिंग सामग्री   800
प्रत्यक्ष मज़दूरी               400
उपरिव्यय खर्चे               400

उपरिव्यय खर्चा में मूल्यह्रास के 2.60 लाख भी सम्मिलित हैं । साप्ताहिक आधार पर पूरे वर्ष उत्पादन समान रूप से बना रहता है । सभी विक्रय उधार पर होते हैं । प्रक्रम के प्रारम्भ में सामग्री का प्रवेश किया जाता है ।

निम्नलिखित अतिरिक्त जानकारी भी उपलब्ध हैं :

कच्चा माल एवं पैकिंग सामग्री भंडार में - 4 सप्ताह
चालू कार्य (सामग्री 100%, श्रम एवं उपरिव्यय 50%) - 1 सप्ताह
निर्मित माल - 1 सप्ताह
देनदारों को उधार की अनुमति - 6 सप्ताह
सप्लायर द्वारा उधार की अनुमति - 4 सप्ताह
बनाए रखा जाने वाला नकद शेष  60,000 है ।
कम्पनी के लिए निवल कार्यशील पूँजी आवश्यकता को परिकलन कीजिए

(b) पूँजी बाज़ार के विनियमन में 'सेबी' की भूमिका की विवेचना कीजिए ।
(c) पूँजी राशनिंग' को परिभाषित कीजिए । पूँजी राशनिंग पैदा करने वाले कारकों की व्याख्या कीजिए तथा पूँजी राशनिंग की स्थितियों को भी बताए ।

Q7. (a) 31.3.2016 को समाप्त होने वाले वर्ष के लिए एल्फा कम्पनी लि.' से सम्बन्धित जानकारी निम्नलिखित हैं :

ईक्विटी शेयर पूँजी (प्रत्येक  10) - 50 लाख
12% बाँड प्रत्येक 1,000 का विक्रय -  37 लाख
स्थिर लागत (ब्याज को छोड़कर) - 6.96 लाख
वित्तीय लीवरेज - 11
लाभ मात्रा अनुपात - 27.55%
लागू आय कर - 40%

(i) प्रचालन लीवरेज
(ii) संयुक्त लीवरेज
(iii) प्रति शेयर अर्जन

(b) उधार प्रबंधक के द्वारा प्राप्य लेखाओं की प्रस्थिति और संघटन के अनुवीक्षण में इस्तेमाल की | जाने वाली तकनीकों को स्पष्ट कीजिए।
(c) कॉमर्शियल पेपर के महत्त्व को और उसके निर्गमन के लिए। पूर्व-शर्तों को स्पष्ट कीजिए।

Q8. (a)

       
      
निम्नलिखित अतिरिक्त सूचनाएँ उपलब्ध हैं :

(i) 2014 - 15 वित्तीय वर्ष में कम्पनी ने सम मूल्य पर ईक्विटी शेयरों का निर्गमन किया ।
(ii) ऋणपत्रों का 1.4.2014 को 10% प्रीमियम पर विमोचन किया गया ।
(iii) कुछ निवेशों को है 75,000 के लाभ पर बेचा गया था और लाभ को सामान्य | आरक्षित निधि लेखा में क्रेडिट किया गया ।
(iv) वर्ष में है 23,50,000 की लागत वाली पुरानी मशीन को ३ 6,25,000 में बेची गया । ह्वासित मूल्य र 8,00,000 था ।
(v) संयन्त्र एवं मशीनरी के प्रारम्भिक शेष पर 20% मूल्यह्रास लगाना है ।
(vi) भूमि एवं भवन का कोई क्रय या विक्रय नहीं था।
(vii) वर्ष के दौरान के 4,50,000 का कर प्रावधान किया गया था।

31.3.2015 को समाप्त होने वाले वर्ष के लिए, आपको नकदी प्रवाह विवरण तैयार करना है ।

(b) 'अनुकूलतम पूँजी संरचना को परिभाषित कीजिए । फर्म की अनुकूलतम पूँजी संरचना के नियोजन में मुख्य विचारों की विवेचना कीजिए ।
(c) निम्न्लिखित लेखाकरण अनुपातों के महत्व को समझाएं :

(i) ऋण इक्विटी
(ii) तत्काल (साख निर्धारण ) अनुपात
(iii) मालसूची आवर्त अनुपात
(iv) परिचालन मुनाफा अनुपात
(v) चालू अनुपात

 

Click Here to Download PDF

DOWNLOAD UPSC मुख्य परीक्षा Main Exam GS सामान्य अध्ययन प्रश्न-पत्र PDF

DOWNLOAD UPSC MAINS GS 10 Year PAPERS PDF

DOWNLOAD UPSC MAINS GS SOLVED PAPERS PDF

Printed Study Material for IAS Mains General Studies

UPSC सामान्य अध्ययन प्रारंभिक एवं मुख्य परीक्षा (Combo) Study Kit

सामान्य अध्ययन सिविल सेवा मुख्य परीक्षा अध्ययन सामग्री (GS Mains Study Kit)

Pages

Subscribe to RSS - trainee5's blog